सोने की पोजीशन से जानिए अपना मिजाज ! 100 % सच

Admin
0

दुनिया भर के मनोवैज्ञानिकों और विशेषज्ञों ने हमारी नींद की स्थिति और हमारे व्यक्तित्व के बीच संबंध स्थापित करने के लिए कई अध्ययन किए हैं। Sleep Positions हमारा अवचेतन मन एक पावर हाउस है, जो यह निर्धारित करता है कि हम दिन में कैसे काम करते हैं, हम कैसे चलते हैं, हम कौन सी कॉफी ऑर्डर करते हैं, हम कैसे सोते हैं आदि। बहुत ही रोचक शोध से पता चला है कि हमारी सोने की आदतें हमारे व्यक्तित्व के बारे में बहुत कुछ बताती हैं। नींद की स्थिति और व्यक्तित्व लक्षणों के बीच संबंधों को समझने के लिए नींद शोधकर्ताओं ने बहुत सारे शोध किए हैं।

सोने की पोजीशन से जानिए अपना मिजाज ! 100 % सच


नींद विज्ञान यह साबित करने में मदद करता है कि नींद हमारे व्यक्तित्व लक्षणों के बारे में बताती है, जिसे सनकीपन, कर्तव्यनिष्ठा, बहिर्मुखता, सहमतता के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है। यूरोपियन जर्नल ऑफ पर्सनैलिटी बताती है कि आपके सोने का तरीका आपके अगले पांच साल के बारे में बताता है।

सीधे लेट जाओ

यदि आप पीठ कर के सोते हैं, तो आपका व्यक्तित्व कहता है कि आप ध्यान का केंद्र बनना पसंद करते हैं। आप एक आशावादी व्यक्ति हैं जो समान विचारधारा वाले लोगों की संगति का आनंद लेंगे। आप छोटी-छोटी बातों में उन चीजों को शामिल करने की अनुमति नहीं देते हैं जो आपके मन को संतुष्ट नहीं करती हैं। आप वास्तव में खुद से ज्यादा दूसरों से उम्मीद करते हैं। आप अपने गुणों को प्राप्त करने के लिए बहुत सावधान और दृढ़ हैं। आप एक सफल मानसिकता के साथ संतुलित जीवन जीते हैं। आप अपनी योजनाओं को हकीकत में बदलते हुए देखते हैं।

एक स्वतंत्र दिमाग वाला व्यक्ति ही सोने की ऐसी शाही स्थिति को अपना सकता है। जो लोग इस तरह सीधे सोते हैं उनके व्यक्तित्व में "रानी" या "राजा" की तरह एक शाही गुण होता है। वे आत्मविश्वास और स्वतंत्रता का परिचय देते हैं।

गुजरात के इस कैफ़े में खाना खाएं बिलकुल फ्री - जाने कहा है कैफ़े

अपनी तरफ लेट जाओ

अगर आप करवट लेकर सोते हैं तो आपका व्यक्तित्व बताता है कि आप शांत, भरोसेमंद, सहज, सक्रिय, सामाजिक किस्म के व्यक्ति हैं। आपको अपने अतीत पर पछतावा नहीं है। आप भविष्य से नहीं डरते। आप अधिक अनुकूलनीय हैं और किसी भी बदलाव या स्थिति से बिल्कुल भी नहीं डरते हैं। आप अपनी ताकत और कमजोरियों से अवगत हैं। इसलिए आपको चोट पहुंचाना आसान नहीं है। मुश्किलों में भी आपके चेहरे पर हमेशा मुस्कान बनी रहती है।

जो लोग अपने पैरों के बीच तकिए के साथ करवट लेकर सोते हैं वे बहुत मददगार व्यक्तित्व वाले होते हैं। आपका अपने करीबी दोस्तों या परिवार के सदस्यों के साथ गहरा रिश्ता है। सबसे अधिक संभावना है कि वे अपने साथी या परिवार के सदस्यों को गले लगाकर या अपने पैरों और बाहों को अपने ऊपर रखकर सोएं। आपका बहुत ही पोषण और देखभाल करने वाला व्यक्तित्व है।

संकुचन के साथ सोएं

यदि आप कसकर सोते हैं, तो आपका व्यक्तित्व कहता है कि आप अपने रिश्तों में सुरक्षा चाहते हैं और समझने की इच्छा रखते हैं। आप अन्य लोगों की इच्छाओं से अवगत हैं। अनुबंधित नींद की स्थिति गर्भ में बच्चों के समान होती है। एक अनुबंधित नींद की स्थिति में सोने से आपको मानसिक रूप से सांसारिक समस्याओं से दूर होने में मदद मिलती है। आप अपनी निजी जिंदगी को अपने तक ही सीमित रखें। आपको लोगों पर भरोसा करने में परेशानी होती है।

अगर कोई छिपकर सोता है तो वह सबसे ज्यादा अपने परिवार के सदस्यों या उनके पालन-पोषण में प्रमुख भूमिका निभाने वालों के बारे में महसूस करता है। आप शर्मीले, संवेदनशील, निर्दोष और स्पष्ट विवेक के साथ क्षमाशील हैं। आप अधिकतर कलाओं जैसे पेंटिंग, ड्राइंग, लेखन, नृत्य आदि में रुचि रखते हैं।

उल्टा लेट जाओ

यदि आप उल्टा सोते हैं, तो आपका व्यक्तित्व कहता है कि आप एक मजबूत इरादों वाले, जोखिम लेने वाले, साहसी, उत्साही, समस्या को सुलझाने वाले व्यक्ति हैं। आप नेतृत्व और सलाह देने में प्रभावी हैं। आप ऊर्जावान और ऊर्जावान रहने के लिए कम से कम 8 घंटे सोना पसंद करते हैं।

आप एक मिलनसार व्यक्ति हैं.. हालांकि कभी-कभी आपको ठंड और रूखापन महसूस होता है। आप हमेशा किसी भी विवाद या तर्क से बचने की कोशिश करते हैं। स्थिति कैसी भी हो, आप संतुलित समाधान खोजने की कोशिश करेंगे। आप लोगों के साथ सहानुभूति महसूस करते हैं। हालाँकि, आलोचना को संभालना आपकी सबसे अच्छी विशेषता है। क्योंकि आप अपने खुद के सबसे बड़े आत्म-आलोचक हैं।

पांव को बांधकर या कसकर सोना-

शास्त्रों के अनुसार, जो व्यक्ति अपने पांव कसकर और अपने शरीर को ढककर सोते हैं। ऐस लोगों का जीवन संघर्षों से भरा होता है। ऐसे लोग परिस्थितियों के अनुसार खुद को ढाल लेते हैं और उनकी सबसे बड़ी विशेषता इनका कुशल व्यवहार होता है। यह सभी से आसानी से जुड़ जाते हैं।

सीधे सोते हुए हाथों को पीछे रखकर सोना-

कहते हैं कि इस तरह की पोजीशन में सोने वाले इंसान ज्यादा से ज्यादा चीजों को जानने की इच्छा रखते हैं। इन्हें नया काम सीखने में खुशी मिलती है। यह परिवार से बेहद प्यार करते हैं।

एक दम चित्त सोना-

केवल सीधे लेटकर सोना शुभ माना जाता है। कहते हैं कि इस तरह के व्यक्ति आत्म विश्वास से परिपूर्ण होते हैं और अपनी समस्याओं का हल खुद और फौरन कर लेते हैं। ऐसे लोग परिवार के मुखिया होते हैं।

पीठ के बल सोते हुए पैरों को क्रास करके सोना-

कहा जाता है कि इस तरह सोने की जिन व्यक्तियों को आदत होती है, वह किसी काम को करते समय दूसरे के भले और बुरे के बारे में नहीं सोचते हैं। इनमें कड़ी मेहनत करने की क्षमता होती है।

दोनों पैरों को फैलाकर पीठ के बल सोना-

माना जाता है कि इस तरह की आदत वाले व्यक्ति अपने कामों को पूरी स्वतंत्रता के साथ करना चाहते हैं। यह जीवन में कई उपलब्धियों को हासिल करते हैं। जिन्हें सुख-सुविधाओं से कोई लगाव नहीं होता है। ऐसे लोग गॉसिप करना पसंद करते हैं।

हालाँकि, ध्यान रखें कि कोई भी जीवन भर एक ही स्थिति में नहीं सोता है। जैसे-जैसे हम अपने पूरे जीवन में विकसित होते हैं, हमारे अवचेतन मन नए लक्षणों को आत्मसात करते हैं या पुरानी आदतों को छोड़ देते हैं। हम व्यक्तियों के रूप में विकसित होते हैं। हम अपने बारे में बहुत सी नई चीजें सीखते हैं और अपने जीवन में इस समय के दौरान अपनी मानसिकता बदलते हैं। यदि आप एक से अधिक प्रकार की नींद की स्थिति में सोते हैं, तो यह दर्शाता है कि आप विभिन्न प्रकार के व्यक्तित्व लक्षणों को अपनाते हैं।

इस गांव में आप जितना चाहें उतना दूध मुफ्त में पा सकते हैं : Click here

किस करवट में सोना है बेस्ट?

अगर बाएं ओर मुंह करके सोते हैं तो इस करवट को बेस्ट माना जाता है क्योंकि ऐसा करने से शरीर भी रिलैक्स होता है और बहुत सारे लाभ भी देखने को मिल सकते हैं.

बाएं करवट में सोने से मिलने वाले लाभ

-इससे पेट की सेहत में सुधार देखने को मिलता है और अगर अक्सर पेट खराब या पाचन न होने जैसी समस्या से परेशान रहते हैं तो बाएं ओर करवट में सो कर देखें. इससे पाचन में काफी सुधार देखने को मिल सकता है.

-हाई ब्लड प्रेशर के मरीजों को भी बीपी लेवल कम करने में लाभ मिल सकता है.

-डायबिटीज और हार्ट अटैक जैसी बीमारियों का रिस्क कम किया जा सकता है.


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)