सूरत में पकड़ा गया बड़ा मानव तस्करी रैकेट ! 125 बच्चों को छुड़ाया गया

Admin
0


सूरत के पूणा गाम विस्तार में बाल तस्करी रैकेट सामने आया इस रैकेट में 125 से अधिक बच्चे मिले है.  राजस्थान और दिल्ली पुलिस ने एक संयुक्त अभियान चलाया और गुजरात पुलिस की मदद भी मांगी। राजस्थान बाल आयोग द्वारा मामले को निपटाया जा रहा है। 10 से 16 वर्ष की आयु के बच्चों की तस्करी की जाती थी।


जिन बच्चों को मिले है उनमें से ज्यादातर दक्षिण राजस्थान के ग्रामीण इलाकों के हैं। एक कमरे में 25 बच्चों को रखे जाने का खुलासा पुलिस की कार्रवाई के बाद हुआ है। बच्चों को लालच देकर सूरत लाया गया। बच्चों के पास सूरत में मजदूरी काम कराते  थे। गुजरात और राजस्थान के दलाल बच्चों को सूरत ले आए। रैकेट का खुलासा करने के लिए पुलिस टीम द्वारा 10 से 15 दिनों तक रैकेट का इस्तेमाल किया गया था।

Gujarat News : सूरत की किशोरी अहमदाबाद में 70 हजार में बिकी ! गुजरात कितना सुरक्षित

बच्चों को भेड़ की तरह रखा गया था


सूरत के पुणे में, बड़ी संख्या में बच्चों की तस्करी का मामला सामने आया। सर्वेक्षण में 10-16 वर्ष की आयु के बच्चों को पाया गया। एक कमरे में लगभग 25-25 बच्चे रखे गए थे। बच्चों को खाने की भी अनुमति नहीं थी

मानव तस्करी का शिकार कौन बनता है?


मानव तस्करी का उपयोग देह व्यापार में धकेलने के लिए भी किया जाता है। कई भारतीय राज्यों में मानव तस्करी की समस्या गंभीर हो गई है। गरीबी और निराश लोग असुरक्षित यात्रा के लिए तैयार हो जाते हैं। अवसाद और गरीबी मानव तस्करी का शिकार बनाते हैं। महिलाओं और युवतियों को यौन शोषण का शिकार होना पड़ता है। तस्करों को अक्सर पहले शादी करने का प्रलोभन दिया जाता है। नौकरी और काम देकर भी तस्करी होती है। गरीब परिवार और गरीब बच्चे अधिक शिकार बनते हैं। नौकरियों और अन्य प्रलोभनों को दूसरे शहर या राज्य में भेजा जाता है। तस्करी में शामिल लोगों की तलाश अक्सर होती है। वास्तविकता का एहसास होने में बहुत देर हो चुकी है। कानून प्रवर्तन और पुलिस मानव तस्करी को गंभीरता से रोक सकती है। गैर-सरकारी संगठन भी मानव तस्करी को सक्रिय रूप से रोक सकते हैं।

News (सामाजिक और गुप्त सवालो से है परेशान तो ये अप्प्स करेगा आपकी हेल्प)

100 से अधिक बच्चों को रिहा किया गया


पुलिस ने मानव तस्करी के शिकार 100 से अधिक बच्चों को मुक्त कराया है। अधिकांश बच्चे अनाथ पाए गए। परिवार में कई बच्चे काम करते हैं क्योंकि कोई कमाने वाला नहीं है। सभी बच्चे राजस्थान, गुजरात की सीमा के पास के रहने वाले हैं।

अभी पूछताछ जारी जल्दी ही बच्चो को उनके माता पिता के बारे में पूछा जायँगे और बाद में उसके माता पिता को बुलाकर उसे सौप दिया जायँगे। ये खबर से पता चलता  है सूरत में कितने बड़े पायमाने में मानव तस्करी का रैकेट का पर्दाफास हुआ.

कृपया सावधानी बरते और दूसरे लोगो को भी आगाह करे ताकि लोग सतर्क रहे


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)