सरकारी नौकरी जानकारी ग्रुप Join Whatsapp Join Now!

Covishield और Covaxin में कौन सी वैक्सीन है बेहतर



देश में 1 मई से 18 साल से ऊपर के सभी लोगों का टीकाकरण शुरू हो गया है। टीकाकरण के लिए को-विन एप्लीकेशन पर 28 अप्रैल से पंजीकरण कराया जा रहा है। वर्तमान में केवल दो टीके, कोविशील्ड और कोवैक्सीन उपलब्ध हैं। 18 से 45 वर्ष की आयु के लोगों को निजी या सरकारी केंद्रों पर टीका लगवाना होगा। कुछ राज्यों ने मुफ्त टीकाकरण की भी घोषणा की है। इससे पहले कि आप तय करें कि कौन सा टीका लेना है, आपको कोविशील्ड और कोवैक्सिन के बारे में जानना होगा।

Covishield और Covaxin में कौन सी वैक्सीन है बेहतर


ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने भारत में कोरोना वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग को मंजूरी दे दी है। DCGI के निदेशक वीजी सोमानी द्वारा सीरम इंस्टीट्यूट के कोविशील्ड और भारत बायोटेक के कोवैक्सीन के आपातकालीन उपयोग की घोषणा के बाद से वर्तमान में देश में टीकाकरण चल रहा है। तो आइए जानते हैं इन दोनों में से कौन सी वैक्सीन ज्यादा असरदार है और शरीर पर कैसे असर करती है।

Co-WIN App क्या है, यह कैसे काम करता है, पंजीकरण कैसे करे - जानिए यहाँ

1) Covishield - कोविशिल्ड

ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा विकसित किया जा रहा है। इस वैक्सीन को एडिनोवायरस को निष्क्रिय करके विकसित किया गया है। एडेनोवायरस पर SARS-CoV-2 के रीढ़ प्रोटीन पर आनुवंशिक सामग्री का उपयोग करके तैयार किया गया।

कोविशील्ड कैसे काम करता है?

जब मरीज को टीके की पहली डोज़ मिलती है, तो यह एंटीबॉडी का उत्पादन शुरू करने और किसी भी कोरोनावायरस संक्रमण पर हमला करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को तैयार करता है।

कोविशील्ड कितना प्रभावी है?

कोविशील्ड की औसत प्रभावशीलता 70 प्रतिशत है। हालांकि एक महीने के बाद पूरा डोज़ देने पर यह 90 प्रतिशत से अधिक हो सकता है।

स्टोरेज

कोविशील्ड वैक्सीन को 2-8 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर स्टोर किया जा सकता है।

कीमत

सीरम संस्थान राज्यों को 400 रुपये और निजी अस्पतालों को 600 रुपये में वैक्सीन मुहैया कराएगा। केंद्र सरकार को 150 रुपये में डोज़ मिलता है।

असली और नकली मास्क की पहचान कैसे करे ? ये 3 चीज़े चेक करे

2) Covaxin - कोवैक्सिन

कोवैक्सीन एक निष्क्रिय टीका है, जिसका अर्थ है कि यह एक मृत कोरोना वायरस से बना है। भारतीय कंपनी भारत बायोटेक और ICMR कोवैक्सीन विकसित किया गया है। इसमें प्रतिरक्षा कोशिकाएं प्रतिरक्षा प्रणाली को कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी बनाने के लिए कहती हैं। इसमें प्रतिरक्षा कोशिकाएं कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी बनाने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देती हैं।

कोवेक्सिन कैसे काम करता है?

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, SARS-CoV-2 टीकाकरण के समय कोरोना वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी का उत्पादन करने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली तैयार करता है। एंटीबॉडी वायरल प्रोटीन से बंधते हैं, जैसे स्पाइक प्रोटीन जो इसकी सतह को जकड़ते हैं।

कोवेक्सिन कितना प्रभावी है?

दूसरे अंतरिम विश्लेषण में कोवैक्सीन की 78% प्रभावकारिता और गंभीर COVID-19 बीमारियों के खिलाफ 100% प्रभावकारिता दिखाई गई है।

स्टोरेज

कोवैक्सीन को 2-8 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर स्टोर किया जा सकता है।

कीमत

राज्यों के लिए कोवैक्सीन की कीमत 600 रुपये और निजी अस्पतालों के लिए 1,200 रुपये होगी। केंद्र सरकार 150 रुपये में वैक्सीन डोज़ खरीदती है।

घर बैठे भारत के प्रसिद्ध मंदिरों के Live Darshan करें मोबाइल पर फ्री में

अगर आपको ये लेख पसंद आया तो कृपया कमेंट करें और शेयर करें



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता

अगर आपको Viral News अपडेट चाहिए तो हमे फेसबुक पेज Facebook Page पर फॉलो करे.

सरकारी योजना सरकारी भर्ती 2020
The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.reporter17.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.



कोई टिप्पणी नहीं

Jason Morrow के थीम चित्र. Blogger द्वारा संचालित.