क्यों राहुल गांधी को मनाने में जुटे कांग्रेस के बड़े नेता : जानिए पूरा मामला

लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद कांग्रेस में मचे घमासान के बीच कांग्रेस में संकट बरकरार नजर आ रहा है। लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद राहुल गांधी इस्तीफे पर अड़े हुए हैं। 1बताया जा रहा है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और प्रियंका गांधी राहुल को मनाने में जुटे रहे।


इस बीच बताया ये भी जा रहा है कि राहुल गांधी मान गए हैं। सूत्रों के मुताबिक राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहने की बात मान ली है, लेकिन कुछ शर्तें भी रखी हैं। उनका कहना है कि वह एक महीने तक इस पद पर रहेंगे जब तक कि दूसरा अध्यक्ष न चुन लिया जाए। हालांकि ये सिर्फ सूत्रों के हवाले से ही कहा जा रहा है। दूसरी ओर आज शाम कांग्रेस नेताओं की बैठक होने जा रही है जिसमें आगे की रणनीति पर विचार किया जाएगा।

इससे पहले राहुल को मनाने के लिए उनकी बहन और पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी के अलावा संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट उनके घर पहुंचे।

वर्ल्ड कप में लागू होंगे ये 7 नियम और खिलाड़ियों को रखना होगा इन 7 बातों का ध्यान

एक समाचार चैनल से पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा है कि राहुल ने कांग्रेस के बड़े नेताओं की बैठक बुलाई है। बैठक शाम साढ़े चार बजे उनके घर पर होगी। सुरजेवाला ने कहा है कि राहुल पार्टी के अध्यक्ष बने रहेंगे।

इससे पहले कई वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने सोमवार को राहुल से उनके घर पर मिलने की कोशिश की, लेकिन राहुल ने मिलने से इनकार कर दिया। इन सबके बावजूद राहुल ने कहा कि अब पार्टी को गांधी परिवार से बाहर किसी और को अध्यक्ष चुन लेना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को इस्तीफा सौंपा

वहीं, डीएमके अध्यक्ष एमके स्टालिन ने राहुल गांधी से फोन पर बात कर उनसे अध्यक्ष पद पर बने रहने की गुजारिश की। इस दौरान राहुल ने उन्हें तमिलनाडु में कांग्रेस-डीएमके गठबंधन की जीत पर बधाई दी। सोनिया गांधी ने भी उन्हें बधाई दी।

गहलोत से नहीं मिले थे राहुल
राजस्थान में सभी 25 सीट हारने के बाद कांग्रेस में छिड़ी कलह के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलने पहुंचे थे, लेकिन राहुल ने उनसे मुलाकात करने से इनकार कर दिया था। सूत्रों के मुताबिक राहुल ने सुबह 11 बजे गहलोत को मिलने का अपॉइंटमेंट दिया था लेकिन फिर उनसे मिलने से इनकार कर दिया।

भाजपा की बादशाहत बरकरार रहने की ये हैं 10 वजहें : फिर एक बार मोदी सरकार

राहुल गहलोत के पुत्रमोह पर भी नाराजगी जता चुके हैं, जिसके बाद गहलोत एआईसीसी संगठन के प्रमुख केसी वेणुगोपाल से चर्चा के बाद वापस लौट गए। राहुल ने कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में कहा था कि गहलोत और कमलनाथ जैसे नेताओं ने अपने बेटों और रिश्तेदारों को टिकट दिलाने की जिद की और वो उन्हीं को चुनाव जिताने में लगे रहे।

वायनाड जा सकते हैं राहुल
वहीं माना जा रहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी वायनाड लोकसभा क्षेत्र से अपनी जीत के बाद वहां के लोगों को धन्यवाद देने जाएंगे। वह अगले दो दिन के लिए वायनाड के दौरे पर जा सकते हैं। अमेठी में मिली हार के बाद राहुल का ये दौरा काफी अहम माना जा रहा है।

कांग्रेस की हार के 10 सबसे बड़े और प्रमुख कारण

हालांकि सूत्रों का कहना है कि राहुल के इस्तीफे को सीडब्लूसी ने अस्वीकार करते हुए कहा है कि उन्हें पार्टी में आवश्यक बदलाव करने की पूरी छूट है। इसके अलावा राज्य ईकाई भी इस बात का दबाव बना रही है कि राहुल इस्तीफा ना दें। यही कारण है कि राज्य ईकाइयों के प्रमुख पार्टी के सामने अपने इस्तीफे की पेशकश कर रहे हैं।

हम अपने सभी visitors से अनुरोध करते है की अगर आपको इस वेबसाइट से सहायता मिली हो तो अपने सभी मित्रो को इसके बारे में बताये। और उनके साथ शेयर करे।

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to "क्यों राहुल गांधी को मनाने में जुटे कांग्रेस के बड़े नेता : जानिए पूरा मामला"

Post a Comment