ऐसी घड़ी और कैलेंडर घर में कभी नहीं रखना चाहिए

Admin
0
महँगी Watch (घड़ी) पहनने से अच्छा समय नहीं मिलता, अर्थात Time (समय) नहीं बदलता। लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार स्थापित Watch व्यक्ति का Time बदल सकती है। एक Watch किसी का समय बना या बिगाड़ सकती है। वास्तु शास्त्र के कुछ अच्छे उपायों को ध्यान में रखते हुए व्यक्ति अपने बुरे समय को भी अच्छे दिनों में बदल सकता है।

ऐसी घड़ी और कैलेंडर घर में कभी नहीं रखना चाहिए



प्रत्येक घर में कम से कम एक Calendar (कैलेंडर) स्थापित होना चाहिए। लेकिन क्या आपने कभी गौर किया है कि आपने अपने घर में जो Calendar लगाया है उसका मुख किस दिशा में है? वास्तु शास्त्र के अनुसार New Calendar लगाने के लिए दिशा का ध्यान रखना जरूरी है। क्योंकि इससे सुख-समृद्धि आती है। इतना ही नहीं अगर आप अपने Old Calendar को घर से निकाल कर नहीं रखते हैं तो यह घर के सदस्यों की प्रगति में बाधा उत्पन्न करता है। तो आइए आपको बताते हैं कि Calendar लगाने से पहले किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

सेव टमाटर की सब्जी खाने से शरीर को होता है इतना बड़ा नुकसान

इसी तरह वास्तु शास्त्र भी कैलेंडर को ठीक से ठीक करने की विधि के बारे में बताता है। कैलेंडर को सही दिशा में स्थापित करने से प्रगति होती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार पुराने कैलेंडर को हटा देना चाहिए। नए साल में नया कैलेंडर लगाएं, ताकि नए साल में पुराने साल की तुलना में अधिक शुभ अवसर प्राप्त हों। तिथि, वर्ष, समय सब आगे और आगे और आगे बढ़ते रहते हैं। नया साल बदलते ही घर में कैलेंडर बदल जाता है। कैलेंडर हमारे जीवन को प्रभावित करता है।

Calendar को कभी भी मुख्य दरवाजे के सामने न लगाएं। क्योंकि ऐसा करने से दरवाजे से गुजरने वाली ऊर्जा प्रभावित होती है। इतना ही नहीं, तेज हवाएं भी कैलेंडर के पन्ने पलटने का कारण बनती हैं जो कि अच्छा नहीं माना जाता है। पूर्व दिशा में कैलेंडर रखने से जीवन में प्रगति होती है। इस दिशा में उगते हुए सूर्य, भगवान आदि के चित्रों वाला कैलेंडर लगाएं, जो लाल या गुलाबी रंग का हो। उत्तर दिशा में नदी, समुद्र, झरनों, विवाह आदि के चित्रों वाला कलैण्डर रखना चाहिए। जिसमें हरे और सफेद रंग का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है।

Calendar हमेशा उत्तर पश्चिम या पूर्व की दीवार पर लगाना चाहिए। सुनिश्चित करें कि कैलेंडर में हिंसक जानवरों, उदास चेहरों की छवियां नहीं हैं। क्योंकि ऐसी तस्वीरें घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार करती हैं।

दक्षिण दिशा निश्चित है इसलिए यहां समय रखने वाली वस्तुएं नहीं रखी जा सकतीं। यह घर के सदस्यों की प्रगति में बाधा डालता है और घर के मुखिया के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। पश्चिम दिशा के कोने पर जो उत्तर दिशा की ओर हो, कैलेंडर लगाना चाहिए। कैलेंडर को पश्चिम दिशा में रखने से काम में तेजी आती है और कार्यक्षमता भी बढ़ती है। कैलेंडर में संतों, महापुरुषों और भगवान के चित्र हों तो यह अधिक शुभ माना जाता है। घर के किसी भी दरवाजे पर आगे या पीछे की ओर मुख करके कैलेंडर नहीं लगाना चाहिए। क्योंकि ऐसा करना परिवार के जीवन के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। एक नए कैलेंडर को पुराने कैलेंडर पर कभी भी आरोपित नहीं किया जाना चाहिए। ऐसा करने से घर में नकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।

तो आइए अब हम आपको विस्तार से जानकारी देते हैं कि घर में घड़ी किस दिशा में होनी चाहिए और घर में कौन सी घड़ी नहीं लगानी चाहिए।

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की दक्षिण दिशा में घड़ी लगाने से उन्नति के अवसरों में बाधा उत्पन्न होती है। इसके अलावा घर के मुख्य व्यक्ति का स्वास्थ्य भी ठीक नहीं रहता है। कभी भी दरवाजे के ऊपर घड़ी नहीं लगानी चाहिए। यहां घड़ी रखने से घर के अंदर और बाहर की हलचल घड़ी पर नकारात्मक ऊर्जा को प्रभावित करेगी। जिससे कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। वास्तु विज्ञान में उत्तर और पूर्व दिशाओं को विकास की दिशा माना जाता है। इसलिए घड़ी को उत्तर या पूर्व दिशा की ओर मुख वाली दीवार पर लगाना चाहिए। घर में पेंडुलम घड़ी लगाने से व्यक्ति के जीवन का बुरा समय दूर होता है और प्रगति के नए अवसर मिलते हैं।

घर में कभी भी टूटी हुई घड़ी नहीं रखनी चाहिए। यह घर की नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाता है और सकारात्मक ऊर्जा को कम करता है। साथ ही ऐसी घड़ी व्यक्ति की प्रगति में बाधक बन जाती है। घर की सभी टूटी-फूटी घड़ियां घर में नहीं रखनी चाहिए। साथ ही घड़ी पर धूल कभी नहीं जमनी चाहिए। सही समय के आगे और पीछे चलने वाली घड़ी शुभ नहीं होती है। ऐसी घड़ी से व्यक्ति को परेशानी और हानि का सामना करना पड़ता है। घड़ी को हमेशा सही समय पर सेट करना चाहिए।

जानिए अगर दांतों के बीच गैप हो तो शास्त्रों का क्या मतलब होता है

घर में हरी और केसरिया घड़ियां और दुकान में काली-नीली घड़ी नहीं लगानी चाहिए। यह घर और दुकान में नकारात्मक ऊर्जा पैदा करता है। घर के हॉल में चौकोर घड़ी और बेडरूम में गोल घड़ी लगानी चाहिए। ऐसा करने से घर में सुख शांति बनी रहती है। तकिये के नीचे घड़ी रखना वास्तु की दृष्टि से अशुभ माना जाता है। यह व्यक्ति की सोच पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। इससे उसका स्वभाव बदल जाता है। घर में सकारात्मक ऊर्जा संचार बनाए रखने के लिए दीवार पर मधुर संगीत वाली घड़ी लगानी चाहिए।

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)