Rigveda PDF Download 2022

Admin
0


Rigveda (ऋग्वेद) (संस्कृत: ऋग्वेद :) दुनिया का सबसे पुराना धार्मिक ग्रंथ है, इसलिए इसे 'मानव जाति का पहला कथन' कहा जाता है। इसके गठन की अवधि को पूर्व-वैदिक काल (1500 से 1000 ईसा पूर्व) माना जाता है। यह ग्रंथ प्राचीन भारतीय वैदिक ऋषियों द्वारा रचित संस्कृत ऋचाओं का संकलन है जो बलिदान या अन्य पारंपरिक प्रथाओं के समय जोश से गाए जाते थे। Rigveda में 1017 सूक्त हैं (कुल 1028 वल्खिल्य पाठ के 11 सूक्तों सहित) जो 10 मंडलों में विभाजित हैं।

Rigveda PDF Download 2022



एक मत के अनुसार पहले और दसवें मदाल बाद में जुड़े हुए हैं क्योंकि इसकी भाषा अन्य आठ सूक्तों से भिन्न है। दसवें मंडल में प्रसिद्ध पुरुषसूक्त शामिल हैं, जिसके अनुसार चार वर्ण (ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और क्षुद्र) आदि पुरुष ब्रह्मा के क्रमिक मुंह, हाथ, जांघ और पैरों से निकले हैं। Rigveda में दिए गए स्रोतों की कुल संख्या 10,552 है।

मृत्यु के बाद किसी व्यक्ति के Aadhaar Card और PAN Card का क्या करें? जाने यहाँ

Rigveda देवताओं के भजनों के माध्यम से दिया गया परमज्ञान है। जर्मन विद्वान जैकोबी के अनुसार Rigveda के मन्त्रों की रचना का काल ई. केवल 6500 ईसा पूर्व आता है।

जिन मंत्रों से देवताओं की स्तुति की जाती है, उन्हें ऋक् कहते हैं। वेद शब्द की जानकारी हमने पिछले लेख में देखी थी। इन दो शब्दों के पाणिनि व्याकरणिक व्यंजन नियम के सूत्र "झलन जशोंटे" के अनुसार, "क" में "क" का संयुग्मन "जी" हो गया और शब्द "Rigveda" बन गया, जिसका अर्थ है Rigveda जो कि परमज्ञान है। देवताओं के भजन। Rigveda के मंत्रों को ऋचा कहा जाता है।


Rigveda की रचना कब हुई, इसको लेकर कई विवाद हैं। ज्योतिष के आधार पर वेदों का समय निर्धारित करने का विचार पृथ्वी पर दो अलग-अलग स्थानों में एक ही समय में दो विद्वानों को आया। वे दोनों अपने आत्मविश्वास से निपटते हैं क्योंकि वे अपनी खेल गतिविधियों को शुरू करना चुनते हैं। लोकमान्य तिलक ने भारत में और जर्मनी में याकोबी में शोध किया।

Rigveda (ऋग्वेद) PDF Download: Click Here

Rigveda मन्त्रों के अनुसार उस समय में दिन और रात एक समान प्रतीत होते हैं जब सूर्य ओरियन राशि में होता है और उस समय बसंत का समय चल रहा होता है। ज्योतिष की गणना के अनुसार यह काल ई. 6500 ईसा पूर्व में आता है।

वेद अपौरुषेय ग्रंथ हैं। वैदिक मंत्रों को पौराणिक ऋषियों ने देखा और फिर मंत्रों को ऋषियों ने अपने शिष्य-पुत्रों को पढ़ाया। और इन मन्त्रों को उस समय की व्यवस्था और लेखन सामग्री के अनुसार 'ग्रंथ' का रूप दिया गया ताकि यह अमूल्य ज्ञान कभी नष्ट न हो।

ऋषि न केवल ऋषि थे, बल्कि ऋषि भी थे। वेदों की शाखाओं का नाम उन ऋषियों के नाम पर रखा गया, जिन्होंने अपने ही आश्रम में अपने पुत्रों और शिष्यों को अपनी शैली में वेदों की शिक्षा दी।

20 लाख की लागत से पक्षियों के लिए बना आलीशान बंगला - देखे यहाँ

पाणिनि मुनि के व्याकरण पर भाष्य लिखने वाले पतंजलि मुनि ने उल्लेख किया है कि उनके भाष्य "व्याकरण महाभाष्य" में Rigveda की 21 शाखाएँ थीं।


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)