About Me

Education Tips : बिना फीस दिए पढ़े और नौकरी मिले तब फीस दे - नौकरी भी कंपनी दिलाएगी

अब एक ऐसा जमाना आया है जिसमे आपको अभी पैसे नहीं देना हे पढ़ने का जब आपको जॉब मिलेगी उसके बाद आपको फीस देनी होगी। अमेरिका में ये सब बहोत पहलसे है. अब इंडिया आया है. देखते है उसे किन लोगो ने और कहा मैं अभी चालु हुआ है. अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगे तो किसी जरुरत मंद को शेयर जरूर करे.




सौम्या भट्टाचार्य, रिका भट्टाचार्य, श्रीराधा दे बसु, नई दिल्ली: शिक्षा देश के सबसे तेजी से बढ़ते क्षेत्र में शामिल है। नए नए इनोवेशन हो रहे है । Education क्षेत्र गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए फीस के लिए एक नए मॉडल को अपनाने की तैयारी कर रहे है। इसे आय शेयर समझौता (ISA) कहा जाता है।

बिना फीस दिए पढ़े और नौकरी मिले तब फीस दे ? कैसे और कहा अभी चालु हुआ है ?



एक अच्छी नौकरी की संभावना वाले कोर्स में Loan प्राप्त करना आसान है और Loan देनेवाले के लिए जोखिम भी काम होता है। छात्रों के साथ-साथ यह संस्थान के लिए भी अच्छा है जो स्किल से जुड़ा एक कोर्स चलाता है। ISA  की पेशकश करने वाले संस्थान भी छात्रों के लिए अच्छी नौकरियां खोजने में बड़ी भूमिका निभाते हैं। यह जोखिम को कम करता है।

Urgent Jobs in Delhi - Monthly 35000 Salary 10th Pass



अमरीका मैं ISA education business मोडल बहोत ही लोकप्रिय हो रहा है. भारत मैं अभी प्राथमिक चरण मैं है. कुछ स्टार्टउपर स्पेशल स्किल वाले कोर्स के लिए पेश कर रहे है।  कुछ institute भी हो जो पढाई के बाद नौकरी मिलने पर फीस देने के प्रावधान के लिए सोच रहे है

Law फर्म श्री अमरचंद मंगलदास नगरवल्ली जी के मुताबिक 'ISA से institute को ऐसे टैलेंटेड स्टूडेंट को मदद करेगा जो फीस भरने के लिए सक्षम नहीं है जो फीस नहीं चूका सकते है. इस Loan स्ट्रक्चर मैं institute भी शामिल होते है और वो भी अच्छा placement के वादे से Education Loan का जोखिम काम हो जाता है. ये कांसेप्ट अभी पहले चरण मैं है.. काफी सारे institute उसको अपनाने की कोशिश कर रहे है. टेक्नोलॉजी और स्पेशल स्किल कोर्स का बहुत यूज़ कर रहे क्योकि अभी जॉब मार्किट मैं उसकी ही डिमांड है

अभी भारत मैं  ISA model in India are AttainU, InterviewBit, Pesto Tech, AltCampus. इसमें मौजूद है.


AttainU Course पूरा होने के बाद कम से कम 5 लाख रुपये का वार्षिक वेतन देने का वादा करता है। यदि छात्र को 5 लाख से कम रुपए की नौकरी मिलती है तो उसे फीस नहीं देना। छात्र, जो प्लेसमेंट में सफल होता है यानी की जिसकी नौकरी लगी जिसकी सालाना वेतन 5 लाख से अधिक है तो उसे, अपने मासिक वेतन का  15% पैसे अपनी फीस का भुगतान करना पड़ेगा। ISA  बाद में फीस देने के लिए मॉडल है, एटन यू के संस्थापक सीईओ दिव्यम गोयल कहते हैं। यह रोजगार की स्थिति से जुड़ा हुआ है। इस मॉडल पर हम तीन गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों और फिनटेक कंपनियों के साथ काम कर रहे हैं; यदि छात्र को निर्दिष्ट सीमा से परे नौकरी मिलती है, तो अनुबंध छात्र, NBFC और AttainU के बीच अनुबंधित है। छात्र NBFC को शून्य ब्याज दर का भुगतान करता है। NBFC के एक कार्यकारी ने कहा कि मॉडल एक ब्याज-आधारित उप-आधारित व्यक्तिगत ऋण के समान है। Law Firm ट्रेलिगल के प्रमुख अजय राघवन ने कहा कि ISA  Eduction Finance  विकल्पों को एक नई ऊंचाई पर ले जाएगा।

How can get Education Loan  Pay After Job



पुणे स्थित रिस्किलिंग स्टार्टअप InterWubit, जहां छात्र / पेशेवर नौकरी से निकलने के बाद केवल course fees  का भुगतान करते हैं, शुरू में छात्रों को मुफ्त में ऑनलाइन कोर्स प्रदान कर रहे थे और प्लेसमेंट होते ही कंपनियों से हायरिंग शुल्क ले रहे थे। कंपनी में 600 से अधिक कंपनियों के साथ भागीदारी थी , Amzon  और Uber । हालांकि, मार्जिन बहोत कम थे। इसलिए जब InterWubit ऑनलाइन मॉडल से आगे बढ़ना चाहता था, तो उसने बैंकों / एनबीएफसी की मदद से ISA  मार्ग लेने का फैसला किया।

InterviewBit.com के कॉफाउंडर अभिमन्यु सक्सेना का कहना है कि गुणवत्ता पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है। ISA  के तहत अपने पहले बैच के लिए, जिसने इस साल की शुरुआत में 9,000 से अधिक प्रवेश परीक्षा दी थी। केवल 200 चुने गए। 200 मैं से लगभग 70% से ही नौकरी के प्रस्ताव आ गए हैं।

आपको हमारा ये पोस्ट कैसा लगा. अगर अच्छा लगा हो तो Please शेर जरूर करे ताकि दुसरो को भी ये जानकारी मिले। कोई और जानकारी चाहिए तो हमें कमेंट करके बताए।

Post a Comment

0 Comments