बिना कोई काम किए थकान महसूस करते हैं, तो जानिए इसके कारण और उपाय

Admin
0

 बहुत से लोग बहुत कम काम करने के बावजूद दिन भर थकान का अनुभव करते हैं। ऐसे लोग बहुत खराब जीवनशैली के साथ-साथ गतिहीन जीवन के कारण शारीरिक कमजोरी का अनुभव करते हैं। आजकल गतिहीन जीवन शैली के साथ-साथ व्यस्त जीवन शैली के कारण व्यक्ति अपने तरीके से व्यायाम नहीं कर सकता है और अपने Health का ध्यान नहीं रख सकता है।

बिना कोई काम किए थकान महसूस करते हैं, तो जानिए इसके कारण और उपाय


ऐसे में व्यक्ति को शारीरिक कमजोरी और जीविकोपार्जन में कठिनाई होने का खतरा अधिक होता है। ऐसे समय में व्यक्ति ऐसी स्थिति में अक्षम होता है। और उन्हें शरीर को पर्याप्त पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। चूँकि ऊर्जा शरीर में होती है इसलिए शरीर किसी भी कार्य को करने में ऊर्जा खर्च नहीं करता है और किसी भी कार्य को उत्साहपूर्वक नहीं कर सकता है।

आपकी हाइट के हिसाब से आपका वजन कितना होना चाहिए - चेक करे यहाँ

थकान के कारण

1992 में किए गए शोध के अनुसार, डिप्रेशन के रोगियों में Potassium का स्तर सामान्य से कम होता है। Potassium हमारे शरीर के लिए सबसे आवश्यक तत्वों में से एक है, जिसमें Calcium, Potassium Chloride, Calcium, Magnesium, Phosphorus और Sulphur शामिल हैं। आम तौर पर एक वयस्क को 47000 मिलीग्राम Potassium की आवश्यकता होती है। Potassium केवल दैनिक भोजन में पाया जाता है। Potassium कोशिकाओं के साथ-साथ मांसपेशियों के लिए भी उत्कृष्ट है। जिससे उन्हें पोषण मिलता है। Potassium हृदय, मस्तिष्क और मांसपेशियों के कार्य को बनाए रखने में मदद करता है। शरीर में Potassium की कमी से हाइपोकैलिमिया हो सकता है।

साथ ही मानसिक तनाव भी उत्पन्न हो सकता है। Potassium की कमी से आज हमारा मानस पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। शरीर में Potassium की कमी के प्रमुख लक्षणों में से एक थकान है।यह बात अलग है कि आप अधिक काम करने के कारण थक जाते हैं। लेकिन अगर आप बिना काम किए थक जाते हैं, तो इसका मुख्य कारण Potassium की कमी हो सकती है। शरीर की प्रत्येक कोशिका को कार्य करने के लिए एक निश्चित मात्रा में खनिज लवणों की आवश्यकता होती है। जो अधूरेपन के कारण शरीर में कमजोरी का कारण बनता है।

Potassium एक ऐसा खनिज है। जो शरीर की हलचल के संकेतों को मस्तिष्क तक पहुंचाता है। शरीर में Potassium की कमी होने पर ये संकेत दिमाग तक नहीं पहुंच पाते और तनाव की समस्या हो सकती है। इस तनाव का सीधा असर हमारे मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ता है। 1992 के एक अध्ययन में पाया गया कि डिप्रेशन के रोगियों में Potassium का स्तर सामान्य से कम था। Potassium की कमी से हाई ब्लड प्रेशर का खतरा बढ़ सकता है।

दरअसल Potassium दिल को स्वस्थ रखने में मदद करता है। जो शरीर में सोडियम की मात्रा को बनाए रखता है। शरीर में इसकी कमी होने पर मस्तिष्क की कार्य करने की क्षमता भी प्रभावित होती है। हमारे आहार से Potassium की कमी को दूर किया जा सकता है। यदि यह लंबे समय तक बनी रहे तो Potassium की कमी एक गंभीर समस्या हो सकती है। यह कब्ज, हाइड्रेशन, उल्टी या तनाव पैदा कर सकता है। इसे कम करने के लिए टमाटर, केला, आलू, बीन्स, हरी सब्जियां, दही, मछली, मशरूम आदि में पाया जा सकता है।

मर भी जाएं तो Hotels में किसी भी दिन न खाएं ये एक चीज

थकान दूर करने का उपाय

शरीर में ऊर्जा प्राप्त करने के लिए गाजर का रस नियमित रूप से पीना चाहिए। गाजर का रस पीने से शरीर को बहुत ऊर्जा मिलती है और यह उन लोगों के लिए भी बहुत उपयोगी हो सकता है जो गाजर और गाजर के रस के प्रभाव में हैं। नपुंसकता को दूर करने के लिए लगभग नियमित रूप से पांच केले का सेवन करना चाहिए।

केले के नियमित सेवन से शरीर में बड़ी मात्रा में Potassium, Magnesium और Calcium का उत्पादन होता है। जो शरीर की हड्डियों के साथ-साथ शरीर के दांतों को भी मजबूत बनाता है। इसलिए व्यक्ति कभी भी निःशक्तता प्राप्त नहीं करता है। आप दूध का सेवन भी कर सकते हैं। दूध के साथ आप बादाम भी मिला सकते हैं इनका नियमित रूप से सेवन करने से मानव शरीर में ऊर्जा की वृद्धि होती है।

साथ ही केले के नियमित सेवन से व्यक्ति की शारीरिक कमजोरी भी दूर होती है। इसके अलावा गर्म दूध में अंजीर मिलाकर इसका सेवन करने से व्यक्ति की शारीरिक शक्ति बढ़ती है। इसके अलावा एनीमिया से पीड़ित लोगों को अपने रक्त प्रवाह को बढ़ाने के लिए नियमित रूप से गाजर और खजूर का सेवन करना चाहिए।

उसके ऊपर आप व्यक्ति की शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए गर्म दूध के नियमित सेवन के अलावा घी भी कर सकते हैं। हर चीज का सेवन करने से व्यक्ति की शारीरिक कमजोरी दूर होती है। उनकी अक्षमता दूर हो जाती है।

रात को सोते समय नियमित रूप से चीनी और सूरजमुखी के बीजों को समान रूप से मिलाकर इसका पेस्ट बना लें और इसका सेवन करने से व्यक्ति की शारीरिक कमजोरी दूर हो जाती है। साथ ही सफेद प्याज को घी में भूनकर उसके नियमित सेवन से शरीर की कमजोरी दूर होती है। इसके अलावा कई लोगों को सांस लेने में तकलीफ होती है, फेफड़े कमजोर होते हैं।

साथ ही मौसमी फल जैसे नारंगी, संतरा आदि भी शारीरिक कमजोरी को दूर करने में काफी उपयोगी साबित हुए हैं। इसके लिए आपको पपीते का भरपूर सेवन करना चाहिए। शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए पपीता काफी उपयोगी साबित होता है। इसके अलावा पपीते का सेवन पाचन शक्ति को मजबूत करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा अगर इस उद्देश्य के लिए खजूर का सेवन किया जाए तो व्यक्ति को काफी बेहतर ताकत भी मिलती है।

हार्ट अटैक की शुरुआत से 1 महीने पहले शरीर में ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं - जाने यहाँ

साथ ही नियमित सोने से भी शरीर में एनर्जी बढ़ती है। इसके लिए आप इन सभी चीजों जैसे अंजीर और नट्स में दूध मिलाकर इनका नियमित सेवन करें। ऐसा करने से शरीर की ताकत बढ़ती है। इसके अलावा सूखे मेवे जैसे बादाम, पिस्ता, इलायची, केसर और चीनी और दूध डालकर गर्म करके पीने से व्यक्ति को बहुत ताकत मिलती है।

इसके अलावा आप चने का आटा, अंजीर, मोहनथाल आदि नियमित रूप से बना सकते हैं और उस वस्तु का सेवन करने से शारीरिक कमजोरी भी दूर होती है और पर्याप्त मात्रा में अंकुरित चना और अंकुरित मग का नियमित सेवन शरीर को स्वस्थ रखता है। ऐसा करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)