इस गांव में आप जितना चाहें उतना दूध मुफ्त में पा सकते हैं

Admin
1
Dearness (महंगाई) और Marketing (मार्केटिंग) के इस दौर में जहां मुफ्त में पानी भी नहीं मिलता, भारत के गोवालिया में एक ऐसा गांव है जहां Free Milk (दूध मुफ्त) में मिलता है और बस आपको यही चाहिए। क्योंकि इस गांव में सदियों से दूध की बिक्री पर रोक लगी हुई है। इसके अलावा, 90% गाँव में चरवाहों का निवास है।

इस गांव में आप जितना चाहें उतना दूध मुफ्त में पा सकते हैं



यहां के लोग दूध के लिए पैसे लेने के बारे में सोचते तक नहीं। इस अनोखे गांव का नाम है चुड़िया, जहां करीब 100 साल से यह परंपरा चली आ रही है। इस गांव के हर घर में एक पालतू गाय है और रोजाना 2.5 लीटर दूध का उत्पादन होता है। फिर भी लोग मुफ्त में दूध देते हैं।

यह दुनिया का एक अनोखा गांव है, जहां लोग चलते-चलते सो जाते हैं और महीनों बाद जागते हैं

हमें भी रोज एक गिलास दूध पीने के लिए पैसे खर्च करने पड़ते हैं, लेकिन मध्य प्रदेश का चूड़िया गांव एक ऐसी जगह है जहां आपको दूध के लिए पैसे नहीं देने पड़ते। आप इस गांव से जितना चाहें उतना Milk Free (दूध मुफ्त) में प्राप्त कर सकते हैं। क्योंकि गोवालिया के इस गांव में दूध बेचने पर पाबंदी है। ग्रामीणों का मानना ​​है कि 100 साल पहले गांव के एक संत ने यहां दूध की बिक्री पर रोक लगा दी थी, जिसे लोग आज भी कायम रखे हुए हैं।

इस गांव में आप जितना चाहें उतना दूध मुफ्त में पा सकते हैं

यही कारण से दूध मुफ्त में मिलता है

ग्रामीणों का कहना है कि 1912 में इस गांव में एक संत रहते थे जो बहुत बड़े गौसेवक थे। उन्होंने ग्रामीणों को सलाह दी कि मिलावटी दूध बेचना पाप है, इसलिए गांव में कोई भी दूध नहीं बेचेगा और लोगों को मुफ्त दूध दिया जाएगा। संत का वचन पत्थर पर लिखा हुआ पाठ साबित हो रहा है और आज भी 100 साल बाद भी गांव में दूध मुफ्त में मिलता है।

इस गांव में आप जितना चाहें उतना दूध मुफ्त में पा सकते हैं

सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि यहां के 90% लोग चरवाहे हैं जिनके पास बहुत सारी गायें हैं। वे चाहें तो हर दिन हजारों लीटर दूध बेचकर भारी मुनाफा कमा सकते हैं, लेकिन परंपराओं के कारण उनके दिलों का लालच हमेशा के लिए खत्म हो जाता है।

इस गांव की सिर्फ यात्रा कर लो हो जायेंगे माला माल !

गांव की है एक और अनोखी परंपरा

इस गांव में सिर्फ दूध ही नहीं बल्कि आम और बैंगनी जैसे फल भी मुफ्त में मिलते हैं। कहा जाता है कि यहां आकर जिसने भी दूध का व्यापार करने की कोशिश की, वह बर्बाद हो गया। इसलिए यहां दूध बेचने का विचार किसी के पास नहीं आता। संत की आज्ञा को अपनी नियति मानकर गांव के लोग आज भी खुशी-खुशी लोगों की सेवा कर रहे हैं।

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

1Comments
  1. हर रोज आधा लीटर दुध चुडीया गाव में उत्पादन??? लीखने में गलती है।

    ReplyDelete
Post a Comment