इस गांव की सिर्फ यात्रा कर लो हो जायेंगे माला माल ! जाने पूरी कहानी

Admin
0
इस गाँव के यात्रा करने से जीवन आर्थिक समृद्धि से परिपूर्ण हो जाता है


हमारा देश अद्भुत मंदिरों और रहस्यमयी कहानियों का देश है। कही वर्षो की मनोकामना पूर्ण होती है और संतान की सुख प्राप्त होता है और कही मंदिर या मस्जिद की चौखट में सीर जुका ने से जीवनसाथी मिल जाता है। ऐसा ही एक गाँव है जहा एक शिव मंदिर है, जहाँ शिकायत करने वाले भक्त माँ लक्ष्मी पर इतनी कृपा करते हैं कि उन्हें कभी भी रुपये की कमी नहीं रहती।

Travel : छुट्टी में विदेश (Foreign) घूमना चाहते हैं? तो देखें, यह सस्ता और बढ़िया विकल्प


भारत का सबसे अंतिम गाँव कहा जाने वाला मानसा। इस गांव में एक शिव मंदिर है जिसके पीछे की कहानी के अनुसार, भगवान शिव के एक महान भक्त थे। वह एक बड़ा व्यापारी था और हर क्षण शिव के नाम का जाप किया करता था। इस वजह से, शिव उनसे बहुत प्रसन्न थे।

कहानी के अनुसार, मानसा गाँव का एक व्यापारी माणिक शाह एक बार व्यापार के लिए पैसे लेकर निकला, जहाँ लुटेरों ने उसे लूट लिया और उसकी गर्दन काट दी। हालाँकि, माणिक शाह शिव का ऐसा भक्त था कि सिर कट जाने के बाद भी उसका सिर शिव-शिव बोलता रहा।

भगवान उनकी भक्ति से प्रसन्न हुए, और वराह का सिर भगवान ने धड़ से जोड़ दिया। साथ ही, उन्होंने आशीर्वाद दिया कि जो भी मानसा गाँव आएगा, उसके सभी संकट दूर हो जाएँगे और उस पर माँ लक्ष्मी की बड़ी कृपा होगी।

Travel : Statue Of Unity के आसपास घूमने के लिए कई अन्य स्थान के बारे में जानिए


मानिक शाह की भक्ति से प्रसन्न शिवजी, माणसा गाँव में मणिभद्र के रूप में पूजे जाते हैं। इस शिव मंदिर में आने वाले पर्यटकों की आवश्यकता होती है। ऐसा माना जाता है कि माँ लक्ष्मी यहाँ सभी भक्तों को आशीर्वाद देती हैं। उनके पास जीवन भर के लिए धन एवम अनाज की कमी कभी नहीं रहती।

उत्तराखंड का माना चमोली के पास एक छोटा सा गाँव है। जो भारत तिब्बत सीमा पर आता है। शिव मंदिर के अलावा, एक गुफा है जहाँ महर्षि वेदव्यास ने भगवान गणेश को महाभारत सुनाई थी।

https://www.barobarche.in/2019/12/facts-indias-last-village-secret.html

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)