Asani Cyclone Live Update Tracker

Admin
0


विशेष राहत आयुक्त ने तूफान की संभावना पर कार्रवाई करने के लिए ओडिशा के 18 जिलों के कलेक्टरों के साथ बैठक की है।

Asani Cyclone Live Update Tracker

Cyclone Asani का असर देश के तटीय इलाकों में महसूस किया जा रहा है. चक्रवात आसनी को बचाने के लिए NDRF की 50 टीमों को प्रभावित क्षेत्रों में तैनात किया गया है। विभिन्न राज्यों के SDRF को भी अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दिए गए हैं।

मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट

मौसम विभाग ने कई इलाकों में भारी बारिश और बाढ़ का अलर्ट जारी किया है। NDRF के मुताबिक, 50 में से 22 टीमों को पश्चिम बंगाल, ओडिशा और आंध्र प्रदेश में तैनात किया गया है। बाकी 28 टीमें इन राज्यों में अलर्ट पर हैं।

इन राज्यों में NDRF की टीमें तैनात

पश्चिम बंगाल के तटीय जिले में बारह टीमों को तैनात किया गया है। जबकि आंध्र प्रदेश में 9 और ओडिशा के बालासोर में एक टीम को तैनात किया गया है। NDRF की 47 कर्मियों वाली एक टीम प्रभावित लोगों को बचाने और राहत अभियान शुरू करने के लिए पेड़ काटने वाले हथियारों, अन्य उपकरणों, रबर की नावों और बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाओं से लैस है।

Asani धीरे-धीरे कमजोर हो रहा है

भारतीय मौसम विभाग के निदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने कहा कि चक्रवात पूर्व-चक्रवात के स्तर पर पहुंच गया था और धीरे-धीरे कमजोर हो रहा था। उन्होंने कहा कि चक्रवाती तूफान बुधवार को कमजोर होगा, तूफान में बदलेगा और गुरुवार को भारी दबाव में बदल जाएगा।

Odisha (ओडिशा) में एक और Cyclone (चक्रवात) की संभावना के बाद सीटों की धड़कन शुरू हो गई है। राज्यों को ऐसी स्थितियों से निपटने के लिए विभिन्न निर्देश देकर सतर्क रहने की सलाह दी गई है। उन्होंने प्रशासन को भी सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए 18 जिलों के कलेक्टर को पत्र लिखा गया था कि कोई हताहत न हो और लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जाए।

आंध्र प्रदेश में चक्रवात आसनी की सूचना मिली है। आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम में आसनी के प्रभाव से भारी बारिश हुई, जिससे बार-बार बाढ़ आ गई। ओडिशा से लेकर आसनी तक आंध्र प्रदेश की तटीय सरकारें हाई अलर्ट पर हैं। चक्रवात समुद्र में बड़ी गड़बड़ी पैदा कर रहा है, जिससे मछुआरों को कुछ समय के लिए तट से दूर रहना पड़ रहा है। मौसम विभाग ने बताया कि चक्रवाती तूफान 10 मई की रात यानी आज रात उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ेगा। इसके बाद यह उत्तर-उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ता हुआ दिखाई देगा।

आंध्र प्रदेश तूफान से बुरी तरह प्रभावित

इंडिगो ने तूफान के कारण विशाखापत्तनम हवाईअड्डे पर पहुंचने वाली करीब 23 उड़ानें रद्द कर दी हैं। मौसम विभाग के अनुसार चक्रवात आसनी के कारण आंध्र प्रदेश के कई हिस्सों में 11 मई तक बारिश जारी रहेगी। इतना ही नहीं इससे तेज हवाएं भी चलेंगी। इसकी गति 40 से 60 किमी प्रति घंटा होगी। यह तूफान पश्चिम बंगाल में भी तबाही मचाएगा। कलकत्ता में भारी बारिश हो रही है। जिससे सार्वजनिक जीवन काफी व्यस्त हो गया है। कलकत्ता के कई इलाकों में बाढ़ आ गई है, जिससे लोगों को काफी परेशानी हो रही है।

ओडिशा में नाव पलटी

चक्रवात आसनी के कारण समुद्र में ऊंची लहरें उछल रही हैं। खतरे को देखते हुए मछुआरों को तट पर लौटने के लिए अलर्ट कर दिया गया है। बता दें कि ओडिशा में आज सुबह 6 नावों से 60 मछुआरों को वापस तट पर लाया गया. इस दौरान एक बड़ा हादसा हो गया। ऊंची लहरों के बीच नाव पलट गई। जिसके बाद अफरातफरी मच गई। हालांकि, उस समय रहने वाले मछुआरों को बचा लिया गया।

यह तस्वीर 24.9 अरब पिक्सल कैमरे से ली गई है - देखें फोटो

18 जिला कलेक्टरों के साथ बैठक करने का निर्देश

विशेष राहत आयुक्त ने 18 जिलों के कलेक्टरों के साथ बैठक कर सतर्क रहने का निर्देश दिया। विशेष राहत आयुक्त ने निर्देश दिया है कि इन जिलों में आपातकालीन कार्यालय और नियंत्रण कक्ष चौबीसों घंटे खुले रखे जाएं। लोगों को प्रभावित क्षेत्रों की पहचान कर निकासी पर विशेष ध्यान देने को कहा गया है। मिट्टी के घरों में रहने वाले लोगों को विशेष रूप से तटीय जिलों में खाली करने के लिए कहा गया है। विशेष राहत आयुक्त ने स्थानीय बीडीओ और तहसीलदारों को सुरक्षित ठिकाने या पक्के मकानों के साथ ही आश्रय स्थलों का निरीक्षण करने का निर्देश दिया है। प्रत्येक आश्रय की जिम्मेदारी दो पुरुष और एक महिला की होगी। इसमें आशा कार्यकर्ता या शिक्षक, कांस्टेबल या होमगार्ड शामिल हैं। यह भी जांच करने को कहा गया है कि शेल्टर में पानी, शौचालय, लाइट, जेनरेटर आदि की व्यवस्था है या नहीं।

60 से 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी हवा

उल्लेखनीय है कि अभी तक भारतीय मौसम विभाग की ओर से चक्रवात आसनी को लेकर कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दी गई है। हालांकि, चक्रवात आस के ओडिशा में उतरने की संभावना है। हालांकि संभावना के चलते यहां मौसम भी बदल रहा है। समुद्र धीरे-धीरे उबड़ खाबड़ होता जा रहा है। मौसम विभाग के अनुसार 12 से 36 घंटे के बीच क्षेत्र कम दबाव का क्षेत्र रहेगा। उत्तर से पश्चिम की ओर गति के साथ निम्न दबाव का क्षेत्र सघन दबाव में बदल जाएगा। शुक्रवार से मध्य बंगोप सागर में बारिश शुरू हो जाएगी। हवा 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी। ऐसे में भारतीय मौसम विभाग ने मछुआरों को समुद्र में न जाने की हिदायत दी है।

Cyclone (तूफान) की चेतावनी

शुक्रवार को चक्रवात की तीव्रता स्पष्ट होने की उम्मीद है। दक्षिण अंडमान सागर में घूर्णन का केंद्र धीरे-धीरे सक्रिय हो रहा है। कम दबाव में परिवर्तित होने के बाद यह चक्रवात का रूप ले लेगा। मौसम विभाग के मुताबिक, चक्रवात ओडिशा के तट से टकराएगा। गोपालपुर और बालेश्वर के बीच टक्कर की संभावना है। उधर, मौसम विभाग ने अगले 4 दिनों तक तटीय ओडिशा के साथ-साथ दक्षिण ओडिशा के कई जिलों में तूफान से बचाव के निर्देश दिए हैं।

यहां आप घर बैठे 360 डिग्री व्यू से दुनिया की कोई भी जगह देख सकते हैं

चक्रवात कब आएगा?

IMD के अनुसार, "दक्षिण अंडमान सागर और उसके वातावरण में चक्रवाती परिसंचरण बना है और मध्य-क्षोभमंडल तक फैल रहा है। इसके प्रभाव से 6 मई के आसपास क्षेत्र में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। अगले 24 घंटों के दौरान और दबाव पड़ने की संभावना है।

Cyclone Live Update: Click Here


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)