सरकारी नौकरी जानकारी ग्रुप Join Whatsapp Join Now!

नीलकंठ धाम स्वामीनारायण मंदिर (पोइचा), जानें इसके आकर्षणों के बारे में



Gujarat Tourism 2022 पोइचा गांव में 105 एकड़ में फैला नीलकंठ मंदिर (Nilkanth Dham Mandir) स्वामीनारायण गुरुकुल राजकोट द्वारा बनाया गया है। नर्मदा नदी के तट पर बना यह मंदिर अपनी विशालता के लिए प्रसिद्ध है। यह मंदिर भगवान स्वामीनारायण को समर्पित है। मंदिर की वास्तुकला शानदार है।

नीलकंठ धाम स्वामीनारायण मंदिर (पोइचा), जानें इसके आकर्षणों के बारे में



मिथकों को विशाल मूर्तियों के माध्यम से चित्रित करते हुए यहां बहुत बड़े और सुंदर उद्यान बनाए गए हैं। मंदिर परिसर में रुकने की व्यवस्था की गई है। आधुनिक सुविधाओं से लैस यह मंदिर हजारों भक्तों को अपनी ओर आकर्षित करता है। इस मंदिर को देखने के लिए दुनिया भर से कई लोग आते हैं।

दुनिया के 16 ऐसे देश बिना वीजा आप घूम सकते है ! पूरी जानकारी 

नीलकंठ धाम मंदिर (Nilakanth Dham Mandir) के आकर्षण

105 एकड़ के क्षेत्र में फैले मंदिर का नजारा छुट्टियों के दौरान अलग ही होता है। भीड़ को देखकर ऐसा लगता है जैसे यहां मेले का आयोजन किया गया हो। नीलकंठ धाम, स्वामीनारायण मंदिर और सहजानंद विश्वविद्यालय को दो भागों में बांटा गया है। मंदिर के प्रवेश द्वार पर भगवान नटराज की मूर्ति विराजमान है। एक बहुत बड़ा सरोवर बना हुआ है और उसके बीच में शिवलिंग गणेशजी हनुमानजी के मंदिर और कई अन्य छोटे-बड़े मंदिरों के साथ-साथ 108 गौमुखी गंगा नीचे की ओर बहने वाली नर्मदा नदी के पानी में स्नान करने वाले भक्तों की भीड़ इतनी ही रहती है सुबह से शाम तक।

नीलकंठ धाम स्वामीनारायण मंदिर (पोइचा)





शाम के समय मंदिर का नजारा इतना खूबसूरत होता है कि जब आप इसे देखते हैं तो ऐसा लगता है जैसे आप किसी महल में घूम रहे हों। मंदिर में रंग-बिरंगी रोशनी से भक्त भक्ति गीत गाते और चारे की ओर नाचते नजर आते हैं।

प्रसाद के रूप में मिलती है छाश

यहां दूध और पानी से भगवान का अभिषेक किया जाता है और इस दूध से छाश बनाकर प्रसाद के रूप में बांटा जाता है। मिठाई आमतौर पर मंदिरों में प्रसाद के रूप में मिलती है लेकिन यहां पर अभिषेक में इस्तेमाल होने वाले दूध से प्रसाद बनाया जाता है।

नीलकंठ धाम स्वामीनारायण मंदिर (पोइचा)





मंदिर में आरती का समय

नीलकंठ धाम स्वामीनारायण मंदिर (पोइचा)




मंदिर में सुबह 5:00 बजे से 6:00 बजे तक और शाम को 6:00 बजे से 7:00 बजे तक आरती की जाती है। विशेष अवसरों और त्योहारों पर आरती के समय में थोड़ा बदलाव किया जाता है। दर्शन के अलावा अगर आप लाइट शो देखना चाहते हैं तो आप शाम 7:00 बजे से 10:00 बजे के बीच आएं।

समय

नीलकंठ धाम स्वामीनारायण मंदिर (पोइचा)




- दर्शन का समय - सुबह 9:30 से शाम 8:00 बजे तक
- आरती का समय - सुबह 5:00 से 6:00 बजे तक
- अभिषेक का समय - सुबह 5:30 से 6:00 बजे तक
- लाइट शो का समय - शाम 7:00 बजे

इधर-उधर भटकते समय भूख लगे तो कहीं और जाने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इस परिसर में ही फूड कोर्ट भी बना हुआ है। अगर आप बाहर से आ रहे हैं और ठहरने के लिए कमरा बुक करना चाहते हैं तो आप इस नंबर (+91) 9925033499 पर कॉल कर सकते हैं। हालांकि ध्यान रहे कि रात 9:30 बजे के बाद मंदिर के कपाट बंद कर दिए जाते हैं।

मंदिर की व्यवस्था और आकर्षण

नीलकंठ धाम स्वामीनारायण मंदिर (पोइचा)




- पार्किंग की पुख्ता व्यवस्था
- रहने और खाने की उचित व्यवस्था
- बच्चों के लिए आकर्षक मैदान
- हरी पहाड़ियों पर भागवत लीला चरित्र
- खूबसूरत सरोवर के बीच में नीलकंठ महाराज का मंदिर
- भगवान स्वामीनारायण की 12 फीट ऊंची विशाल प्रतिमा
- प्राकृतिक पार्क, कलाकृतियों से भरा घर
- वाटर शो, लेजर शो, डांसिंग फाउंटेन
- बोटिंग कर प्रकृति के अद्भुत नजारे
- अद्भुत एक्वेरियम और बर्ड वाचिंग
- सहजानंद आर्ट गैलरी और मिरर हाउस
- हॉरर हाउस, फूल घड़ी
- इन्फोसिटी एंड साइंस सेंटर
- एम्यूज़मेंट पार्क

Booking Info :- Click here

सभी जानकारी के लिए Video जरूर देखे


अगर आपको ये लेख पसंद आया तो कृपया कमेंट करें और शेयर करें



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता

अगर आपको Viral News अपडेट चाहिए तो हमे फेसबुक पेज Facebook Page पर फॉलो करे.

सरकारी योजना सरकारी भर्ती 2022
The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.reporter17.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.



कोई टिप्पणी नहीं

Jason Morrow के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.