Lifestyle : मृत्यु के बाद कैसी होगी आत्मा की यात्रा? यह जानके आप कांप उठेंगे

मृत्यु जीवन का अंतिम सत्य है। हम सभी जानते हैं कि एक दिन हमें इस शरीर को त्यागना होगा। आत्मा अमर है और एक शरीर से दूसरे शरीर में जाती है। लेकिन धार्मिक मान्यता के अनुसार आत्मा उनके बीच यमलोक जाती है। आत्मा यमलोक शहर कैसे पहुँचती है? यात्रा कैसी है? आज मृत्यु के बाद आत्मा की रोमांचक यात्रा के बारे में जानें।


1 वर्ष तक चलती है आत्मा की यात्रा

मृत्यु के बाद आत्मा प्रतिदिन 200 योजन चलती है, अर्थात लगभग 1600 किलोमीटर, योनि में। एक योजन 8 किमी का होता है। इस प्रकार 1 वर्ष में आत्मा यमराज के घर पहुँच जाती है। वैतरणी नदी को छोड़कर यमलोक मार्ग 86,000 योजन का है। वैतरणी नदी बहुत ही भयभीत करने वाली है और इसे पार करना बहुत कठिन है।

यमलोक का रास्ता इस प्रकार है

यम मार्ग पर 16 नगर हैं। यह सभी नगर भयानक है। आत्मा को बहुत कम समय के लिए यहां रहने का मौका मिलता है। यहाँ आत्मा अपने जन्म के कर्म और परिवार को याद करके दुखी होती है। यहां तक ​​कि यमदूतों की पीड़ा से दुखी होकर सोच रहे थे कि आगे उन्हें किस तरह का शरीर मिलेगा।

यम मार्ग में भी भयानक नरक

यम मार्ग में कई नरक हैं। उनमें से कुछ के नाम हैं अंधेरे, तांबे। अंधेरा कीचड़ से भरा है जबकि तांबा तांबे की तरह गर्म है। इस रास्ते पर जाने से पापी की आत्मा को चोट पहुँचती है।

यह भी पढ़े : Mobile lost complaint : चोरी फोन मिलेगा जल्दी ? सरकार ला रही ये सुविधा

यमलोक के द्वारपाल

यमराज भवन में धर्मध्वज नामक द्वारपाल पहरा भरता है। चित्रगुप्त पापी लोगों की आत्माओं को यमलोक आने का निर्देश देते हैं। यमलोक के दरवाजे पर, दो भयानक कुत्ते पहरा भरते हैं जो लाल आंखों से पापियों की दृष्टि पकड़ना चाहते हैं।

कर्मों का खाता

यमराज के दरबार में ब्रह्माजी के पुत्र श्रवण और उनकी पत्नी श्रवणी रहते हैं। पुरुषों के कार्यों का श्रवण हिसाब रखते है। वह दूर से सभी पुरुषों की बातें सुनता है और उनकी पाप पूर्णता का रिकॉर्ड करता है। उनके अनुसार यमराज पुरुषों को उनके कर्म के लिए पुरस्कृत करते हैं।

कर्म के फल मिलते हैं

श्रवण की पत्नी यमराज को महिलाओं की पापबुद्धि के बारे में बताती है। अपने शब्दों और सलाह के आधार पर, यमराज महिलाओं को उनके कर्मों का फल देते हैं। सूर्य, चंद्रमा, जल, आकाश, मन, दिन और रात सभी मानव कर्म के साक्षी हैं। यमराज ने अपने कर्मों की गणना करते समय एक व्यक्ति को एक साक्षी बनने का आह्वान किया है।


मिलती है नई यात्रा

कई ऋषि और राजगण जो अश्वमेध यज्ञ के साथ उत्कृष्ट लोक में हैं, वे भी यमराज के दरबार में सलाहकार हैं। हर किसी के साथ इस विषय पर चर्चा करने के बाद, यमराज उस व्यक्ति को दंड देते हैं और उसके अगले शरीर के बारे में सोचते हैं। अपने कर्म का फल भोग कर, शेष कर्म का फल भोगने के लिए पशु को नया शरीर धारण करना पड़ता है।

अगर आपको ये लेख पसंद आया तो कृपया कमेंट करें और शेयर करें


अगर आपको Viral News अपडेट चाहिए तो बाई और दिय गयी Bell आइकॉन पर क्लिक करे या फिर हमे फेसबुक पेज Facebook Page पर फॉलो करे.

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.reporter17.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to "Lifestyle : मृत्यु के बाद कैसी होगी आत्मा की यात्रा? यह जानके आप कांप उठेंगे"

Post a Comment