क्या आपने कभी आपका जन्मदिन रात 12 बजे मनाया है ? हो जाए सावधान, हो सकता है अशुभ

Admin
0


यदि आप भी अपनी जन्मदिन की सालगिरह 12:00 बजे या उसके बाद मना रहे हैं, तो सावधान ! हो सकता है अशुभ ।

हाल के दिनों में एक दूसरे की Show Off करने का बहोत क्रेज है. यदि कोई एक खुश नया करता है, तो दूसरा इसे देख के उसे ट्राय करता है। हम सुनते है अक्सर रात  में Birthday की शुभकामनाएं देते हैं। Birthday रात के बारह बजे मनाया जाता है लेकिन क्या आप वास्तव में जानते हैं कि भारतीय धर्मग्रंथ इस रात के उत्सव को अशुभ मानते हैं और बहुत सारे अनचाहे परिणाम देते हैं।


चाहे शादी की सालगिरह हो या जन्मदिन का जश्न, रात में बारह बजे केक काटा जाता है। ऐसा करने से लाभ हो सकता है या नहीं भी हो सकता है, लेकिन जीवन में कठिनाइयाँ उत्पन्न होने लगती हैं और मानव जीवन चारों ओर से संकटों से घिरने लगता है।

Facts : 2000 और 500 फट गया है ! क्या करे ? जानिए यहाँ

क्यों रात को Birthday या सालगिरह मनाना अशुभ है ?


वर्तमान में,रात १२ बजे केक काटने का चलन इस हद तक बढ़ गया है कि जन्मदिन से पहले रात में, केक रात में काट लेते है। यह में रात का समय है, जो आमतौर पर रात के 12 बजे से 3 बजे तक है। इस समय को आमतौर पर मध्यरात्रि काल के रूप में भी जाना जाता है। यह समय सभी प्रकार के शुभ कार्यों के लिए अशुभ माना जाता है। कोई भी शुभ कार्य हो रात में नहीं होता तो आप क्यों अपना नया साल या नयी साल गिरह रात को मनाते हो.  रात के १२ से ३ के समय को काल का समय कहा जाता है.

नकारात्मक शक्तियां हो जाती है सचेत !


भारतीय शास्त्रों के अनुसार, आधी रात को बुराई की बुरी शक्तियां जागृत होकर सक्रिय हो जाती हैं। इस समय के दौरान, ये अलौकिक शक्तियां अत्यधिक शक्तिशाली होती हैं, और जिस स्थान पर हम रहते हैं, वहां ये शक्तियां अदृश्य होकर आती है  और हम पर उनके बुरे प्रभाव डालती हैं और जिसका हमें एहसास भी नहीं होता है।

गांधीनगर नगर निगम भर्ती 54 जगह पर भर्ती वेतन 19000 - 92000 | Apply Now

ऐसे महत्वपूर्ण समय में, निश्चित काल को शुभ माना जाता है


आगरा 12 से 3 बजे का समय निचे दिए गए दिन पर आता है तो ही ये समय शुभ माने जाते है.

भारतीय शास्त्रों के अनुसार, भारत में दीपावली, नवरात्रि, जन्माष्टमी, शिवरात्रि जैसे कई महत्वपूर्ण त्योहार भी निश्चित काल के दौरान अपना अच्छा प्रभाव देते हैं और महानिशीथ काल बन जाते हैं। इसके अलावा, इस समय अवधि के माध्यम से बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। यही कारण है कि केक काटते समय इस समय को विशेष रूप से मनाया जाना चाहिए।


अगर आपको कोई भी जीवन के नए पड़ाव में जाना है तो शुभ समय उसका सेलिब्रेशन करना चाहिए। जैसे के शादी, नाम संस्कार और काफी सारी चीजे शुभ मुर्हत में किये जाते है. वैसे है आप को आपने जन्मदिन या सालगिरह या और कोई भी चीज़ सिर्फ शुभ मुर्हत पर ही करना चाहिए

Facebook से की दोस्ती बाद में मिलने के लिए बुलाकर किया रेप ! जाने पूरी खबर


अगर आपका जन्मदिन या सालगिरह इस तरह मनाई है तो आप खुद इसका अनुमान लगा लीजये आपका जीवन परेशानिया बढ़ी या कम हुई ?

अपना जवाब हमे Comment करके जरूर बताये।

अगर आपको भी लगता है हां कुछ हद तक आपने भी ऐसा अनुभव किया है तो Please दोस्तों को Share करे और उसे बताये। अपनी संस्कृति को बचाये। 


https://www.barobarche.in/2020/01/celebrating-a-12th-birthday-at-night-is-unfortunate.html
ये पूरा श्रद्धा का विषय है. आप मानो या ना मनो. लेकिन ये आपको असर जरूर करता है. बाकि आप अपनी जीवन के मालिक है.



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)