Lifestyle : अब 16 की जगह 24 पर चलेगा AC, सरकार ने बदले नियम

Admin
0


New AC will run only at 24 degrees government rules इस साल जब आप गर्मी से निजात पाने के लिए नया एयरकंडीशनर (AC) खरीदेंगे तो वह 24 डिग्री सेल्सियस तापमान पर शुरू होगा. सभी कंपनियों के सभी तरीकों के एसी (AC) में डिफॉल्ट तापमान 24 डिग्री सेट रहेगा. ऊर्जा मंत्रालय ने नोटिफिकेशन जारी किया है. नये साल में नये सेटिंग के साथ ही एसी (AC) की मैन्युफैक्चरिंग होगी. सभी ब्रांड के स्टार रेटिंग वाले एसी (AC) के लिए नोटिफिकेशन जारी किए गए हैं. नये नियम 1 जनवरी 2020 से लागू हो गए हैं.

New AC will run only at 24 degrees government rules

New AC will run only at 24 degrees government rules

ब्यूरो ऑफ एनर्जी एफिशियंसी (BEE) के साथ मिलकर सरकार ने रूम एयर कंडीशनर्स (AC) के लिए एनर्जी परफॉरमेंस स्टैंडर्ड तय किया है. BEE से स्टार रेटिंग पाने वाने सभी रूम एयर कंडीशनर्स (AC) के लिए 24 डिग्री की डिफॉल्ट सेटिंग (New AC will run only at 24 degrees)अनिवार्य की गई है. इस साल 1 जनवरी से यह डिफॉल्ट तापमान अनिवार्य कर दिया गया है.

क्या आपने कभी आपका जन्मदिन रात 12 बजे मनाया है ? हो जाए सावधान, हो सकता है अशुभ


नए नियमों के मुताबिक एसी (AC) ऑन करने पर उसकी डिफॉल्ट सेटिंग 24 डिग्री ही होगी फिर आप सहूलियत के हिसाब से उसमें बदलाव कर सकते हैं. बिजली बचत के लिए सरकार ने फैसला लिया है. सभी मैन्युफैक्चर्स के लिए नये नियम एक जनवरी 2020 से आवश्यक किए गए हैं. पिछले साल इसे वॉलेंटरी रूप से लागू किया गया था.

ऊर्जा की बचत करेगी डिफॉल्ट सेटिंग

बीईई (BEE) ने फिक्स्ड-स्पीड रूम एयर कंडीशनर्स (AC) के लिए 2006 में स्टार लेबलिंग प्रोग्राम लॉन्च किया था, जिसे 12 जनवरी, 2009 में अनिवार्य कर दिया गया था. इसके बाद 2015 में इनवर्टर रूम एयर कंडीशनर्स (AC) के लिए वॉलुन्टरी स्टार लेबलिंग प्रोग्राम लॉन्च किया गया, जिसे 1 जनवरी, 2018 को लागू किया गया. रूम एयर कंडीशनर्स (AC) के लिए स्टार लेबलिंग प्रोग्राम ने अकेले वित्त वर्ष 2017-18 में ही 4.6 अरब यूनिट ऊर्जा की बचत की.

इस गांव की सिर्फ यात्रा कर लो हो जायेंगे माला माल ! जाने पूरी कहानी


इंटरनेशनल एनर्जी एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2050 तक दुनिया में एसी (AC) की सबसे ज्यादा मांग भारत से होगी. रिपोर्ट के मुताबिक एसी (AC) की खरीद में 4206% की बढ़ोत्तरी होगी. दूसरे नंबर पर इंडोनेशिया का नंबर आता है, जहां 1845% की दर से बढ़ोत्तरी होगी.जब दुनिया में एसी (AC) की मांग बढ़ेगी तो बिजली की खपत में भी इजाफा होगा. रिपोर्ट के मुताबिक ऊर्जा की अनुमानित मांग पर गौर करें तो 2050 तक ये 1997 से बढ़कर 6205 टेरावॉट/घंटे हो जाएगी.



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)