नए साल से महंगे होंगे इस सामान के दाम

Admin
0
अगले महीने यानी 1 जनवरी से आम नागरिकों को कई वस्तुओं पर बढ़ते टैक्स का सामना करना पड़ेगा। ऐसे में नए साल की खुशियों के साथ महंगाई आपको थोड़ा परेशान कर सकती है।

नए साल से महंगे होंगे इस सामान के दाम



आम आदमी के लिए एक और झटका
1 जनवरी से महंगे होंगे ये सामान
GST 5 से बढ़कर 12 प्रतिशत हो जाएगा

आपका नंबर किसी के मोबाइल में सेव है या नहीं- जानिए यहाँ आसान तरीका

1 जनवरी से ये सब होगा महंगा

भारत में अगले साल की शुरुआत से यानी जनवरी 2022 से सभी की जेब पर बोझ बढ़ने वाला है। अगले महीने यानी 1 जनवरी 2022 से आम आदमी को कई वस्तुओं पर बढ़ते टैक्स का सामना करना पड़ेगा। आपको बता दें कि नया साल आपके लिए खुशियां लेकर आ रहा है लेकिन महंगाई आपको थोड़ी परेशान कर सकती है। कपड़े-चप्पल खरीदने से लेकर ऑनलाइन खाना ऑर्डर करना काफी महंगा हो जाएगा।

GST की दरें बढ़ेगी

गौरतलब है कि 1 जनवरी से रेडीमेड गारमेंट्स पर GST की दर 5 फीसदी से बढ़कर 12 फीसदी हो जाएगी। इससे रेडीमेड गारमेंट्स के दाम बढ़ेंगे। कपड़ा कारोबारियों का कहना है कि GST बढ़ने से खुदरा कारोबार पर बुरा असर पड़ेगा। रेडीमेड के कारोबार में शामिल व्यापारी GST में बढ़ोतरी का विरोध कर रहे हैं। हालांकि सरकार अपने फैसले से पीछे हटने के मूड में नहीं है ऐसे में उपभोक्ताओं को नए साल से रेडीमेड गारमेंट खरीदने के लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़ेगी। इस टैक्स स्लैब में नया संशोधन 1 जनवरी, 2022 से प्रभावी होगा।

GST दरों में बढ़ोतरी से लोग नाखुश

GST दरों में बढ़ोतरी से आम लोग भी खुश नहीं हैं। लोगों का कहना है कि GST बढ़ने से कपड़ों की कीमत में उल्लेखनीय वृद्धि होगी जिससे आम आदमी को काफी परेशानी होगी। कोरोना के समय में व्यापारी पहले से ही परेशान हैं। बाजार में बिल्कुल भी काम नहीं, GST बढ़ने से व्यापारी और ज्यादा परेशान होंगे।

इस तरह बदल जाएगा टैक्स स्लैब

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि अब तक 1000 रुपये तक की कीमत वाले जूते 5% GST के अधीन हैं, लेकिन जूते, चिपकने वाले, पेंट आदि 18% कर के अधीन हैं, जिसके कारण उलटा कर संरचना लागू होती है। इसके अलावा चमड़े पर 12% टैक्स लगता है। इस वजह से इनपुट टैक्स क्रेडिट लेना पड़ता है और सरकार को रिफंड देना होता है। फुटवियर के मामले में सरकार लगभग रु. 2,000 करोड़ वापस करने होंगे। जूते, कपड़े और खाद पर शुल्क ढांचे में बदलाव पिछले साल जून में होना था, लेकिन कोरोना महामारी के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था।

ऑनलाइन खाना ऑर्डर करने वालों के लिए नया साल भारी रहेगा।

कपड़े और जूतों के अलावा अगर आप भी ऑनलाइन खाना ऑर्डर करने के शौकीन हैं तो यह आपकी जेब पर भारी पड़ेगा। क्योंकि 1 जनवरी से कंपनियों को ऑनलाइन फूड डिलीवरी ऐप Zomato App और Swiggy App से खाने के ऑर्डर पर भी टैक्स देना होगा।

इस रोमांटिक जगह में आप सिर्फ 20 हजार रुपये में मना सकते हैं हनीमून

कंपनियां ग्राहकों से शुल्क लेंगी

नए साल से फूड डिलीवरी ऐप पर भी 5% GST लगेगा। हालांकि इससे यूजर्स को कोई फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि यह पहले से ही स्पष्ट है कि सरकार यह टैक्स उपभोक्ताओं से नहीं बल्कि ऐप कंपनियों से वसूल करेगी। लेकिन हमेशा से ऐसा होता आया है कि अगर सरकार की ओर से किसी कंपनी पर बोझ पड़ता है तो ऐप कंपनियां किसी तरह ग्राहकों से वसूल कर लेती हैं। ऐसे में ऑनलाइन खाना ऑर्डर करने वालों के लिए नया साल भारी होगा।

ATM से पैसा निकालना होगा महंगा

RBI ने 1 जनवरी, 2022 से मुफ्त मासिक सीमा के बाद नकद और गैर-नकद ATM लेनदेन के लिए शुल्क में वृद्धि को मंजूरी दे दी है। AXIS बैंक ने कहा कि रिजर्व बैंक (RBI) के दिशानिर्देशों के अनुसार, अधिक वित्तीय लेनदेन के लिए AXIS बैंक या अन्य बैंकों के ATM पर 21 रुपये प्लस GST होगी। ये संशोधित दरें 1 जनवरी, 2022 से प्रभावी होंगी।

कपड़े और जूते होंगे महंगे

नए साल में जूते और कपड़े खरीदने के लिए पहले से ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे. सिले-सिलाए कपड़े और जूते-चप्पलों पर माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की दर जनवरी 2022 से बढ़ रही है. सरकार पहले इन सामान पर 5 फीसदी की दर से जीएसटी लगाती थी, लेकिन इसको बढ़ाकर 12 फीसदी कर दिया गया है. नई दरें जनवरी 2022 से लागू हो जाएंगी.

रसोई गैस की कीमत में बदलाव

LPG की कीमतें हर महीने की पहली तारीख को निर्धारित की जाती हैं। लोगों को 1 सितंबर, 2021 से गैस के नए दाम मिल सकते हैं। 

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)