RBI ने कहा ये 3 काम करें आपका रुपया हमेशा रहेगा सुरक्षित

Admin
0


बैंक खातों में जनता के पैसे की रक्षा के लिए, भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने डेबिट कार्ड (Debit Card) और क्रेडिट कार्ड (Credit Card) के उपयोग पर नए नियम पेश किए हैं। तदनुसार कुछ आवश्यक परिवर्तन किए गए हैं। इसके साथ ही आरबीआई (RBI) ने अपने ट्विटर हैंडल पर महत्वपूर्ण जानकारी दी है।


RBI डेबिट और क्रेडिट कार्ड के उपयोग पर नए नियम लागू करता है, बैंक ग्राहकों को धोखाधड़ी से बचने के लिए 3 महत्वपूर्ण टिप्स देता है

10 मिनट में नया PAN Card अपने मोबाइल पर Free में, मोदी सरकार की योजना

RBI की 3 सलाह

आरबीआई (RBI) ने तत्काल 3 कार्रवाई की सलाह दी है।

पहली सलाह : लेनदेन के लिए एक दैनिक सीमा निर्धारित करें।

दूसरी सलाह : स्थानीय या अंतर्राष्ट्रीय उपयोग पर सीमा निर्धारित करें।

तीसरी सलाह : अंतरराष्ट्रीय उपयोग को चालू / बंद करना।

RBI का कहना है कि ऐसा करने से, बैंक ग्राहक धोखाधड़ी और आपकी लागतों से होने वाले नुकसान दोनों को सीमित करता है। विशेष रूप से SBI, BOB, ICICI Bank, HDFC Bank ने भी इस संबंध में ग्राहकों को संदेश भेजे हैं। इसमें कहा गया है कि उनके क्रेडिट और डेबिट कार्ड पर कुछ सेवाएं 1 अक्टूबर से बंद कर दी जाएंगी। इसमें अंतरराष्ट्रीय लेनदेन सेवाएं भी शामिल हैं।

सीधे शब्दों में कहें, एक बैंक ग्राहक अब अपने स्वयं के ATM और क्रेडिट कार्ड की सीमा निर्धारित कर सकता है। मान लें कि यदि आप अपने कार्ड पर एक हजार से अधिक नहीं चाहते हैं, तो आप इंटरनेट में मैनुअल आकर लेनदेन की सीमा को बदल सकते हैं। आप मोबाइल ऐप, इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम मशीन या आईवीआर के माध्यम से किसी भी समय अपनी कार्ड सीमा बढ़ा सकते हैं।
 
यह सुविधा सप्ताह में 7 दिन, सप्ताह में 24 घंटे उपलब्ध है। इसका मतलब यह है कि अब आप अपनी खुद की ATM Card ट्रांजैक्शन लिमिट खुद ही सेट कर पाएंगे। RBI ने उपभोक्ताओं से यह तय करने के लिए कहा है कि वे कौन सी सेवा लेना चाहते हैं और कौन सी सुविधा को बंद करना है।

ग्राहकों को अब केवल डेबिट और क्रेडिट कार्ड जारी करते समय स्थानीय लेनदेन की अनुमति दी जाएगी। उनका मतलब है कि ATM मशीन से पैसा निकालते समय और जरूरत न होने पर पीओएस टर्मिनल पर खरीदारी करने पर विदेशी लेनदेन की अनुमति नहीं होगी।


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)