सरकारी नौकरी जानकारी ग्रुप Join Whatsapp Join Now!

बालों की समस्या के लिए कुछ उपयोगी जानकारी



आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हम हर काम के लिए समय निकालते हैं, लेकिन अगर कुछ बचा है तो वह है हमारी सेहत। कुछ लोग अपने बालों को ऊपर और फैशनेबल दिखने के लिए डाई करते हैं।

बालों की समस्या के लिए कुछ उपयोगी जानकारी



प्रदूषण और तनाव भी बालों को कमजोर करते हैं। ट्रिमिंग, पर्मिंग, कलरिंग, रंगाई आदि करने से बालों की जड़ें कमजोर हो जाती हैं और बाल जल्दी झड़ने लगते हैं। बालों के झड़ने की समस्या से रोजाना करीब सौ बाल झड़ते हैं। अगर बाल तेजी से झड़ते रहेंगे तो गंजेपन की समस्या ज्यादा समय तक शुरू नहीं होगी। बालों के झड़ने के सामान्य कारणों में शारीरिक परिवर्तन, बुखार, सर्जरी, विटामिन की कमी, थायराइड विकार, हार्मोनल विकार या विषाक्त दुष्प्रभाव शामिल हो सकते हैं।

Health Tips: दांत की समस्या के लिए उपयोगी जानकारी

बालों के झड़ने के कारण

पुरुषों में बालों का झड़ना: पुरुषों में बालों के झड़ने का कारण अनुवांशिक होता है। एक उम्र के बाद महिलाओं के मुकाबले उनके बाल तेजी से बढ़ते हैं। जिन पुरुषों के परिवार में पहले से ही गंजापन है, उन्हें बालों के झड़ने की समस्या होने की संभावना अधिक होती है। इस समस्या को पुरुष पितृ गंजेपन कहते हैं। बालों का झड़ना पुरुष हार्मोन एंड्रोजन के कारण होता है। यह हार्मोन फॉलिकल्स को कमजोर करता है। जिससे क्षतिग्रस्त बालों का दोबारा उगना असंभव हो जाता है। कभी-कभी डैंड्रफ या फंगल इंफेक्शन की वजह से बालों पर गंजेपन के छोटे-छोटे धब्बे नजर आने लगते हैं।
महिलाओं में बालों का झड़ना: महिलाओं में बालों के झड़ने के कारण कुपोषण, बालों का अधिक स्टाइल और उपचार, तनाव आदि हैं। विटामिन और हीमोग्लोबिन की कमी से भी महिलाओं के बाल कमजोर हो जाते हैं। बालों में केमिकल के इस्तेमाल से या किसी स्टाइल के लिए बालों को जड़ों से हटाने से भी बालों का झड़ना हो सकता है। इसके अलावा, गर्भावस्था के बाद महिलाओं में हार्मोनल परिवर्तन बालों के झड़ने का कारण बन सकते हैं।
बच्चों में बालों का झड़ना: बच्चों में बालों का झड़ना बालों में गंदगी, फंगल इन्फेक्शन, वंशानुगत गंजापन, हेयर स्टाइल, कुपोषण, सर्जरी, कीमोथेरेपी आदि के कारण हो सकता है। तानिया कैपिटिस बच्चों में होने वाला एक आम फंगल संक्रमण है जो बालों के झड़ने का कारण बन सकता है।

बालों के झड़ने के उपाय

बालों का झड़ना एक आम समस्या है लेकिन थोड़ी सी सावधानी बरतकर आप इससे छुटकारा पा सकते हैं। बालों को अधिक प्रोटीन की जरूरत होती है। प्रोटीन की कमी से बाल बेजान हो जाते हैं। इसलिए उसे जरूरी मात्रा में प्रोटीन दें। बालों को पर्मिंग, कलर करने और स्ट्रेट करने से बचें। शैम्पू बदलने की गलती न करें। बालों को धोने के बाद मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल करें और सीरम या कंडीशनर लगाएं। गुनगुने तेल से मालिश करें। इससे बाल चमकदार बने रहेंगे। भोजन में दूध, फल, हरी सब्जियां, पीली सब्जियां, मछली जरूर शामिल करें। खूब पानी पिए। किसी भी तरह का फंगल इंफेक्शन होने पर तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।

सफेद बालों के कारण

विटामिन की कमी: अक्सर हमारे शरीर में विटामिन की कमी हो जाती है और इन्हीं गुणों के कारण बाल कम उम्र में ही सफेद हो जाते हैं। जिन लोगों में B-6, B-12, विटामिन-D या विटामिन-E की कमी होती है उन्हें बाल सफेद होने की समस्या का सामना करना पड़ता है। एक विटामिन रिपोर्ट प्राप्त करें।
विरासत में मिला: अक्सर बालों के सफेद होने के पीछे कोई वंशानुगत या अनुवांशिक कारण होता है। अगर हमारे परिवार में कोई व्यक्ति कम उम्र में सफेद हो जाता है, तो हमारे भी जल्द ही सफेद होने की संभावना बढ़ जाती है। अगर हमारे परिवार का कोई सदस्य कम उम्र में सफेद होने लगे या बाल झड़ने लगे तो हमारे बालों के भी सफेद होने और झड़ने का खतरा रहता है।
तनाव में रहना: तनाव हमारे शरीर को कई तरह के नुकसान पहुंचाता है। अत्यधिक तनाव का व्यक्ति के मस्तिष्क पर भी हानिकारक प्रभाव पड़ता है। साथ ही, कुछ लोगों को अपने बाल सफेद या घुंघराले लगते हैं। दरअसल, जब हम बहुत ज्यादा तनाव लेते हैं तो इसका हमारे दिमाग की कोशिकाओं पर बुरा असर पड़ता है और बाल कमजोर होने लगते हैं।
बालों में समय पर तेल न लगाना: तेल बालों को पोषण देने का काम करता है। तो बालों पर तेल की कमी के कारण बाल कमजोर होने लगते हैं और अक्सर सफेद हो जाते हैं। इसलिए आपको हफ्ते में दो से तीन बार अपने बालों में तेल से मालिश करने की जरूरत है।

मर भी जाएं तो Hotels में किसी भी दिन न खाएं ये एक चीज

सफेद बालों का इलाज

- आंवला बालों के लिए बेहतरीन माना जाता है और बालों पर आंवला पाउडर लगाने से बाल काले दिखने लगते हैं।
बालों को काला करने के लिए आप अपने बालों पर प्राकृतिक रूप से मेहंदी लगा सकती हैं। बालों में मेहंदी लगाने से बाल काले होते हैं और काले और मजबूत भी होते हैं। बालों में मेंहदी लगाने के लिए आपको चाय के पानी को अच्छी तरह उबाल कर उसमें मेंहदी मिलानी है, फिर इस मेहंदी को दो घंटे के लिए रख दें। फिर इसे अपने बालों पर लगाएं और जब यह सूख जाए तो बालों को पानी से साफ कर लें।
- आपको अपने आहार में बीन्स और अन्य प्रकार की हरी सब्जियों को शामिल करना चाहिए। इस तरह की सब्जी खाने से शरीर में विटामिन की कमी नहीं होती है और सफेद बाल भी काले हो जाते हैं।
- रासायनिक शैंपू या बालों की देखभाल करने वाले उत्पादों का प्रयोग न करें और अपने बालों में सरसों का तेल लगाएं।
- योगासन करने से बाल काले भी हो सकते हैं इसलिए रोजाना योग करें।

गंजेपन के कारण

- आज के युवा लड़के-लड़कियां सिर पर तेल नहीं लगाते हैं, भले ही सिर पर तेल न लगाएं, लेकिन आजकल उनके बाल सफेद और भूरे होने लगते हैं। पर्याप्त नींद की कमी से दांत दर्द, त्वचा रोग और रसायनों के अति प्रयोग गंजेपन के कारण हो सकते हैं।
- संतुलित आहार, स्वच्छ हवा और साफ पानी की कमी से गंजेपन की संभावना बढ़ जाती है। तनाव भी गंजापन का कारण बनता है। बालों का झड़ना टिनियासेफियस नामक जीवाणु के कारण भी होता है।
- रोग जन्मजात या वंशानुगत हो सकता है। अगर हमारे माता-पिता में से किसी एक को गंजापन है तो उसके बच्चों को भी यह समस्या हो सकती है या ऐसी कोई संभावना उत्पन्न होती है। रूखी त्वचा में भी गंजापन होने की संभावना अधिक होती है।
- कास्टिक साबुन के अत्यधिक उपयोग से बालों का झड़ना और गंजापन हो सकता है। पित्त दोष भी बालों के रोग और गंजेपन का कारण बनते हैं। एसीडीटी से लगातार पीड़ित रहने पर भी गंजापन हो सकता है। गंजेपन की शुरुआत तेज क्रोध या हिंसक स्वभाव के कारण भी हो सकती है।

गंजेपन के उपाय

सरसों का तेल और मधुकोश: सबसे पहले आपको सरसों का तेल गर्म करना है। आपको इसमें एक ततैया का छत्ता जोड़ना है और आप इसे कहीं भी पा सकते हैं। सरसों का तेल डालने के बाद आप छत्ते को गर्म करें, फिर तेल अच्छी तरह गर्म हो जाए, फिर छत्ते को अच्छी तरह से निथार लें और इस तेल से रोजाना 5 मिनट तक स्कैल्प पर मसाज करें। मान लें कि अगर आपने यह काम 2 से 3 महीने तक किया है तो आपके सिर पर बाल आने लगेंगे और 6 से 7 महीने के अंदर आपके सिर पर पूरे बाल आ सकते हैं।
प्याज का रस: प्याज के रस और शहद के साथ मिलाकर सिर पर लगाने से प्याज का रस बहुत असरदार होता है। जबकि प्याज का रस पैची हीलिंग एरीटा के इलाज में मदद करता है। शहद में एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं, जो डैंड्रफ और बालों के झड़ने की समस्या को दूर करते हैं। इसका इस्तेमाल करने के लिए आप प्याज का रस निकाल लें। अब इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर कॉटन बॉल की मदद से स्कैल्प पर लगाएं और आधे घंटे के लिए छोड़ दें। फिर शैम्पू से हेडवॉश करें। आप इस उपाय को हफ्ते में दो बार ले सकते हैं।
अदरक: कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि अदरक में बायोएक्टिव यौगिक होते हैं जो खोपड़ी में रक्त परिसंचरण को उत्तेजित करते हैं और बालों के रोम को नवीनीकृत करते हैं। इसका इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले अदरक को कद्दूकस कर लें और इसे जैतून या जोजोबा के तेल में कुछ देर के लिए भिगो दें। अब इस तेल को अपने बालों पर लगाएं और 2-3 मिनट तक मसाज करें और आधे घंटे के लिए छोड़ दें। अंत में अपने बालों को शैंपू कर लें। इस तरह आप हफ्ते में दो बार अदरक की मालिश कर सकते हैं।
मेथी: मेथी न केवल बालों के झड़ने की समस्या को कम करती है, बल्कि बालों के विकास में भी मदद करती है। इसका इस्तेमाल करने के लिए आप दो से चार चम्मच मेथी का पाउडर लें और इसे पानी या छाछ के साथ मिलाएं। अब इस पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और करीब एक घंटे के लिए छोड़ दें। अंत में अपने बालों को शैम्पू से धो लें। आप इस हेयर मास्क को हफ्ते में एक या दो बार लगा सकते हैं।
अंडे की जर्दी: अंडे प्रोटीन का सबसे अच्छा स्रोत हैं। अंडे की जर्दी में पेप्टाइड्स होते हैं जो बालों के रोम के विकास को प्रोत्साहित करते हैं। यह न केवल विकास को बढ़ाता है, बल्कि बालों को रेशमी, चमकदार और उछालभरी भी बनाता है। इसका इस्तेमाल करने के लिए आप अंडे की जर्दी लें और इसे अच्छे से फेंटने दें। इसके बाद इसे अपने स्कैल्प पर लगाएं और एक घंटे के लिए छोड़ दें। अब अपने बालों को शैंपू कर लें।

Health Tips: गैस-एसिडिटी का आयुर्वेदिक रामबाण इलाज

रूसी, जूँ, खुजली का उपचार

- जूँ एक प्राकृतिक कीट हैं। इससे छुटकारा पाने के लिए टी प्लांट ऑयल फायदेमंद होता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि टी ट्री ऑयल में कीटाणुनाशक प्रभाव होता है, जो जूँ और उनके अंडों से छुटकारा पाने में मददगार माना जाता है। रात को सोने से पहले टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को बालों में लगाएं। तकिए पर तौलिया रखकर सो जाएं। इस प्रक्रिया को हफ्ते में तीन बार दोहराएं।
- जूँ और उसके अंडों की समस्या के इलाज के लिए सिरका का उपयोग किया जा सकता है। क्योंकि इसमें एसिटिक एसिड के गुण होते हैं, जो बालों में मौजूद जुओं को बेहोश करने का काम करते हैं। ऐसा माना जाता है कि बेहोशी के बाद जुएं कमजोर हो जाती हैं, इसलिए उन्हें कंघी की मदद से हटाया जा सकता है।
- पानी और सिरका मिलाकर बालों में लगाएं। सिर को तौलिए से लपेटें और 30 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर कंघी को बालों में घुमाने से जूँ और उसके अंडे निकल जाते हैं। पुरानी समस्या से निजात पाने में नारियल तेल का इस्तेमाल मददगार हो सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार, नारियल का तेल जूँ को मारने में 80 प्रतिशत तक प्रभावी दिखाया गया है।
- ऐसा भी माना जाता है कि नारियल के तेल का इस्तेमाल बालों को मजबूत और चमकदार बनाने में भी मददगार होता है। तंबाकू को पानी में मिलाकर, पानी के ऊपर किताब पर पट्टी बांधकर या 5 से 6 घंटे तक शॉवर कैप से ढककर रखने और फिर सिर को एरेथा से धोने से जूँ और जुएँ मर जाती हैं। कस्टर्ड पाउडर को सिर में लगाने से जुएं मर जाती हैं। साथ ही प्याज के रस से सिर की त्वचा को भरने से जुएं भी मर जाती हैं।
- दो चम्मच नींबू के रस में एक चम्मच अदरक का पेस्ट डालकर 20 मिनट के लिए अपने स्कैल्प पर लगाकर सूखने पर ठंडे पानी से धो लें। इस प्रक्रिया को हफ्ते में दो बार करने से अच्छे परिणाम मिलते हैं। नमक और सिरके का मिश्रण बनाकर स्कैल्प पर लगाएं और दो घंटे बाद बालों को अच्छी तरह धो लें। जूँ तीन दिनों में नष्ट हो जाएगी।
- तुलसी के पत्तों का पेस्ट बनाकर स्कैल्प पर लगाएं और 20 मिनट तक सूखने दें। सूख जाने पर सिर को धो लें और सोते समय भी तकिये के नीचे कुछ पत्ते रख दें। तुलसी का उपयोग जूँ के इलाज के लिए भी किया जाता है। लहसुन के पेस्ट में नींबू का रस मिलाकर बालों पर लगाएं और एक घंटे बाद बाल धोने से जुएं आसानी से निकल जाती हैं।
- जैतून के तेल के कई फायदे हैं। इसके लाभों में से एक है जूँ से छुटकारा पाना। इस संबंध में, यह पाया गया है कि कुछ विशेष तेलों का उपयोग पुरानी समस्या से छुटकारा पाने में सहायक हो सकता है। इस तेल में जैतून के तेल का भी उल्लेख है। जैतून के तेल को बालों में अच्छे से लगाएं। शावर कैप से ढक दें और रात भर छोड़ दें। मृत जूँ और अंडे हटाने के लिए कंघी को बालों में घुमाएँ। फिर अपने बालों को गर्म पानी से धो लें।

बालों की समस्या के इलाज की जानकारी के लिए इस PDF को डाउनलोड करें: Click Here

अगर आपको ये लेख पसंद आया तो कृपया कमेंट करें और शेयर करें



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता

अगर आपको Viral News अपडेट चाहिए तो हमे फेसबुक पेज Facebook Page पर फॉलो करे.

सरकारी योजना सरकारी भर्ती 2020
The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.reporter17.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.



कोई टिप्पणी नहीं

Jason Morrow के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.