इस चीज की एक चुटकी वृद्ध व्यक्ति को 20 साल का युवान कर देगी

Admin
1


ग्रीष्मकाल में जब पर्वतों की चट्टानें सूर्य की चिलचिलाती धूप से पिघलती हैं तो पिघलने से जो धातु बनती है उसे Shilajit (शिलाजीत) कहते हैं। यह Shilajit (शिलाजीत) शरीर वर्धक है। कहा जाता है कि Shilajit (शिलाजीत) का सेवन करने वाला बूढ़ा भी 20 साल के युवक जितना शक्तिशाली हो जाता है। Shilajit (शिलाजीत) चारकोल की तरह गाढ़ा और काला होता है। इसका प्रभाव गर्म होता है और स्वाद में कड़वा होता है।

इस चीज की एक चुटकी वृद्ध व्यक्ति को 20 साल का युवान कर देगी



विशेषज्ञों के अनुसार Shilajit (शिलाजीत) चार प्रकार की होती है। सोना, चांदी, लोहा और तांबा। Shilajit (शिलाजीत) का सेवन करने वालों की हड्डियाँ लोहे जैसी हो जाती हैं। यह रक्त को शुद्ध करता है और इसके कई अन्य स्वास्थ्य लाभ हैं। Shilajit (शिलाजीत) को रोज सुबह एक गिलास पानी के साथ लेना चाहिए। हालांकि, Shilajit (शिलाजीत) का सेवन उसी अनुपात में करना चाहिए जैसे एक मकई की गिरी।

इस पत्ते का 1 चम्मच रस 3 दिन तक पियें, सर्दी-खांसी, बुखार हो जायेंगे दूर

Shilajit (शिलाजीत) के सेवन के फायदे

1. शारीरिक शक्ति बढ़ाता है: Shilajit (शिलाजीत) के सेवन का सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह शारीरिक शक्ति को बढ़ाता है। यह पुरुषों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है। हालांकि Shilajit (शिलाजीत) का सेवन करते समय मसालेदार, खट्टे और नमकीन खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए।

2. तनाव से राहत: Shilajit (शिलाजीत) का सेवन शरीर में तनाव पैदा करने वाले हार्मोन को संतुलित करता है। इससे तनाव नहीं होता है।

3. शरीर का पोषण: Shilajit (शिलाजीत) शरीर की ताकत को तुरंत बढ़ाता है। इसमें विटामिन और प्रोटीन होते हैं जो शरीर में ऊर्जा को बढ़ाते हैं।

4. हड्डियों के रोग का इलाज: Shilajit (शिलाजीत) के सेवन से जोड़ों के दर्द, गठिया में आराम मिलता है और हड्डियां मजबूत होती हैं।

5. BP नियंत्रण: Shilajit (शिलाजीत) का प्रयोग BP को सामान्य करने के लिए करना चाहिए, यह रक्त को शुद्ध करता है और रक्त परिसंचरण में सुधार करता है।

6. मधुमेह: Shilajit (शिलाजीत) मधुमेह रोगियों के लिए भी वरदान है। यह एक लाभकारी जड़ी बूटी है। इसके लिए एक चम्मच त्रिफला चूर्ण और एक चम्मच शहद के साथ ही दो रति Shilajit (शिलाजीत) का मिश्रण लेना चाहिए।

7. बढ़ती उम्र को रोकता है: Shilajit (शिलाजीत) के सेवन से त्वचा पर झुर्रियां पड़ना और उम्र के साथ कमजोरी जैसी समस्याओं से बचा जाता है। इसे सफेद मूसली, अश्वगंधा और Shilajit (शिलाजीत) के साथ लेना चाहिए।

8. याददाश्त में सुधार: Shilajit (शिलाजीत) को एक चम्मच मक्खन के साथ सेवन करने से दिमाग तेज होता है। Shilajit (शिलाजीत) शरीर के साथ-साथ दिमाग को भी तेज करता है।

9. दिल के लिए फायदेमंद: दिल को स्वस्थ और फिट रखना भी जरूरी है। इसके लिए Shilajit (शिलाजीत) बेहतरीन है। यह हृदय रोग को ठीक करता है।

10. सूजन में फायदेमंद: शरीर में कहीं भी सूजन हो तो Shilajit (शिलाजीत) का सेवन करने से आराम मिलता है।

11. पाचन तंत्र में सुधार: यदि आपका पाचन तंत्र खराब है, तो आपको Shilajit (शिलाजीत) का नियमित सेवन करना चाहिए। यह पाचन तंत्र को मजबूत और स्वस्थ बनाता है।

12. किडनी की समस्या: Shilajit (शिलाजीत) उन लोगों को भी फायदा पहुंचाता है जिन्हें किडनी की समस्या है। Shilajit (शिलाजीत) शरीर में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है।

इन 5 आदतों से आज ही छुटकारा पाएं, नहीं तो आप जल्दी बूढ़े हो जाएंगे

13. मस्तिष्क रोग: Shilajit (शिलाजीत) का सेवन मस्तिष्क रोग को दूर करने के लिए उत्तम है। इसे सुबह सूर्योदय से पहले दूध या शहद के साथ लेना चाहिए।

14. प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए: कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाला व्यक्ति Shilajit (शिलाजीत) का सेवन करता है, तो यह प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करता है। इसके लिए Shilajit (शिलाजीत) का सेवन सुबह-शाम दूध के साथ करना चाहिए।


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

1Comments
Post a Comment