इस दिन गलती से भी किचन में रोटी नहीं बनानी चाहिए

Admin
0
एक भारतीय घर में, Roti (रोटी) हर दिन भूख मिटाने का मुख्य साधन है। Roti के बिना खाना अधूरा माना जाता है। साथ ही पेट की भूख मिटाने के लिए रोज Roti बनाई जाती है, लेकिन हिंदू धर्म में कुछ दिन ऐसे भी हैं जिनके बारे में कहा जाता है कि इन दिनों Roti नहीं बनानी चाहिए। साथ ही यदि आप एकादशी तिथि के दिन चावल नहीं खाते और Roti नहीं खाते हैं, तो भी आपको पुण्य की प्राप्ति होती है। लेकिन कुछ दिन ऐसे भी होते हैं जिनमें Roti बनाना शुभ नहीं माना जाता है। इस अवसर पर Roti बनाना अशुभ फल देता है। ऐसी प्रचलित मान्यता भी है, तो आइए जानते हैं कि किस दिन रसोई में Roti नहीं बनानी चाहिए।

इस दिन गलती से भी किचन में रोटी नहीं बनानी चाहिए



इस दिन गलती से भी रसोई में Roti नहीं बनानी चाहिए, दरिद्रता घर को तबाह कर देती है।

बेडरूम में सोते समय पति-पत्नी को इस दिशा में सिर करके सोना चाहिए

Death / मौत

जब किसी व्यक्ति की घर में मृत्यु हो जाती है, तो तेर में संस्कार के बाद ही रोटली बनाई जाती है। ऐसा माना जाता है कि यदि तेरहवें भाव में पहले घर में रोटी बनाई जाए तो मृत व्यक्ति के नाजुक शरीर पर छाले पड़ जाते हैं। मृत्यु के बाद दी जाने वाली रोटी मृतक के सूक्ष्म शरीर को तैयार करती है, जिसे आत्मा के साथ यमराज के दरबार में ले जाया जाता है।

Nag Panchami / नागपंचमी

नागपंचमी के दिन खीर-पूरी और हलवा जैसी चीजें बनानी चाहिए। इस दिन तवे पर रोटी नहीं बनती है। ऐसा कहा जाता है कि सनातन धर्म में तवे को आग पर रखना मना है क्योंकि तवा सांप के नुकीले का प्रतिनिधित्व करता है। ऐसा करने से सांप परेशान हो जाते हैं और उन्हें गुस्सा आता है। इस दिन लोहे के किसी भी बर्तन में आग नहीं लगानी चाहिए।

Sheetala Ashtami / शीतलाष्टमी

शीतलाष्टमी के दिन मां शीतला की पूजा की जाती है। इस दिन केवल वासी भोग लगाया और खाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि सच्चे मन से पूजा करने से स्वास्थ्य का आशीर्वाद मिलता है। इस दिन किचन में रोटी नहीं बनती। कहा जाता है कि शीतलाष्टमी के दिन रोटी बनाने से माता शीतला क्रोधित हो जाती हैं। साथ ही चर्म रोग होने की भी संभावना रहती है।

Sharad Purnima / शरद पूर्णिमा

शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा 16 भावों में होता है। शास्त्रों के अनुसार इसी दिन मां लक्ष्मी का जन्म हुआ था। इस दिन लक्ष्मी जी का स्वागत किया जाता है और खीर पुरी का भोग लगाया जाता है। रात में खीर बनाकर चांदनी में रखी जाती है और सुबह भोग लिया जाता है। इस दिन मिठाई का भोग लगाया जाता है, इसलिए इस दिन घर में रोटी बनाना शुभ नहीं माना जाता है। ऐसा करने से लक्ष्मी नाराज हो जाती है।

Diwali / दिवाली

मां से जुड़े हर त्योहार के दिन घर पर रोटी नहीं बनती। दिवाली को लक्ष्मी पूजा का दिन माना जाता है। इसे महनिष की रात भी कहा जाता है। मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए रात्रि में ध्यान करना चाहिए। इस दिन घर में पकवान बनाए जाते हैं और मिठाई खिलाई जाती है। इस दिन घर में तवा रखना मना है।

नाक के बाल हैं शरीर के लिए वरदान, नाक के बाल तोड़ने से पहले सोचें

अगर घर में किसी की मृत्यु हो जाती है तो इस दौरान घर में रोटली नहीं बनती है। विज्ञान में माताजी को चेचक कहा जाता है, लेकिन हिंदू धर्म में उन्हें चेचक माता का प्रकोप माना जाता है। घर में माताजी हो तो इन दिनों रोटी नहीं बनती। ऐसा कहा जाता है कि पीड़ित व्यक्ति को अधिक कष्ट होता है और उसका रोग जल्दी दूर नहीं होता है।

Advertisement



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)