मैगी पर लगा 640 करोड़ का जुर्माना, मैगी खाने से इस तरह की बीमारी हो सकती है - Fined 640 crore on magi

मैगी पर लगा 640 करोड़ का जुर्माना, मैगी खाने से इस तरह की बीमारी हो सकती है…बच्चों का दिमाग कमजोर हो जाता है, पढ़िए रिपोर्ट

नेस्ले इंडिया ने गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट को स्वीकार करते हुए सभी को आश्चर्यचकित कर दिया कि मैगी नूडल्स की एक निश्चित मात्रा में सीसा है। नेस्ले का दावा है कि वह मानक मानकों के भीतर है और इससे स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ने की संभावना उचित है। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने नेस्ले से सख्त रवैया अपनाते हुए पूछा, 'हम सीसा से भरे मैगी क्यों खाते हैं?' “अदालती कार्यवाही शुरू होने के बाद, राष्ट्रीय उपभोक्ता निवारण आयोग (NCDRC) ने नेस्ले इंडिया के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

 Image : dailyhunt

हालांकि, ३ साल पहले , 2015 में, देश के कई राज्यों से मैगी का नमूना लेने के लिए अधिक मात्रा में सीसा लेने की बात हुई थी। सेंट्रल फूड टेक्नोलॉजिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट के अनुसार, मैसूर में मैगी में सीसे की मात्रा देखी गई। उसके बाद, उपभोक्ता आयोग ने नेस्ले को मैगी नुडल्स के गलत नाम और व्यवसाय के कुप्रबंधन के बारे में शिकायत की, जिससे ग्राहक के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा।

आपको बता दें कि लेड एक ऐसी चीज है जो जहर मानव शरीर के समान है। यह दिल और दिल जैसे महत्वपूर्ण अंगों को बुरी तरह से नुकसान पहुंचाता है, और हर डॉक्टर इसे रोकने के लिए मैगी न खाने की सलाह देता है। विशेषज्ञों के अनुसार, यह पेयजल प्रणाली से जुड़े सिस्टम में पुराने पाइप, सौंदर्य प्रसाधन और पेंट, डिब्बाबंद भोजन, पुराने पाइप और बैक्टीरिया में पाया जाता है।

दिल्ली की लेडी हार्डिंग के वरिष्ठ निवासी विवेक चौकके के अनुसार, सीसा का उपयोग खतरनाक और बहुत खतरनाक नहीं है। किडनी और तंत्रिका तंत्र का सबसे बुरा प्रभाव बहुत खतरनाक है। यह 6 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए बहुत घातक है और उनके मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जो उनके आईक्यू स्तर को भी प्रभावित करता है।

आपको बता दें कि लेड एक ऐसी चीज है जो जहर मानव शरीर के समान है। यह दिल और दिल जैसे महत्वपूर्ण अंगों को बुरी तरह से नुकसान पहुंचाता है, और हर डॉक्टर इसे रोकने के लिए मैगी न खाने की सलाह देता है। विशेषज्ञों के अनुसार, यह पेयजल प्रणाली से जुड़े सिस्टम में पुराने पाइप, सौंदर्य प्रसाधन और पेंट, डिब्बाबंद भोजन, पुराने पाइप और बैक्टीरिया में पाया जाता है।...

भारत में निर्धारित मानकों के अनुसार, किसी भी खाद्य उत्पाद में सीसे की मात्रा 2.5 पीपीएम तक होनी चाहिए, लेकिन मैगी में यह बहुत अधिक पाया जाता है। अमेरिका सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल के अनुसार, रक्त में लेड की मात्रा सुरक्षित नहीं मानी जाती है। यह शरीर के लिए हानिकारक है। शोध के अनुसार, रक्त में सीसे का अनुपात रक्त, मांसपेशियों और हड्डियों के प्रभाव को दर्शाता है, क्योंकि यह जमा होता है।

सरकार ने 640 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है और नेस्ले पर गलत तरीके से कारोबार करने और गलत तरीके से लेबल लगाने और भ्रामक विज्ञापन करने का तरीका अपनाकर इसे भरने की मांग की है। सुप्रीम कोर्ट 16 दिसंबर, 2015 को एनसीडीआरसी की कार्यवाही पर रोक लगा दी। अदालत ने मैसूरु में स्थित केंद्रीय खाद्य प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान से मैगी के नमूनों की जांच रिपोर्ट मांगी। सिंघवी ने अदालत को बताया कि लैब रिपोर्ट में मैगी में सीसे की संख्या निर्धारित मानदंडों में पाई गई थी। कोर्ट ने कहा कि लैब की रिपोर्ट को ध्यान में रखते हुए एनसीडीआरसी इसकी सुनेगी।

अंग्रेजी मैं पढ़ने के लिए :- www.trendznews.com

अगर आपको ये लेख पसंद आया तो कृपया कमेंट करें और शेयर करें


अगर आपको Viral News अपडेट चाहिए तो बाई और दिय गयी Bell आइकॉन पर क्लिक करे या फिर हमे फेसबुक पेज Facebook Page पर फॉलो करे.

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


The views and opinions expressed in article/website are those of the authors and do not Necessarily reflect the official policy or position of www.reporter17.com. Any content provided by our bloggers or authors are of their opinion, and are not intended to malign any religion, ethic group, club, organization, Company, individual or anyone or anything.

Subscribe to receive free email updates:

0 Response to "मैगी पर लगा 640 करोड़ का जुर्माना, मैगी खाने से इस तरह की बीमारी हो सकती है - Fined 640 crore on magi"

Post a Comment