वड़ताल अक्षर भवन म्यूजियम का 3D Video देखे

Admin
3


Vadtal (वड़ताल) में गोमती नदी के तट पर 150 करोड़ रुपये की लागत से Akshar Bhuvan Museum (अक्षर भुवन संग्रहालय) का निर्माण किया जायेगा। जिसकी खुदाई पिछले 10 तारीख को आचार्य राकेश प्रसाद दास और वड़ताल गद्दी के संतों ने की थी।

वड़ताल अक्षर भवन म्यूजियम का 3D Video देखे



फिर Reporter17 सबसे पहले आपको इस Museum 3D Video (म्यूजियम का 3डी वीडियो) और तस्वीर दिखाती हैं। खास बात यह है कि यह संग्रहालय अगले ढाई साल में बनकर तैयार हो जाएगा।

3D एनिमेशन वाला स्वामीनारायण वचनामृत वीडियो देखें

Vadtal Akshar Bhuvan Museum 3D Video

संग्रहालय भगवान Swaminarayan (स्वामीनारायण) द्वारा उपयोग की जाने वाली वस्तुओं को प्रदर्शित करेगा।

वड़ताल मंदिर के कोठारी चिकित्सक संत वल्लभस्वामी ने संग्रहालय की विशेषता के बारे में बात करते हुए कहा कि Akshar Bhuvan (अक्षरभुवन) में God Swaminarayan (भगवान स्वामीनारायण) के जीवन में प्रयुक्त वस्तुएं जैसे सुवर्णा पिचकारी, गायकवाड़ सरकार द्वारा अर्पित नवलखो हर, धरमपुर की राजकुमारी कुशाल कुंवरबा द्वारा दिया गया जरी से बुना हुआ मुकुट, 51 वटनी आरती, स्वामीनारायण भगवान के नाखून, हड्डी, बाल, चरणराज, मोजड़ी, दुपट्टा, शॉल, तीर और धनुष प्रदर्शित किया जाएगा।

Vadtal Akshar Bhuvan Museum 3D Video

संग्रहालय 4,70,150 वर्ग फुट में आकार लेगा।

संग्रहालय की निर्माण विशेषताओं के बारे में बात करते हुए संतवल्लभ स्वामी ने कहा कि संग्रहालय कुल 4,70,150 वर्ग फुट के क्षेत्र में फैला होगा। जिसमें से 1,24,630 वर्ग फुट में संग्रहालय भवन का निर्माण किया जाएगा। संग्रहालय 444 स्तंभों और 740 मेहराबों पर बनाया जाएगा। इसमें 4 बड़े गुंबद, 31 छोटे गुंबद, 16 समरन होंगे। और संग्रहालय में 9 बड़े प्रदर्शनी कक्ष, एक VIP स्वागत कक्ष, संत आश्रम होगा। संग्रहालय के बीच में कमल के डिजाइन में नवधा भक्ति नजर आएगी। प्रत्येक कमल की पंखुड़ी पर 16-16 फुट की पीतल की मूर्ति और भगवान स्वामीनारायण की 52 फुट की मूर्ति स्थापित की जाएगी।

Vadtal Akshar Bhuvan Museum 3D Video

पौराणिक पात्रों के नाम की पूरी ABCD PDF Download करे

संग्रहालय 2 हजार वर्षों तक खड़ा रहेगा।

इस संबंध में डॉ. संत वल्लभस्वामी ने कहा कि संग्रहालय के निर्माण में बलुआ पत्थर का प्रयोग किया जाएगा। जिससे यह पूरा संग्रहालय 2 हजार साल तक बाधित रहेगा। अभर्भुवन की इमारत 108 फीट ऊंची होगी। इसके अलावा सीता-राम, हनुमानजी, गणेशजी, राधाकृष्ण, मीराबाई, नरसिंह मेहता, तुकाराम और तुलसीदास जैसे महान संतों की मूर्तियों को भी भूनिर्माण में रखा जाएगा। संग्रहालय के बीच में कमल के चारों ओर परिक्रमा पथ पर कुल 168 गुंबद होंगे। यहां आने वाले पर्यटकों के लिए कैफेटेरिया एरिया और बाजार भी स्थापित किया जाएगा। इतना ही नहीं हजारों लोग एक साथ लाइट एंड साउंड फाउंटेन शो के रोमांच का लुत्फ उठा सकेंगे।




Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

3Comments
  1. Replies
    1. सर, थोड़ा ध्यान से पोस्ट पढ़े

      Delete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
Post a Comment