हजीरा और घोघा के बीच शुरू होगी रो-रो फेरी सेवा : अभी जाने पूरी जानकारी

Admin
0

सूरत से सौराष्ट्र तक सड़क परिवहन अधिक है और इस लिए ये सेवा शुरू की जा रही है 

सूरत के लोगों के लिए अच्छी खबर आ रही है। हजीरा से घोघा रो रो फेरी सेवा का उद्घाटन दिवाली से पहले होगा। यह सूरत में रहने वाले सौराष्ट्र के लोगों के लिए एक महान उपहार माना जाता है। सूरत से सौराष्ट्र तक सड़क परिवहन अधिक है और इस नौका को शुरू किया जा रहा है।

Hazira - Ghogha Ro Ro Ferry full info in Diwali 2020

केंद्रीय मंत्री मनसुख मांड़विया ने मीडिया को बताया कि सड़क यातायात और रेलवे यातायात को रोकने के लिए जल परिवहन को महत्व देने पर जोर दिया जा रहा है। भारत के ऐसे जलमार्गों की पहचान की जा रही है। पीएम बांग्लादेश के साथ कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए 8 वीं रोपेक्स फेरी को भी हरी झंडी दिखाएंगे। कोचीन, असम, ब्रह्मपुत्र में एक नौका लॉन्च की जाएगी।

Gujarati Typing App - गुजराती बोले और ऑटोमेटिक मैसेज टाइपिंग हो जाएगा : Click here

सूरत को अधिक जलमार्गों के माध्यम से जोड़ा जाएगा

उन्होंने आगे कहा कि भारत में 7500 किमी का समुद्र तट है, जिसमें अधिक जलमार्ग उपलब्ध कराने के लिए प्रयास किए जाएंगे। घोघा-दहेज सेवा जारी रहेगी लेकिन रुकेगी नहीं। बदलती समुद्री परिस्थितियों के कारण घोघा और दहेज नौका सेवाएं बंद हैं। नर्मदा के बदलते प्रवाह के कारण यह सेवा बंद है। घोघा और हजीरा सेवाओं के लिए हजीरा में एक टर्मिनल बनाया जाना था।
 
 

उन्होंने आगे कहा कि जलमार्ग के माध्यम से पिपावाव और सूरत, सूरत और दीव, मुंबई और पिपावाव को जोड़ने की योजना पर काम चल रहा है। दीव में ड्रेजिंग का काम चल रहा है। जैसे ही दीव में ड्रेजिंग शुरू होगी क्रूज और रो रो फेरी शुरू हो जाएंगी।

हजीरा से घोघा रो रो फेरी की विशेषताएं क्या हैं? देखे यहाँ

1. यात्रियों के साथ वाहनों को भी ले जाया जाएगा
2. रोपेक्स फेरी एक बार में 30 ट्रकों को समायोजित करने में सक्षम होगी
3. 100 दो पहिया वाहन को समायोजित किया जा सकता है
4. 550 यात्री इस फेरी सेवा में यात्रा कर सकेंगे
5. यह फेरी सेवा किसी भी प्रकार के वातावरण में शुरू होगी
6. सार्वजनिक परिवहन के साथ-साथ कार्गो परिवहन को लाभ होगा


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)