इस साल कब है होली? जानिए होली जलाने का मुहूर्त और उसका महत्व

Admin
0


भारत में हर त्योहार बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। संस्कृत में कहा गया है कि 'उत्सव प्रिया खालू मानुष्य' का अर्थ है कि लोग उत्सव को पसंद करते हैं। भारत में कुछ ऐसे त्यौहार हैं जिनका हर बुजुर्ग व्यक्ति बेसब्री से इंतजार करता है। जिनमें से एक है Holi। क्योंकि Holi के त्योहार पर एक-दूसरे पर रंग उड़ाने का मजा ही कुछ अलग होता है।

होली जलाने का मुहूर्त और उसका महत्व



इस साल रंगों का त्योहार 18 मार्च 2022 को मनाया जाएगा। 17 मार्च की रात को Holika का दहन किया जाएगा। हमारे शास्त्रों में ऐसी मान्यता है कि Holi का पर्व भक्त प्रह्लाद की भक्ति और प्रभु द्वारा किए गए उसके जीवन की रक्षा के आनंद में मनाया जाता है।

इन 5 आदतों से आज ही छुटकारा पाएं, नहीं तो आप जल्दी बूढ़े हो जाएंगे

Holi जलाने का शुभ मुहूर्त

इस वर्ष Holi जलाने का शुभ मुहूर्त गुरुवार 17 मार्च को रात्रि 9.20 बजे से रात्रि 10.31 बजे तक रहेगा। तो इस साल Holi जलाने का समय सिर्फ एक घंटा 10 मिनट है। हम सभी जानते हैं कि Holi जलाने के लिए एक खुली जगह का चुनाव किया जाता है।

गांवों में गाय के गोबर का उपयोग किया जाता है, जबकि शहरों में लकड़ी से Holi जलाई जाती है। इस समय शास्त्रों के अनुसार छंद भी बोले जाते हैं। Holi का दूसरा दिन Dhuleti (धुलेटी) का त्योहार है। इस दिन सभी मिलकर एक दूसरे को रंग लगाते हैं।

Holi जलाने का महत्व

हमारे शास्त्रों के अनुसार, प्रह्लाद भगवान विष्णु का बहुत बड़ा भक्त था, जबकि उसके पिता हिरण्यकश्यप एक राक्षस थे। वह किसी भी ईश्वर में विश्वास नहीं करता था। वह खुद को सब कुछ मानता था। उसके राज्य में किसी को भी परमेश्वर की आराधना करने का अधिकार नहीं था। लेकिन उसका अपना पुत्र प्रह्लाद भगवान विष्णु की पूजा करता था। जिससे वह बहुत नाराज हो गए।

तब उसके राक्षस पिता ने प्रह्लाद को मारने के लिए कई तरह की कोशिश की लेकिन प्रह्लाद की जान बच गई। आखिरकार थक हार कर हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका को जिम्मेदारी सौंप दी। क्योंकि होलिका को वरदान था कि आग उसे नहीं जलाएगी। तो यह तय हुआ कि होलिका प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठ जाएगी ताकि होलिका बच जाए और प्रह्लाद जलकर मर जाए।

मौत से चंद सेकेंड पहले क्या सोचता है? वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

लेकिन कहा जाता है कि राम राखी का स्वाद कौन चखता है। जब अग्नि प्रज्वलित हुई, तो प्रह्लाद ने भगवान विष्णु को याद करना शुरू कर दिया ताकि वह बच जाए और होलिका आग में जलकर मर गई। तब से फागन की पूर्णिमा के दिन आसुरी प्रवृत्तियों के विनाश के प्रतीक के रूप में Holi जलाई जाती रही है।


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)