अलग-अलग 6 तरह के सेविंग अकाउंट हैं - जानिए आपका कौनसा सेविंग अकाउंट है और क्या लाभ है

Admin
0


आजकल लगभग सभी के पास बैंक खाता है। ज्यादातर लोग Saving Bank Account (सेविंग बैंक अकाउंट) का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि बचत खाते कई प्रकार के होते हैं। कामकाजी लोगों के लिए अलग Saving Account (बचत खाते) हैं, बुजुर्गों के लिए अलग, महिलाओं के लिए अलग और बच्चों के लिए अलग। इस प्रकार कुल 6 प्रकार के बचत खाते हैं। आइए पता करते हैं।

6 तरह के सेविंग अकाउंट हैं



क्या आप जानते हैं कि बचत खाते कई प्रकार के होते हैं? कामकाजी लोगों के लिए अलग बचत खाते हैं, बुजुर्गों के लिए अलग, महिलाओं के लिए अलग और बच्चों के लिए अलग।

RBI ने इन 8 बैंकों पर लगाया भारी जुर्माना, चेक करें आपका अकाउंट तो नहीं है

1. वेतन बचत खाता / Salary Savings Account

ऐसे खाते बैंकों द्वारा अपने कर्मचारियों के लिए कंपनियों की ओर से खोले जाते हैं। बैंक इस प्रकार के खाते के लिए ब्याज देते हैं। इसका उपयोग कर्मचारियों को वेतन देने के लिए किया जाता है। जब भी वेतन देने का समय आता है तो बैंक कंपनी के खाते से पैसे निकाल कर कर्मचारी के खाते में डाल देता है। इस प्रकार के खाते के लिए कोई न्यूनतम शेषराशि की आवश्यकता नहीं है। अगर तीन महीने तक वेतन नहीं मिलता है, तो इसे नियमित बचत खाते में बदल दिया जाता है।

2. जीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट / Zero Balance Savings Account

इस प्रकार का खाता बचत और चालू खाता दोनों सेवाएं प्रदान करता है। निकासी की जा सकने वाली राशि की एक सीमा है। आप औसत सीमा से अधिक की निकासी नहीं कर सकते। लेकिन बैलेंस कम होने पर कोई पेनल्टी नहीं है।

3. नियमित बचत खाता / Regular Savings Account

इसे कुछ बुनियादी शर्तों पर खोला जाता है। इस प्रकार के खाते में कोई सावधि जमा नहीं है। इसका उपयोग एक सुरक्षित घर की तरह किया जाता है। जहां आप सिर्फ अपना पैसा रख सकते हैं। इसके लिए मिनिमम बैलेंस भी जरूरी है।

4. महिला बचत खाते / Women Savings Account

ऐसे बैंक खाते खासकर महिलाओं के लिए बनाए गए हैं। जिसमें कई तरह की विशेषताएं हैं। महिलाओं को ऋण पर कम ब्याज, डीमैट खाता खोलने पर मुफ्त शुल्क और विभिन्न खरीद पर छूट की पेशकश की जाती है।

5. खनिक बचत खाता / Minor Savings Account

यह खाता बच्चों के लिए है। इसके लिए मिनिमम बैलेंस की जरूरत नहीं है। यह बचत खाता बच्चों की शिक्षा के लिए उनकी बैंकिंग जरूरतों को पूरा करने के लिए है। इस प्रकार का बैंक खाता कानूनी अभिभावक की देखरेख में ही खोला और संचालित किया जाता है। जब एक बच्चा 10 साल का हो जाता है। फिर वह अपना खाता संचालित कर सकता है। जब एक बच्चा 18 साल का हो जाता है। फिर इसे नियमित बचत खाते में बदल दिया जाता है।

इस महीने निपटा ले इन 7 जरूरी कामों को, नहीं तो होगा नुकसान!

6. वरिष्ठ नागरिक बचत खाता / Senior Citizen Savings Account

यह नियमित बचत खाते की तरह ही काम करता है। लेकिन वरिष्ठ नागरिकों को नियमित खातों की तुलना में अधिक ब्याज दरों की पेशकश की जाती है। इसलिए वरिष्ठ नागरिकों को यह खाता केवल इसलिए खोलना चाहिए क्योंकि इसमें ब्याज अधिक होता है। यह बैंक खाता वरिष्ठ नागरिक बचत योजनाओं से भी जुड़ा हुआ है, जिससे पेंशन निधि या सेवानिवृत्ति खातों से धन निकाला जाता है और जरूरतें पूरी होती हैं।


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)