पित्रु या स्वर्गीय माता पिता की तस्वीर कहा लगानी चाहिए ? जाने और दोषों से मुक्त हो जाये

Admin
0


अगर आपके घर में भी स्वर्गीय माता-पिता या परिवार के सदस्यों की तस्वीरें हैं, तो एक बार जानना जरूरी है, ज्यादातर लोग नहीं जानते।

पित्रु या स्वर्गीय माता पिता की तस्वीर कहा लगानी चाहिए ? जाने और दोषों से मुक्त हो जाये


जो इस दुनिया से चले गए हैं जैसे दादा-दादी, माता-पिता आदि, पितृ या पूर्वज कहलाते हैं। उनके जाने के बाद बस उनकी यादें रह जाती हैं, जिनसे हमारा गहरा नाता है। अधिकांश लोग पूजाघर में पितृओ की चित्र लगाकर पूजा करते हैं। शास्त्रों के अनुसार ऐसा करना ठीक नहीं  है। पितृ देवता समान होते हैं, लेकिन देवताओं के स्थान पर उनके तस्वीर नहीं लगानी चाहिए।  वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में पितृओ की तस्वीरें रखनी चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से उनकी कृपा सदैव बनी रहती है। लेकिन उसके लिए भी कुछ नियम हैं, जिससे आपको पितरों और देवताओं की कृपा प्राप्त हो सकती है।

इस स्थान पर पितृओ की तस्वीर लगाने से होती है परेशानी

death photo frame best Idea in india


वास्तु शास्त्र के अनुसार, पितृओ की तस्वीर को गलती से बेडरूम या किचन में केंद्रीय स्थान पर नहीं लगानी चाहिए । बेडरूम या किचन में ना लगाए तो ही बेहतर। ऐसा करने से पितृओ का अपमान होता है और घर में पारिवारिक कलह बढ़ जाता है। साथ ही सुख-समृद्धि में कमी आती है।

यहाँ एक तस्वीर रखना देव दोष माना जाता है

शास्त्रों में घर के मंदिर में पितृओ के तस्वीर लगाना वर्जित माना गया है। देवी-देवताओं के स्थान पर पितृओ की तस्वीर रखने से देवी-देवता क्रोधित होते हैं और अपराध बोध भी महसूस होता है। शास्त्रों में कुलपतियों और देवताओं के स्थान का अलग-अलग उल्लेख है। क्योंकि मित्र समान रूप से सहायक और देवताओं के समान सम्मानित होते हैं। दोनों को एक ही स्थान पर रखने से किसी की कृपा से शुभ फल नहीं मिलते हैं।

सुख-समृद्धि में हानि होती है

पित्रु या स्वर्गीय माता पिता की तस्वीर कहा लगानी चाहिए ? जाने और दोषों से मुक्त हो जाये


माता-पिता की तस्वीर कभी भी घर में ऐसी जगह नहीं लगानी चाहिए, जहां घूमते-फिरते आप उसे देख सकें। साथ ही ऐसी तस्वीरें दक्षिण और पश्चिम दिशा की दीवारों पर नहीं लगानी चाहिए। ऐसा करने से सुख-समृद्धि में कमी आने लगती है।

स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव

जीवित व्यक्तियों के बगल में कभी भी पूर्वजों का तस्वीर नहीं लगाना चाहिए। ऐसा करना शुभ नहीं माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति जीवित व्यक्तियों को एक साथ चित्रित करता है, उसका उस पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। साथ ही उनकी आयुष्य भी कम हो जाती है और जीने का उत्साह भी कम होने लगता है। वह व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार हो जाता है।

इस दिशा में तस्वीरें लेना सबसे अच्छा है

वास्तु शास्त्र के अनुसार पितृओ का चित्र हमेशा उत्तर दिशा की दीवार पर लगाना चाहिए, जिससे उनकी दृष्टि दक्षिण दिशा की ओर हो। दक्षिण दिशा को यम की दिशा और पितृओ की दिशा माना जाता है। यह अकाल मृत्यु और खतरे को रोक सकता है। उसी समय, आपको तस्वीर को उत्तर-पूर्व कोने के उत्तरी भाग में या ऐसी जगह पर रखना चाहिए जो दिशा दोष से मुक्त हो।

माता-पिता की तस्वीरें इस तरह न रखें

माता-पिता की तस्वीरें कभी नहीं लटकानी चाहिए। उनके चित्र रखने के लिए अलग से लकड़ी का स्टैंड बनाया जाए। इस बात का ध्यान रखें कि पूर्वजों की एक से अधिक तस्वीर कभी नहीं रखनी चाहिए और इसे कभी भी ऐसी जगह नहीं रखना चाहिए जहां मेहमान इसे न देख सकें। ऐसा करने से घर में नकारात्मकता आती है।



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)