क्या आप भी खर्राटों की समस्या से परेशान हैं? तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

Admin
0


हर कोई रात में बिस्तर पर जाता है, लेकिन अक्सर हम पास के किसी व्यक्ति के खर्राटे के कारण पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं। अगर आप भी अपनी नींद में खर्राटों से पीड़ित हैं तो आपको शरीर का वजन कम करने के साथ-साथ कई अन्य उपाय करने होंगे।
क्या आप भी खर्राटों की समस्या से परेशान हैं? तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

क्या आप का नसीब अच्छा है ? तो यहाँ ट्राय करे  :- Click here


कई विशेषज्ञों के अनुसार, खर्राटों के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से मुख्य है अधिक वजन। एक स्वस्थ व्यक्ति का BMI यानी बॉडी मास इंडेक्स कुल मिलाकर 19-20 के आसपास होना चाहिए। यदि BMI कुल 25 से अधिक है, तो यह अधिक वजन होने का संकेत देता है। ये घरेलू उपचार खर्राटों की समस्या को कम करने के साथ-साथ वजन कम करने का भी काम कर सकते हैं।


अदरक-शहद की चाय

अदरक-शहद की चाय पीने से पेट दर्द, खांसी, जुकाम और दिल से जुड़ी कई समस्याओं से छुटकारा मिलता है। साथ ही इसके सेवन से वजन भी बहुत कम किया जा सकता है। यह गले को भी बहुत राहत देता है और खर्राटों को भी रोकता है। इस चाय को दिन में केवल 2 बार पीना चाहिए।

PVC Aadhar Card ऑनलाइन ऑर्डर कैसे करे - जानिए स्टेप बाय स्टेप

लहसुन और प्याज का सेवन

लहसुन और प्याज के सेवन से गले की खराश और सूजन भी कम होती है। यह स्लीप एपनिया को भी रोक सकता है। इसे अपने आहार में शामिल करें। हालांकि प्रभाव तत्काल नहीं हो सकते हैं, वे लंबे समय में फायदेमंद होंगे।

पुदीने का तेल

पुदीना गले और नाक के मार्ग की सूजन को भी कम करता है। इससे आपको सांस लेने में भी काफी आसानी होगी। पुदीने के तेल की कुछ बूँदें पानी में डालें। बिस्तर पर जाने से पहले इस पानी से कुल्ला भी करें। इस प्रक्रिया को दोहराने से त्वरित राहत भी मिलेगी।

फलों का सेवन

अच्छी नींद लेने में हार्मोन मेलाटोनिन बहुत मदद करता है। यह हार्मोन नींद की गुणवत्ता में भी काफी सुधार करता है। अनानस, संतरे और केले में भी मेलाटोनिन की मात्रा अच्छी होती है। यह खर्राटों को रोकने में भी बहुत सहायक है। इसलिए इन फलों का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए।

जैतून का तेल

वनस्पति तेलों के उपयोग से मधुमेह के साथ-साथ हृदय रोग का खतरा अधिक होता है। आहार में जैतून के तेल का उपयोग खर्राटों की समस्या को दूर करने में भी बहुत मदद करता है। यह हृदय की समस्याओं के जोखिम को काफी कम कर सकता है। इसे बिस्तर पर जाने से पहले पानी के साथ मिश्रित जैतून के तेल की कुछ बूंदों के साथ लिया जाना चाहिए। यह गले और नाक को बहुत राहत देता है।

भारतीयों के लिए खुशखबरी: दुनिया के 16 ऐसे देश जहाँ भारतीय घूम सकते है बिना वीजा के

नाह लो

सर्दी और खांसी के मामले में जैसे नाह लेने से बहुत राहत मिलती है। इसी प्रकार नाह से भी नासिका को बहुत राहत मिलती है। खर्राटे तब होते हैं जब वायुमार्ग खुले नहीं होते हैं, इसलिए बिस्तर पर जाने से पहले नाह लेना एक बहुत अच्छा उपाय है।


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)