श्री सोनल धाम मढडा सोनल बीज महोत्सव Video

Admin
0
सोरथ की धूल भरी भूमि पर अनेक संत विराजमान हैं। उन्होंने अपने सेवा कार्यों के माध्यम से मानव धर्म की उत्कृष्ट सेवा करके अपनी दृढ़ भक्ति से समाज को एक उत्कृष्ट उदाहरण प्रदान किया है। सौराष्ट्र संतों की भूमि है वीरपुर में जलाराम बापा, जूनागढ़ में नरसिंह मेहता, बिल्खा में सेठ शगलशाह, सतधार में आपा गीगा। फिर हमें आई Sonal Mataji के परम धाम के दर्शन करने चाहिए। आज चरण के शक्ति पीठ के रूप में जाना जाता है, यह धाम जूनागढ़ के मढडा में माँ Sonal Dhaam है।

श्री सोनल धाम मढडा सोनल बीज महोत्सव Video





पॉश सूद बीज के दिन ही माताजी का जन्म दिवस पूरे विश्व में मनाया जाता है। माताजी के जन्मदिन को लोग Sonal Bij के रूप में मनाते हैं। मढडा से लेकर मेलबर्न, अहमदाबाद से लेकर इंग्लैंड तक सोनल माताजी का जन्मदिन हर साल बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। Sonal Bij जब भी आते हैं तो उनके भक्त मढडा अवश्य ही आते हैं।

घर बैठे भारत के प्रसिद्ध मंदिरों के Live Darshan करें मोबाइल पर फ्री में

माताजी के ऐसे अनेक भक्त हैं। वह तन, मन और धन से विश्वास में सिर झुकाता है। माताजी का हर उपदेश ऊंचा है और जीवन धन्य है।

मढडा वाली माँ श्री Sonal Dhaam मात्र 653 लोगों की आबादी वाला यह गांव जहां एक दैवीय आदिम शक्ति का जन्म हुआ जिसे माँ श्री Sonal Mataji के नाम से जाना जाता है। चरण समाज की माँ श्री Sonal पर अटूट आस्था है जिसके कारण माँ श्री Sonal Dhaam साल भर लाखों की संख्या में धड़क रहा है।

मंदिर में बिरजीत आई Sonal की दयालु मूर्ति को श्रद्धांजलि देने के लिए भक्त हर दिन मंदिर में आते हैं। 20 बीघा में फैला यह मंदिर भक्तों के सम्मान में एक परमात्मा है। Sonal Mataji को श्रद्धांजलि देने के लिए देश भर से भक्त आते हैं। इसी गांव में Sonal Mataji का जन्म हुआ था। माताजी का जन्म एक सामान्य इंसान की तरह ही हुआ था और उन्होंने दुनिया में कई लोगों को लाभान्वित किया है। Sonal Mataji के भक्त पूरी दुनिया में फैले हुए हैं। इन सभी भक्तों की माताजी में गहरी आस्था है। माताजी के आदेश के बिना कोई काम नहीं करता।

मढडा गांव में पिछले कई सालों से यहां हरि हर की आवाज सुनाई दे रही है। यानी सदाव्रत चलाया जाता है। कोई भूखा नहीं सोता और न किसी को संसार का दुख होता है। इस मंदिर में सुबह और शाम आरती की जाती है। आरती के दर्शन कर श्रद्धालु स्वयं को धन्य महसूस करते हैं। माताजी की आरती को श्रद्धांजलि देने के लिए स्थानीय लोग भी प्रतिदिन इस गांव में आते हैं। माताजी के दर्शन करने हर जाति के लोग आते हैं।

Sonal Bij मढडा Live कार्यक्रम

घर बैठे महादेव के 12 ज्योतिर्लिंग के Live Darshan करे मोबाइल पर फ्री

जाने-माने लोककथाकारों-भजनों का लोकडायरा Live फोन पर देखें



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)