इस वस्तु की कीमत 14 साल बाद बढ़ने जा रही है

Admin
0


जीवन की सभी आवश्यकताओं की कीमतें बदल रही हैं। आज पेट्रोल से लेकर खाने-पीने की चीजों तक के दाम बढ़ गए हैं। लेकिन जीवन की आवश्यकताएं कुछ ऐसी हैं जिन्हें कई वर्षों से महत्व दिया गया है। लेकिन अब इसकी कीमत बढ़ने वाली है।

इस वस्तु की कीमत 14 साल बाद बढ़ने जा रही है



14 साल में केवल एक चीज जिसने आपकी जेब पर कोई दबाव नहीं डाला। महंगाई के बोझ तले उसका वजन थोड़ा कम हुआ लेकिन कीमतें नहीं बढ़ीं। लेकिन अब 14 साल बाद माचिस की डिब्बियों (Matches Box) के दाम बढ़ने वाले हैं। इसमें एक रुपये का खर्च आएगा। अगले महीने से यह डिब्बा दो रुपये में उपलब्ध हो जाएगा। बॉक्स उद्योग संगठनों के प्रतिनिधियों ने सर्वसम्मति से 1 दिसंबर से माचिस (Matches) की MRP 1 रुपये से बढ़ाकर 2 रुपये करने का फैसला किया है। माचिस (Matches) की तीलियों की कीमत आखिरी बार 2007 में संशोधित की गई थी, जब कीमत 50 पैसे से बढ़ाकर 1 रुपये की गई थी। बॉक्स की कीमत बढ़ाने का फैसला गुरुवार को शिवकाशी में ऑल इंडिया चैंबर ऑफ माचिस की बैठक में लिया गया।

5.16 करोड़ रुपये से सजा हुआ मंदिर, फूलों और नोटों के गुलदस्ते देखे Video

कीमतों में तेजी का कारण है कच्चा माल

उद्योग के प्रतिनिधियों ने कच्चे माल की कीमतों में हालिया वृद्धि को इस वृद्धि के लिए जिम्मेदार ठहराया। निर्माताओं ने कहा कि बॉक्स बनाने के लिए 14 तरह के कच्चे माल की जरूरत होती है। एक किलो लाल फास्फोरस 425 रुपये से बढ़कर 810 रुपये हो गया है। इसी तरह मोम की कीमत 58 रुपये से 80 रुपये, बाहरी बॉक्स बोर्ड 36 रुपये से 55 रुपये और भीतरी बॉक्स बोर्ड 32 रुपये से 58 रुपये हो गया है। पेपर, स्प्लिंट, पोटैशियम क्लोरेट और सल्फर की कीमतें भी 10 अक्टूबर से बढ़ी हैं। डीजल की बढ़ती कीमतों ने भी बोझ बढ़ा दिया है।

मूल्य वृद्धि में GST और परिवहन लागत शामिल नहीं है

नेशनल स्मॉल माचिस मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के सचिव वी.एस. निर्माता सेतुरथी ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया 600 माचिस (प्रत्येक बॉक्स में 50 माचिस) के बंडल 270 रुपये से 300 रुपये में बेच रहे हैं। हमने अपनी इकाइयों से बिक्री मूल्य 60% बढ़ाकर 430 से 480 रुपये प्रति बंडल करने का निर्णय लिया है। इसमें 12% GST और परिवहन लागत शामिल नहीं है।

तमिलनाडु में 4 लाख लोग इस उद्योग से जुड़े हैं

पूरे तमिलनाडु में इस उद्योग में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से लगभग चार लाख लोग कार्यरत हैं और प्रत्यक्ष कर्मचारियों में 90% से अधिक महिलाएं हैं। उद्योग कर्मचारियों को बेहतर भुगतान करके अधिक स्थिर कर्मचारियों को आकर्षित करने की उम्मीद करता है। इसका कारण यह है कि बहुत से लोग मनरेगा के तहत काम करने में रुचि दिखा रहे हैं क्योंकि वहां वेतन बेहतर है।

अपने बिज़नेस का ऑनलाइन विजिटिंग कार्ड कैसे बनाये - जाने यहाँ



Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Tags

Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)