Health : यदि गर्भावस्था के दौरान माँ स्ट्रेस में है, तो बच्चे पर ऐसा प्रभाव पड़ता है

Admin
0
यदि गर्भावस्था के दौरान माँ पर जोर दिया जाता है, तो उसके बच्चों में 30 वर्ष की आयु तक व्यक्तित्व विकार होने की संभावना 10 गुना अधिक होती है। अध्ययन फिनलैंड में 3600 महिलाओं पर किया गया था। तदनुसार, भले ही लंबे समय में माँ को हल्का तनाव होता है, फिर भी यह बच्चे के विकास को प्रभावित करता है। जन्म के बाद इसका प्रभाव बढ़ जाता है।


तनाव, माँ से जुड़ी समस्याओं, सामाजिक कारकों और मनोवैज्ञानिक समस्याओं के कारण हो सकता है। मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि यदि गर्भावस्था के दौरान मानसिक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध हैं, तो महिलाओं और अजन्मे बच्चों को एक व्यक्तित्व विकार से बचाया जा सकता है।

यदि किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व का कुछ पहलू उसके जीवन को कठिन बना देता है, तो इसे व्यक्तित्व विकार कहा जाता है। ऐसे लोग अधिक उत्सुक, भावनात्मक रूप से अस्थिर, परस्पर विरोधी और असामाजिक होते हैं, जितना कि उन्हें होना चाहिए। ऐसे लोगों में अवसाद से पीड़ित होने की संभावना भी अधिक होती है।

यह भी पढ़े : क्या काँगो फीवर है ? सिर्फ 20% मरीज की की ही जान बचती है

जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान तनाव में रहती हैं, उनमें मिसकैरिज का खतरा बढ़ जाता है। अध्ययन यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन और झेजियांग विश्वविद्यालय, चीन द्वारा आयोजित किया गया था। शोधकर्ताओं का दावा है कि गर्भावस्था के दौरान तनाव लेने वाली महिलाओं में गर्भपात का खतरा 42 प्रतिशत बढ़ जाता है।

एक पिछली रिपोर्ट में पाया गया कि 24-सप्ताह की गर्भावस्था में 20% मामलों में तनाव का प्रमुख कारण है। एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि आंकड़ा बहुत बड़ा है। गर्भावस्था के दौरान तनाव से बच्चे पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

इस तरह से तनाव कम करें

- बहुत ज्यादा काम का तनाव न लें

- योग या स्ट्रेचिंग करें

- तैरने या चलने जैसे व्यायाम करें

- संतुलित आहार लें

- रात को जल्दी ही सोना चाहिए

- खुश रहें, मुस्कुराते रहें

- किताबें पढ़े

यह भी पढ़े : वजन कम करने के लिए सुबह में इस तरह से लहसुन और शहद का सेवन करें

गर्भावस्था में तनाव अजन्मे बच्चे के मस्तिष्क और हृदय को प्रभावित करता है। गर्भवती को रक्तचाप सहित अन्य समस्याएं भी हो सकती हैं। यदि गर्भावस्था के अंतिम चरण के दौरान मां पर जोर दिया जाता है, तो बच्चे को कम ऊर्जा मिलती है जो कि बच्चे के गर्भ के विकास को प्रभावित कर सकती है।

Advertisement



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)