प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को इस्तीफा सौंपा

लोकसभा चुनाव के अंतिम परिणाम शुक्रवार शाम आ गए। भाजपा की अगुवाई में एनडीए ने एकतरफा जीत हासिल करते हुए लोकसभा की 542 में से 353 सीटें जीती हैं। वहीं, कांग्रेस की अगुवाई में यूपीए केवल 91 सीटों पर सिमट गया।


बाकी 98 सीटें अन्य दलों के खाते में गई हैं। इसके साथ ही नई सरकार के गठन की प्रक्रिया भी शुरू हो गई। अंतिम नतीजे आने के बाद शाम को हुई कैबिनेट बैठक में मौजूदा लोकसभा भंग करने की सिफारिश की गई। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात कर इस्तीफा सौंपा, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया।

शनिवार को भाजपा संसदीय दल और एनडीए सांसदों की बैठक होगी, जिसमें मोदी को नेता चुना जाएगा। इसके बाद मोदी राष्ट्रपति से मुलाकात कर सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। माना जा रहा है प्रधानमंत्री मोदी 30 मई को दोबारा शपथ ले सकते हैं।

इस घड़ी में कभी नहीं बजते 12

शपथ ग्रहण समारोह को भव्य बनाने और दुनिया को संदेश देने के लिए पी-5 देशों (अमेरिका, रूस, चीन, ब्रिटेन, फ्रांस) तथा इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण देशों के शासनाध्यक्षों को भी बुलाने की तैयारी चल रही है। इसके बाद ही शपथ की तारीख पर अंतिम मुहर लगेगी। गौरतलब है कि बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक के बावजूद ओआईसी ने पहली बार भारत को अपनी बैठक में आमंत्रित किया था। इसके विरोध में पाकिस्तान ने इस बैठक का बहिष्कार किया था। 2014 में मोदी सरकार के शपथ ग्रहण समारोह में पाकिस्तान सहित सार्क देशों के राष्ट्राध्यक्ष शामिल हुए थे।

गांधीनगर-वाराणसी जाएंगे पीएम
प्रधानमंत्री शपथ ग्रहण से पूर्व मां का आशीर्वाद लेने गांधीनगर जा सकते हैं। इसके अलावा वह अपने संसदीय क्षेत्र के मतदाताओं का आभार जताने वाराणसी भी जाएंगे। हालांकि अभी इसका कार्यक्त्रस्म तय नहीं हुआ है। 2014 के नतीजे आने के बाद भी मोदी ने शपथ ग्रहण से पूर्व मां का आशीर्वाद लेने के बाद वडोदरा में मतदाताओं को धन्यवाद दिया था।

भाजपा की बादशाहत बरकरार रहने की ये हैं 10 वजहें : फिर एक बार मोदी सरकार

नए मंत्रिमंडल में नहीं होंगे जेटली, शाह होंगे शामिल
वित्तमंत्री अरुण जेटली मोदी की नई कैबिनेट में शामिल नहीं होंगे। खराब सेहत के कारण उन्हें इलाज के अमेरिका या ब्रिटेन जाना है। वहीं, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह नए मंत्रिमंडल में शामिल हो सकते हैं। उन्हें गृह, वित्त, विदेश या रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी दी जा सकती है।

जीतने के बाद मोदी ने छुए आडवाणी-जोशी के पैर

पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा प्रमुख अमित शाह ने शुक्त्रस्वार को मार्गदर्शक मंडल के सदस्य और वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी से मुलाकात की। मोदी ने ट्वीट किया, आदरणीय आडवाणी जी से मुलाकात की। भाजपा की सफलता आज इसलिए संभव हो पाई क्योंकि उनके जैसे महान नेताओं ने पार्टी निर्माण में दशकों बिताए और नई विचारधारा दी। जोशी से मुलाकात के बाद मोदी ने ट्वीट किया, उन्होंने भाजपा को मजबूत करने के लिए हमेशा काम किया। मेरे जैसे समेत कई कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन किया।

कांग्रेस की हार के 10 सबसे बड़े और प्रमुख कारण

हमने पार्टी का बीज लगाया था। अब देश को फल दिलाना दोनों नेताओं की जिम्मेदारी है।
- मुरली मनोहर जोशी 

हम अपने सभी visitors से अनुरोध करते है की अगर आपको इस वेबसाइट से सहायता मिली हो तो अपने सभी मित्रो को इसके बारे में बताये। और उनके साथ शेयर करे।

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को इस्तीफा सौंपा"

Post a Comment