Thursday, July 19, 2018

बच्चों को इंटरनेट से दूर रखना चाहते है तो अपना सकते है ये ट्रिक्स



डिजिटल संसार में बच्चों के हाथ में स्मार्टफोन होना आम बात है. कुछ हद तक ये ठीक भी है क्योंकि इंटरनेट अब पढ़ाई-लिखाई के लिए जरूरी हो चुका है. दूसरी ओर इंटरनेट की लत उनके बचपन और यहां तक कि उनकी जिंदगी पर भी खतरा हैं. हम आपसे साझा कर रहे हैं, ऐसे कुछ तरीके, जिनसे आप बच्चों पर नजर रख सकते हैं कि वो इंटरनेट पर क्या कर रहे हैं

बच्चों को इंटरनेट से दूर रखना चाहते है तो अपना सकते है ये ट्रिक्स


क्या देख रहे है किस टॉपिक पर जा रहे है कोय आदत तो नहीं लग गयी है वगेरे बहोत बस्तु पर आप नजर रख सकते है

अनलिमिटेड भाभी व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करने केलिए


पेरेंटल कंट्रोल एप्लीकेशन जरिये आप  बहोत कुछ कर सकते है इसे  मोबाइल में डालकर कुछ खास गेम्स या एप्स को लॉक किया जा सकता है, जो आपको लगता है कि आपके बच्चे के लिए ठीक नहीं.

इंटरनेट के दूसरे खतरों पर भी खुली चर्चा की जा सकती है. उन्हें उदाहरण देकर समझाया जा सकता है कि किस तरह से कुछ खास गेम्स लत लगा देते हैं और पढ़ाई से दूर कर देते हैं.

बच्चा अगर सोशल मीडिया पर एक्टिव है तो प्राइवेसी पर बात की जानी चाहिए. किस तरह से फोटो या पोस्ट पर गलत किस्म के लोग ट्रैप या ट्रोल कर सकते हैं, ये भी बताएं.



इंटरनेट के इस्तेमाल के लिए कुछ नियम तय किए जाने चाहिए. कब, कितनी देर इंटरनेट चलेगा. बच्चा किनसे संपर्क न करे. दोस्ताना व्यवहार रखें ताकि किसी मुसीबत में आपसे बात करने से घबराए नहीं.


सोशल मीडिया पर उनके दोस्तों की सूची में आप भी शामिल हो सकते हैं. उन्हें यकीन दिलाएं कि आप उनकी वॉल पर कभी शर्मिंदा करने के लिए नहीं आएंगे लेकिन दोस्तों की सूची में आपका होना क्यों जरूरी है.

ब्राउजिंग साइट्स पर तगड़ा नियंत्रण रखें. ये किसी तरह की शर्म की बात नहीं और न ही इससे आपके दोस्ताना ताल्लुकात पर कोई फर्क पड़ेगा. कमउम्र बच्चा किस तरह की साइट देख रहा है, इसपर नजर रखना आपके लिए जरूरी है. आप इसतरह से अपने बच्चों को इंटरनेट से दूर रख सकते है और उसका  ख्याल भी रख सकते है और धीरे धीरे इंटरनेट से  दुरी बन सकते है बच्चे

आपको हमारा ये जानकारी कैसा लगा अच्छा लगे तो अपने दोस्तों जरूर शेयर करे और कमेंट करना न भूले

यह जानकारी भी पढ़े




बच्चों को इंटरनेट से दूर रखना चाहते है तो अपना सकते है ये ट्रिक्स Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Info reporter

0 comments: