क्या आपको यात्रा के दौरान मतली और उल्टी का अनुभव होता है? इन 5 टिप्स से पाएं राहत

Admin
0


Motion Sickness (मोशन सिकनेस) एक बहुत ही आम समस्या है। बहुत से लोगों को यात्रा के दौरान मतली और उल्टी का अनुभव होता है। Motion Sickness (मोशन सिकनेस) कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन जब आप जरूरी काम कर रहे होते हैं तो यह आपको बुरा महसूस करा सकता है।

क्या आपको यात्रा के दौरान मतली और उल्टी का अनुभव होता है

Motion Sickness (मोशन सिकनेस) कोई बीमारी नहीं है। कई लोगों को यात्रा के दौरान इस समस्या का अनुभव होता है क्योंकि उस समय नाक, कान, त्वचा और आंखों को अलग-अलग संकेत मिलते हैं। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि यह संकेत मिलते ही तंत्रिका तंत्र भ्रमित हो जाता है। इससे दिमाग जल्दी समझ नहीं पाता है और Motion Sickness (मोशन सिकनेस) के लक्षण सामने आने लगते हैं।

चेहरे पर पड़े ब्लैकहेड्स से परेशान हैं तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खा

Motion Sickness (मोशन सिकनेस) के लक्षण

उल्टी और घबराहट के अलावा Motion Sickness (मोशन सिकनेस) के कई लक्षण भी होते हैं, जैसे..
पीली त्वचा
पसीना ठंडा
चक्कर आना
मुंह में लार
सांस लेने में कठिनाई
सिरदर्द
अधिक नींद करें
अत्यधिक थकान

Motion Sickness (मोशन सिकनेस) कितना आम है?

किसी को भी Motion Sickness (मोशन सिकनेस) होना एक आम बात है। बस, ट्रेन, कार, फ्लाइट और जहाज से यात्रा करते समय यह एक समस्या हो सकती है। US नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार, हर तीन में से एक व्यक्ति Motion Sickness (मोशन सिकनेस) से पीड़ित है। महिलाओं के पास पुरुषों की तुलना में अधिक है। गर्भावस्था और मासिक धर्म के दौरान यह स्थिति अधिक आम है।

जिन लोगों को माइग्रेन होता है, उन्हें भी Motion Sickness (मोशन सिकनेस) होने की संभावना अधिक होती है। Motion Sickness (मोशन सिकनेस) के दौरान माइग्रेन होने की भी संभावना रहती है। Motion Sickness (मोशन सिकनेस) यह स्थिति 3 से 12 वर्ष की आयु के बच्चों में अधिक आम है। उम्र के साथ यह घटना घटती जाती है।

Motion Sickness (मोशन सिकनेस) पर काबू पाने के टिप्स

इस समस्या से छुटकारा पाने में आपकी मदद करने के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:

खाली पेट यात्रा न करें: यात्रा से पहले कुछ भी न खाने से उल्टी हो सकती है। चक्कर भी आ सकते हैं। हमेशा पेट भरकर यात्रा करें।

पीछे की सीट पर न बैठें: किसी वाहन की पिछली सीट पर बस की तरह बैठने से आपको तेज महसूस होता है। यह Motion Sickness (मोशन सिकनेस) का कारण बनता है।

भीड़भाड़ से बचना: भीड़भाड़ वाले वाहन में यात्रा करने से आपको घबराहट हो सकती है।

यात्रा के दौरान किताबें न पढ़ें: यात्रा के दौरान कुछ भी पढ़ना भ्रमित करने वाला हो सकता है। इससे Motion Sickness (मोशन सिकनेस) हो सकती है।

लौंग, नींबू और तुलसी को साथ रखें: उल्टी और घबराहट से बचने के लिए लौंग को चबाएं। तुलसी के पत्ते चबाने से लाभ होगा। एक बोतल में नींबू और पुदीने का पानी डालें। घबराहट होने पर आप नींबू के छिलके को सूंघ सकते हैं।

उपाय नंबर 1: यात्रा से आधा घंटा पहले अदरक को काटकर आपको कभी भी चक्कर या उल्टी नहीं हो सकती है या अगर आपको सोंठ है तो हर एक घंटे में इसे खाने से आपको कभी भी चक्कर या उल्टी नहीं होगी और आपकी यात्रा सफल होगी। .

उपाय नंबर 2: आपने बाजार से कुछ लौंग लीं और जब भी आपको लगे कि मुझे उल्टी होने की संभावना है, तो आप एक लौंग लेकर अपने मुंह में रख सकते हैं, इससे आपकी उल्टी या चक्कर आना बंद हो जाएगा।

उपाय नंबर 3: तुलसी के पत्ते चबाने से उल्टी नहीं होगी। साथ ही नींबू और पुदीने के रस को एक बोतल में भरकर रख लें और सफर के दौरान थोड़ा-थोड़ा करके पीते रहें।

उपाय नंबर 4 : नींबू को काटकर काले कागज से चाटें और उस पर छिड़कें। इससे आपका दिमाग स्वस्थ रहेगा और उल्टी नहीं होगी।

हार्ट अटैक की शुरुआत से 1 महीने पहले शरीर में ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं - जाने यहाँ

Note: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। किसी भी उपचार या उपाय को आजमाने से पहले डॉक्टर से सलाह लें।


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)