Monday, May 21, 2018

मायानगरी को अचानक बाय-बाय कहने वाली 'नदिया के पार' की 'गुंजा' आज ऐसी दिखती हैं देखे उसकी कुछ खास तस्वीर


नदिया के पार' की गुंजा यानी साधना सिंह इस फिल्म से काफी पॉपुलर हो गई थीं. यूपी के छोटे से गांव के परिवेश पर बनी यह फिल्म दृश्यों के हिसाब से बेशक साधारण लगे, लेकिन लोगों के दिलों में इसने गहरी जगह बनाई थी. इस फिल्म की हीरोइन साधना सिंह ने यह सोचा भी नहीं था कि वह कभी हीरोइन बनेंगी, लेकिन बहन




के साथ एक फिल्म की शूटिंग देखने के लिए गई साधना सिंह पर सूरज बड़जात्या की नजर पड़ी और वह इस फिल्म की हीरोइन चुन ली गईं. साधना सिंह खुद भी कानपुर के एक छोटे से गांव नोनहा नरसिंह की रहना वाली हैं. उनकी मासूमियत के लोग इस कदर दीवाने हुए कि आज भी लोगों के जहन में वह मौजूद हैं


किसी भी लड़की को 1 सेकंड मे पटाने के तरीके - LADKI PATANE KE TARIKE CLICK HERE

एयरटेल लाया है नया डाटा प्लान ऑफर जो उड़ा देंगे JIO और BSNL कंपनी के होश CLICK HERE

केवल 30 मिनट में बाल बनाएं स्ट्रैट,घर पर बनाये पेस्ट करें CLICK HERE


मायानगरी को अचानक बाय-बाय कहने वाली 'नदिया के पार' की 'गुंजा' आज ऐसी दिखती हैं









नदिया के पार की 'गुंजा'

'नदिया के पार' की गुंजा यानी साधना सिंह इस फिल्म से काफी पॉपुलर हो गई थीं. यूपी के छोटे से गांव के परिवेश पर बनी यह फिल्म दृश्यों के हिसाब से बेशक साधारण लगे, लेकिन लोगों के दिलों में इसने गहरी जगह बनाई थी. इस फिल्म की हीरोइन साधना सिंह ने यह सोचा भी नहीं था कि वह कभी हीरोइन बनेंगी, लेकिन बहन के साथ एक फिल्म की शूटिंग देखने के लिए गई साधना सिंह पर सूरज बड़जात्या की नजर पड़ी और वह इस फिल्म की हीरोइन चुन ली गईं. साधना सिंह खुद भी कानपुर के एक छोटे से गांव नोनहा नरसिंह की रहना वाली हैं. उनकी मासूमियत के लोग इस कदर दीवाने हुए कि आज भी लोगों के जहन में वह मौजूद हैं.



यह फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई. साधना जहां भी जातीं लोग उन्हें गुंजा कहकर पुकारते. शहरों के साथ-साथ गांवों में भी लोग उनसे मिलने के लिए भीड़ लगा लेते थे. उनके लिए दीवानगी इस कदर थी कि लोगों ने अपनी बेटियों का नाम ही गुंजा रखना शुरू कर दिया था. .







रोने लगे थे गांववाले

'नदिया के पार' की शूटिंग जौनपुर एक गांव में हुई थी. कहा जाता है कि जब इस फिल्म की शूटिंग खत्म हुई थी तो उस गांव के लोग रोने लगे थे. गांव में शूटिंग के दौरान गुंजा और गांव वालों के बीच एक आत्मीय रिश्ता बन गया था. यह फिल्म 1 जनवरी 1982 को रिलीज हुई थी.


अचानक हुई थी फिल्म इंडस्ट्री से गायब

वैसे, साधना सिंह ने 'पिया मिलन', 'ससुराल', 'फलक', 'पापी संसार' सरीखी फिल्मों में काम किया, लेकिन एक दिन अचानक वह फिल्मों से गायब हो गईं और अपनी गृहस्थी में रम गईं. उन्होंने उस समय कहा था कि उन्हें जिस तरह के रोल चाहिए उस तरह की फिल्में नहीं बन रहीं.


आपको हमारा ये न्यूज़ कैसा लगा अच्छा लगे तो कमेंट करे और अपने दोस्तों को जरूर शेयर करे डेइली  ऐसी ताज़ा खबर केलिए हमारे फेसबुक पेज को लिखे करे जिससेआपको अपने फेसबुक पेज पर नई नई सबसे पहले मिल जाये

ये न्यूज़ भी पढ़े 

वॉलमार्ट भारत को करेंगा तब्हा जाने पूरी जानकारी CLICK HERE  

आप नहीं जानते होंगे | गुजरात के बारे में दिलचस्प तथ्य जानिए गुजरात के बारे में पूरी जानकारी CLICK HERE  

JOIN 500+ NEW GUJARATI WHATSAPP GROUP LINK 2018

मायानगरी को अचानक बाय-बाय कहने वाली 'नदिया के पार' की 'गुंजा' आज ऐसी दिखती हैं देखे उसकी कुछ खास तस्वीर Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Reporter 17

0 comments: