118 साल से लगातार चल रहा है यह बल्ब - जानिए ऐसा क्यों?

Admin
0
आज के इस युग में टेक्नोलॉजी ने बहुत आगे बढ़ गए हैं। इसलिए लोग आज बिजली के उपकरणों का बहुत अधिक उपयोग कर रहे हैं। आज मोबाइल, टीवी, कंप्यूटर, AC, फ्रीजर, वाशिंग मशीन, पंखे, बल्ब आदि जैसे आज के मनुष्य के लिए जीवन की सभी आवश्यकताएं हैं। जिसके बिना आज लोग नहीं रह सकते। लेकिन इन सब चीजों की एक उम्र होती है। जो एक निश्चित समय के बाद काम नहीं कर सकता। तो आज हम आपको एक ऐसे इलेक्ट्रिक डिवाइस के बारे में बताएंगे जो इसको बनाने के बाद से अब तक बंद नहीं हुआ है। तो आइए जानते हैं क्या है इलेक्ट्रिक आइटम।

118 साल से लगातार चल रहा है यह बल्ब - जानिए ऐसा क्यों?


लगभग अधिक बार आपने देखा होगा कि कंपनियां लाइट बल्ब पर एक साल या दो साल की गारंटी देती हैं। लेकिन इसके मुकाबले इसकी कीमत भी बहुत ज्यादा ली जाती है। आज बहुत कम बल्ब हैं जो दो से तीन साल तक चलते हैं। लेकिन आज हम जिस बल्ब की बात करेंगे वह 118 साल से लगातार जल रहा है। वह बल्ब आज भी जल रहा है और आज तक कभी नहीं बंध हुआ है। ये जानकर आपको यकीन नहीं होगा लेकिन ये सच है। तो आइए जानते हैं उस बल्ब के बारे में।

क्या आप भी मनाते है रात 12 बजे Birthday ? तो हो जाए सावधान, हो सकता है अशुभ

दुनिया के इस अनोखे बल्ब का नाम सेंटेनियल है। बल्ब कैलिफोर्निया के लिवरमोर शहर में फायर स्टेशन में स्थित है। बल्ब का निर्माण शेल्बी इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी द्वारा किया गया था। यह पहली बार वर्ष 1901 में इस बल्ब को शरू कराया गया था और यह आज भी चालू ही है। आज तक, बल्ब कभी नहीं उड़ा है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पावर तार को बदलने के लिए सबसे पहले 1937 में बल्ब को स्विच ऑफ किया गया था। तब से यह कभी नहीं बंध हुआ है। बल्ब को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी दर्ज किया गया है। लेकिन दोस्तों आपको बता दें कि इस बल्ब की निगरानी CCTV से की जा रही है।

इस बल्ब को चार वाट बिजली की आवश्यकता होती है और यह पूरे 24 घंटे तक निरंतर प्रकाश प्रदान करता है। 2001 में बल्ब का जन्मदिन था। और इसे बहुत धूमधाम से मनाया गया। क्योंकि 2001 में बल्ब का 100वां जन्मदिन था। इस बल्ब के जन्मदिन पर एक म्यूजिक पार्टी भी आयोजित की गई थी।

इस बल्ब को देखने के लिए आज दुनिया भर से लोग आते हैं। बल्बों को देखने के लिए अक्सर भीड़ उमड़ती है, जिससे संग्रहालय जैसा दृश्य बनता है। जिससे ऐसा लगता है कि कोई संग्रहालय है, फायर स्टेशन नहीं। लोग इस बल्ब को खास देखने आते हैं।

आपको बता दें कि यह बल्ब साल 2013 में अपने आप बंद हो गया था। तब लोगों को लगा कि यह बल्ब उड़ गया है। लेकिन आगे की जांच में पता चला कि इस बल्ब का तार खराब हो गया है। फिर बल्ब के तार को बदल दिया गया और बल्ब को फिर से चालू कर दिया गया। जो आज भी वहां चालू देखने को मिलता है।

इस गांव की सिर्फ यात्रा कर लो हो जायेंगे माला माल !


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)