अगर यूक्रेन और रूस के बीच परमाणु युद्ध हुआ तो क्या होगा?

Admin
0


Ukraine और Russia के बीच युद्ध चरम पर पहुंच गया है। Russia ने भी युद्ध में परमाणु हथियारों के इस्तेमाल की धमकी दी है। Russia राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने Russia के परमाणु बल को अलर्ट रहने का आदेश दिया है। Ukraine पर हमले से पहले अपने भाषण में, व्लादिमीर पुतिन ने दुनिया के हर देश को धमकी देते हुए कहा कि अगर कोई देश युद्ध में हस्तक्षेप करने की कोशिश करता है, तो उसे परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करना होगा और यह पूरे Europe को बर्बाद कर सकता है।

अगर यूक्रेन और रूस के बीच परमाणु युद्ध हुआ तो क्या होगा?



Nuclear War कुछ ही मिनटों में हजारों लोगों की जान ले सकता है। ऐसा ही हुआ 1945 में जब America ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान Japan के Hiroshima और Nagasaki पर Nuclear War किया था। हमले के कुछ ही मिनटों में लाखों लोग मारे गए थे। विस्फोट के प्रभाव इतने महान थे कि लोग आने वाले वर्षों तक मरते रहे।

देश या विदेश में नहीं गुजरात में है यह आइलैंड - देखे यहाँ

युद्ध की नाजुक स्थिति में भी खतरा टला नहीं है

Russia और Ukraine के बीच जारी जंग ने Nuclear War का खतरा बढ़ा दिया है. हालांकि युद्ध अब एक महत्वपूर्ण चरण में पहुंच गया है, लेकिन जोखिम से इंकार नहीं किया जा सकता है। संयुक्त राज्य America सहित पश्चिमी राष्ट्र Ukraine की मदद कर रहे हैं और पहले ही Russia राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को चेतावनी दे चुके हैं कि युद्ध में हस्तक्षेप करने वाले किसी भी देश के गंभीर परिणाम हो सकते हैं। विशेषज्ञ पुतिन की धमकी को Nuclear War से जोड़ रहे हैं।

Japan को Nuclear War का सामना करना पड़ा है, और बचे हुए लोग अभी भी दिन से पीड़ित हैं। Nuclear War बर्बादी के अलावा कुछ नहीं लाता।

अगर परमाणु युद्ध होता है तो क्या होगा?

स्विट्ज़रलैंड में संगठनों में से एक परमाणु हथियार (ICAN) को खत्म करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय अभियान है। संगठन ने 2017 का नोबेल शांति पुरस्कार भी जीता। ICAN के अनुसार, एक परमाणु बम एक झटके में लाखों लोगों की जान लेता है। यदि 10 या इससे अधिक ऐसे बमों में विस्फोट किया जाता, तो लाखों लोग मारे जाते। साथ ही पूरी पृथ्वी की जलवायु प्रणाली बिगड़ जाएगी।

लाखों मौतें

ICAN के अनुसार, एक परमाणु बम पूरे शहर को तबाह कर देता है। अगर इस युद्ध की स्थिति में बड़ी संख्या में परमाणु हथियारों का इस्तेमाल किया जाता तो लाखों लोग मारे जाते। इसके अलावा, यदि संयुक्त राज्य अमेरिका और रूस के बीच परमाणु युद्ध छिड़ जाता है, तो मरने वालों की संख्या 100 मिलियन से अधिक हो सकती है।

मुंबई जैसे शहर में एक किलोमीटर के दायरे में 1 लाख से ज्यादा लोग रहते हैं। हिरोशिमा जैसा परमाणु विस्फोट एक हफ्ते में 8.70 लाख लोगों की जान ले सकता था। अगर अमेरिका और रूस के बीच परमाणु युद्ध में 500 परमाणु बमों का इस्तेमाल किया जाता, तो आधे घंटे में 100 मिलियन से अधिक लोग मारे जाते।

इतना ही नहीं, अगर दुनिया के 1% से भी कम परमाणु हथियारों का इस्तेमाल युद्ध में किया जाता, तो इससे 2 अरब लोग भूखे मर जाते। साथ ही पूरी स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा जाएगी। परमाणु हमले में घायल हुए लोगों का इलाज भी संभव नहीं है।

परमाणु बम से 100 किमी तक का क्षेत्र नष्ट हो जाएगा

रक्षा विशेषज्ञ संदीप थापर ने मीडिया को बताया कि अगर 30 किलो के परमाणु बम का इस्तेमाल किया गया तो 4 किमी तक का क्षेत्र पूरी तरह से नष्ट हो जाएगा। अगर 1000 किलोटन से बमबारी की जाए तो इसका असर 100 किमी तक देखा जा सकता है। यह अपशिष्ट एक गोलाकार रूप में होता है। ये हमले हिरोशिमा और नागासाकी से ज्यादा नुकसान कर सकते थे। हिरोशिमा की बमबारी का वजन 15 किलोग्राम था, जबकि नागासाकी की बमबारी का वजन 20 किलोग्राम था। इसने पूरे शहर को तबाह कर दिया था। रूस एक ऐसे परमाणु बम का इस्तेमाल कर सकता है जो किसी एक शहर पर हमला कर सकता है, या जो इससे भी ज्यादा नुकसान कर सकता है।

AC - Cooler भूल जाइए, कमरे को ठंडा कर देगा ये प्लास्टिक ! घर का बिल भी बचेगा।

बिगड़ेगी धरती की पूरी जलवायु प्रणाली

हिरोशिमा पर गिराया गया एक परमाणु बम पूरी पृथ्वी प्रणाली को नष्ट कर देगा यदि एक ही आकार के 100 बमों से हमला किया जाए। यह पूरी जलवायु प्रणाली को बर्बाद कर देगा और कृषि पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगा।

दुनिया इस समय ग्लोबल वार्मिंग से जूझ रही है, लेकिन अगर परमाणु युद्ध छिड़ गया, तो पृथ्वी का तापमान तेजी से गिरेगा। ऐसा इसलिए क्योंकि इस हमले में इतना धुआं निकलेगा और उसकी एक परत जम जाएगी। ऐसा अनुमान है कि अगर ऐसा होता है तो कम से कम 10 प्रतिशत जगह को सूरज की रोशनी नहीं मिलेगी।

यदि दुनिया के सभी परमाणु हथियारों का उपयोग किया जाता है, तो यह पृथ्वी के समताप मंडल में 150 मिलियन टन धुआं जमा कर देगा। समताप मंडल पृथ्वी की बाहरी परत है, जो ओजोन परत पर है।

इतना ही नहीं परमाणु युद्ध के बाद दुनिया के ज्यादातर देशों में बारिश नहीं होगी। वैश्विक वर्षा में 45% की कमी आएगी और पृथ्वी का औसत तापमान -7 से -8 डिग्री सेल्सियस रहेगा। तुलनात्मक रूप से, 18,000 साल पहले, जब हिमयुग था, तापमान -5 डिग्री सेल्सियस था। यानी अगर परमाणु युद्ध होता तो दुनिया 18,000 साल पीछे चली जाएगी।

क्या हुआ था जब हिरोशिमा-नागासाकी में हमला हुआ था?

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापान झुकने को तैयार नहीं था। इसके बाद संयुक्त राज्य अमेरिका ने अपने दो शहरों हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराए। 6 अगस्त 1945 को हिरोशिमा पर और 9 अगस्त 1945 को नागासाकी पर परमाणु बम से हमला किया गया था।

1945 के अंत तक हिरोशिमा की बमबारी में 1.40 मिलियन लोग मारे गए थे। जब नागासाकी पर बमबारी की गई, तो पहाड़ों से इसका विकिरण 6.7 किमी तक फैल गया। 1945 के अंत तक इसने 74, 000 लोगों को मार डाला। हमले के बाद जमीन का तापमान बढ़कर 4,000 डिग्री सेल्सियस हो गया।

परमाणु बम गिरने के 10 सेकंड के भीतर लोग मर जाते हैं और प्रभाव दशकों तक रहता है। वर्षों के परमाणु युद्ध के बाद भी, लोग अभी भी ल्यूकेमिया, कैंसर और फेफड़ों की अन्य गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं। इतना ही नहीं, बल्कि इस युद्ध की वजह से लाखों लोगों की आंखों की रोशनी भी जा सकती है।

इस पत्ते का 1 चम्मच रस 3 दिन तक पियें, सर्दी-खांसी, बुखार हो जायेंगे दूर



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)