इंटरनेट केबल समुद्र तल से हज़ारों मीटर नीचे क्यों बिछाई जाती हैं? - जाने इसकी वजह

Admin
0


आर्कटिक महासागर में एक पनडुब्बी की टक्कर के बाद अब रूस पर ब्रिटेन द्वारा युद्ध की धमकी दी गई है। ब्रिटेन के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ एडमिरल ने चेतावनी दी है कि अगर रूस ने पानी के भीतर एक महत्वपूर्ण संचार केबल को काटने की कोशिश की तो युद्ध कार्रवाई पर विचार किया जाएगा। ब्रिटेन के CDS सर टोनी रेडकिन ने चिंता व्यक्त की है कि रूस ने पिछले 20 वर्षों में महत्वपूर्ण पनडुब्बी और पनडुब्बी गतिविधियों को आगे बढ़ाया है। इससे दुनिया भर में रीयल-टाइम संचार प्रणाली बन सकती है। दरअसल, Internet दुनिया भर में समुद्र के नीचे पड़े केबलों के माध्यम से चलता है और संचार करता है। तो आइए जानते हैं समुद्र के नीचे बिछाए गए केबलों के Network के बारे में और समझते हैं कि यह कैसे काम करता है।

इंटरनेट केबल समुद्र तल से हज़ारों मीटर नीचे क्यों बिछाई जाती हैं?



समुद्र के नीचे हजारों मीटर नीचे Internet Cable का एक जाल बिछा हुआ है, जिससे पूरी दुनिया में Internet चलता है, जानिए कुछ खास बातें।

बिना Dish TV /Cable  चलेगा आपका TV! जाने ये तकनीक 

Internet Cable हजारों मीटर नीचे बिछाई गई है

Internet Connection के लिए हम अपने चारों ओर जितने भी केबल और बॉक्स देखते हैं, उनका Network पूरी दुनिया को जोड़ने का एक छोटा सा हिस्सा है। Internet Connection स्पीड डेटा ट्रांसफर का असली जाल समुद्र तल से हजारों मीटर नीचे रखा गया है। यह पूरा Network पूरी दुनिया को एक दूसरे से जोड़ता है। Cable Net की इस तस्वीर से आप समझ सकते हैं कि दुनिया के समुद्र के नीचे केबल बिछाकर वर्चुअल कनेक्शन कैसे स्थापित किया जा सकता है।

internet cable samundr ke niche kyo bichai jati hai

यह Cable Net कितना बड़ा है? कौन डालता है?

इन केबलों का एक बड़ा Network समुद्र के नीचे बिछा हुआ है। दुनिया के 99% संचार और डेटा स्थानान्तरण पानी के नीचे संचार केबलों के माध्यम से किए जाते हैं। इन केबलों को पनडुब्बी संचार केबल कहा जाता है। वर्तमान में समुद्र के नीचे लगभग 426 पनडुब्बी केबल हैं, जिनकी कुल लंबाई लगभग 1.3 मिलियन किलोमीटर है। Google, Microsoft और Facebook जैसी बड़ी Internet कंपनियां इसे डालने का काम कर रही हैं। सभी टेलीकॉम प्रदाता भी इसकी फंडिंग का हिस्सा हैं।

internet cable samundr ke niche kyo bichai jati hai

यह केबल कैसे बिछाई जाते है?

ये केबल हजारों किलोमीटर लंबी होती हैं और एवरेस्ट जितनी गहराई तक बिछाई जाती हैं। यह एक विशेष केबल परतों द्वारा समुद्र की सतह पर बिछाई जाती है। आमतौर पर एक दिन में 100-200 किमी केबल बिछाई जाती है। इनकी चौड़ाई करीब 17 किलोमीटर है। सेटेलाइट सिस्टम की तुलना में डेटा ट्रांसफर के लिए सबमरीन Optical Fiber Cable काफी सस्ते होते हैं। इसका Network भी काफी तेज है।

internet cable samundr ke niche kyo bichai jati hai

Internet Cable को किस चीज़ से है खतरा

समुद्र के नीचे बिछाई गई केबल के लिए प्राकृतिक आपदाएं सबसे बड़ा खतरा हैं। केबल को समुद्री जीवों से भी खतरा है। इसके लिए तमाम उपाय भी किए जाते हैं। केबल को हाई प्रेशर वॉटर जेट टेक्नोलॉजी द्वारा समुद्र के नीचे दबा दिया जाता है ताकि कोई समुद्री जीव या पनडुब्बी उसे नुकसान न पहुंचा सके। समुद्र में अक्सर शार्क केबल को चबाने की कोशिश करती हैं। केबल पर शार्क प्रूफ वायर रैक भी लगाए गए थे। समुद्र की गहराई में अत्यधिक हलचल भी इस केबल को नुकसान पहुंचा सकती है।

internet cable samundr ke niche kyo bichai jati hai

बच्चों को गंदी वेबसाइट/फोटो/वीडियो देखने से कैसे रोके ? ये है आसान तरीका

तो क्या केबल कटने से दुनिया से संपर्क टूट जाएगा?

ऐसा नहीं है कि सिर्फ केबल कटने से संपर्क कट जाएगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि कंपनी के पास दूसरे के बजाय एक केबल का बैकअप है। हालांकि, यह संचार और Internet की Speed को प्रभावित करता है। 2016 में, तमिलनाडु में एक तूफान ने समुद्र के नीचे बिछाई गई एक Internet Cable को क्षतिग्रस्त कर दिया, जिसने कुछ मामलों में देश में Airtel Network को धीमा कर दिया। कंपनी ने इस संबंध में ग्राहकों को नोटिस भेजा था।

internet cable samundr ke niche kyo bichai jati hai

2013 में, कुछ तैराकों ने यूरोप और अमेरिका से इजिप्त तक 4 केबल काट दीं। इसने इजिप्त में Internet की Speed को 60% तक धीमा कर दिया। केबल कहां काटी गई यह पता लगाने के लिए एक Robot भेजा जाता है। एक केबल का जीवनकाल लगभग 25 वर्ष होता है। कुछ देर परेशानी के बाद केबल को ठीक कर दिया जाता है।


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)