Health : अपने परिवार को खतरनाक डेंगू से बचाना है - नीम का यह घरेलू इलाज डेंगू से बचाएगा

अपने परिवार को खतरनाक डेंगू से बचाना है तो इतना जरूर करे


मानसून के बाद पूरे देश में डेंगू फैल रहा है। आप इससे होने वाली मौतों के बारे में भी पढ़ेंगे। डेंगू एक एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से होता है। वह तेज बुखार के साथ शरीर के ऊपर झुकना चाहता है। यदि आप नहीं चाहते हैं कि आपके परिवार में कोई भी बीमारी से न जुड़े, तो कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। यह उल्लेख करने के लिए कि डेंगू एक वायरल बीमारी है और चार प्रकार हैं। प्रकार 1, 2, 3, 4।


  • सबसे महत्वपूर्ण बात, मच्छरों से बचने के लिए आपको क्रीम, कॉइल या मैट का उपयोग करना चाहिए।

  • जहां आप रहते हैं वहां पानी इकट्ठा न होने दें। अपने रहने की जगह को साफ रखें।

  • शाम होते ही घर के खिड़की दरवाजे बंद कर दें ताकि मच्छर अंदर न आ सकें। 

  • यदि आप सुरक्षित रहना चाहते हैं, तो सोते समय मच्छरदानी का उपयोग जरूर करें।

  • एडीज मच्छर दिन के समय काटता है। शरीर को ढक कर रखें। 

  • खुले बर्तन में पानी स्टोर न करें। सभी कंटेनरों को बंद रखें। भीड़, खुला पानी, खुली नहरें आदि मच्छरों के प्रजनन का आधार हैं।

यह भी पढ़े : चेतावनी! केवल आप ही नहीं, आपकी आने वाली पीढ़ियों को भी ये बीमारियाँ हो सकती हैं

  • जिस बर्तन में आप पानी भर रहे हैं उसे ठीक से ढंक दें। 

  • मॉर्निंग वॉक या यहां तक ​​कि इवनिंग वॉक पर जाएं, तो मच्छरों से बचाव के लिए पूरे बाहरी परिधान पहनें।

  • मच्छरों पर नियंत्रण रखें और मच्छर जनित बीमारियों जैसे डेंगू, मलेरिया से बचाव करें, मच्छर नियंत्रण एजेंसी को बुलाएं और घर पर स्प्रे करें।

  • मच्छरों को अंदर आने से रोकने के लिए कूलर, पानी की टंकी की नियमित रूप से सफाई करें और उसका पानी नियमित रूप से बदलें।

नीम का यह सरल इलाज डेंगू से बचाएगा


इसमें कोई संदेह नहीं है कि नीम के पत्ते कड़वे हो सकते हैं, लेकिन वे औषधीय गुणों का खजाना हैं। यह कई तरह की बीमारियों के इलाज में काम आता है। नीम के अर्क में मधुमेह, बैक्टीरिया और वायरस से लड़ने के गुण होते हैं। इसकी पत्तियों, जड़ों, छाल और साइट्रस में रोगों को बढ़ाने और लड़ने की शक्ति होती है। यही नहीं, डेंगू का मुकाबला करने में भी नीम मददगार साबित हो सकता है। नीम का उपयोग करना सीखें।


प्लेटलेट्स बढ़ाने में मदद करना

डेंगू के मरीजों में सबसे बड़ी समस्या यह है कि उनके रक्त में प्लेटलेट्स की संख्या कम हो जाती है, जो घातक साबित हो सकता है। नीम के पतों में औषधीय गुणों के कारण, प्लेटलेट्स न केवल रक्त की मात्रा को बढ़ाते हैं, बल्कि सफेद रक्त कोशिकाओं की संख्या भी बढ़ाते हैं जो डेंगू से लड़ने में मदद करते हैं।

नीम का रस पियें

1 कप पानी के साथ एक मुट्ठी नीम के ताजे पते को मिक्सर में पिच ले। पते को पिचने के बाद, एक पतले कपड़े से रस निचोड़ें। यदि आपको यह रस कड़वा लगता है, तो आप कुछ शहद डाल के भी इसे पी सकते हैं। आप चाहें तो नीम का उकाला भी पी सकते हैं। इसके लिए नीम के पते को 1 गिलास पानी के साथ उबालें और अगर आधा पानी बचा हो तो इसे निचोड़ के पी लें। इसमें मौजूद एंटी-वायरल गुण आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देंगे और डेंगू जैसी घातक बीमारियों से बचाएंगे।

यह भी पढ़े : Heart की धमनियाँ Blockage होती है तो मिलते है ऐसे संकेत - जानिए और बचिए

रक्त की शुद्धि

नीम प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर है। इसमें हर्बल गुण भी होते हैं। यह आपके रक्त को साफ करता है और यकृत और गुर्दे को स्वस्थ रखता है। नीम में विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने की ताकत होती है। यह अच्छे रक्त संचार को भी बनाए रखता है। यह उच्च रक्त शर्करा और रक्तचाप को नियंत्रण में रखने में मदद करता है।

पीलिया और पथरी में फायदेमंद

पीलिया यानि की जॉन्डिस रोग में इसका सेवन लाभकारी है। पित्ताशय की थैली से आंत में रुकावट पीलिया का कारण बनता है। रोगी को नीम की पत्ती के रस में लौंग मिलाकर पीना चाहिए। या इसे 2 भागों नीम के रस और 1 भाग शहद के साथ मिलाके पी सकते है। ऐसा करने से पीलिया में बहुत लाभ होता है। पथरी की समस्या से बचने के लिए, 150 ग्राम नीम पते को 1 लीटर पानी के साथ उबाले। पानी का तापमान सामान्य होते ही पी जाईए। ऐसा करने से पथरी हट जाएंगे। अगर पथरी किडनी में हैं, तो आपको इसका फायदा पाने के लिए रोजाना नीम के पत्ते में 2 ग्राम राख को पानी के साथ लेना चाहिए।

हम अपने सभी visitors से अनुरोध करते है की अगर आपको इस वेबसाइट से सहायता मिली हो तो अपने सभी मित्रो को इसके बारे में बताये। और उनके साथ शेयर करे।

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to "Health : अपने परिवार को खतरनाक डेंगू से बचाना है - नीम का यह घरेलू इलाज डेंगू से बचाएगा"

Post a Comment