दुनिया का सबसे ऊंचा मंदिर बनेगा गुजरात में ? पूरी जानकारी

Admin
0
अहमदाबाद में दुनिया का सबसे ऊंचा मंदिर बनने जा रहा है। दुनिया का सबसे ऊंचा मंदिर होगा। इस मंदिर के निर्माण के लिए 28-29 फरवरी को एक शिलान्यास समारोह आयोजित किया जाएगा। इसमें देशभर के संत, महंत, भक्त शामिल होंगे। 1000 करोड़ की लागत से 100 बीघा जमीन में एक भव्य मंदिर बनाया जाएगा।

विश्व उमिया फाउंडेशन अहमदाबाद ने दुनिया के सबसे ऊंचे मंदिर का निर्माण शुरू कर दिया है। दुनिया का सबसे ऊँचा और शानदार दुनिया का सबसे ऊँचा मंदिर 28 और 29 फरवरी को अहमदाबाद के जसपुर में होगा। दो दिवसीय कार्यक्रम में राज्य और दुनिया भर से 2 लाख श्रद्धालु आएंगे। समारोह में देश भर के 21 से अधिक साधु, संत, श्रद्धालु उपस्थित रहेंगे।

अपने नाम के पहले अक्षर को जानें, क्यों नहीं  होती आपके नौकरी व्यवसाय में प्रगति  ये करने से होगा फायदा

विश्व उमिया फाउंडेशन के शिलान्यास समारोह के बारे में बात करते हुए, दो दिनों में 2 लाख से अधिक भक्त होंगे। पूरे समारोह को आयोजित करने के लिए 50 से अधिक समितियों का गठन किया गया है। समिति 5,000 से अधिक स्वयंसेवकों की सेवा लेगी। साथ ही मंदिर की नींव के साथ-साथ विश्व रिकॉर्ड भी बनेगा। गंगा नीर का 108-घोड़ों का जुलूस होगा, जिसमें 11,000 बहनें भाग लेंगी। मंदिर के साथ-साथ स्किल यूनिवर्सिटी, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, हेल्थ के लिए सेवाएं शुरू की जाएंगी।


सरकार ने एक विश्व उमियाधाम के निर्माण में भी योगदान दिया है। उमियाधाम को पर्यटन स्थल बनाने में सरकार भी मदद कर रही है। विश्व वृक्ष संग्रहालय मंदिर के बगल में 50,000 वर्ग मीटर के स्थान में एक और सरकार द्वारा बनाया जाएगा। इसमें लगभग 3000 विलुप्त पेड़ लगाए जाएंगे। स्विटजरलैंड के बाद दुनिया में दूसरा ट्रिमियम यहां बनाया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को भी आमंत्रित किया गया है। हालांकि, यह अभी तय नहीं है कि वे नींव कार्यक्रम में भाग लेंगे या नहीं।



महिलाओ से जुडी कुछ चौका ने वाली रोचक बातें जो जान कर उड़ जायेंगे आप के होश

दुनिया के सबसे ऊंचे उमिया मंदिर की मुख्य विशेषताएं


- मंदिर की ऊँचाई: 431 फीट (131 मीटर)।
- उमिया मंदिर, दुनिया का सबसे ऊंचा मंदिर
- मंदिर को जर्मन वास्तुकार और भारतीय वास्तुकार द्वारा डिजाइन किया गया था
- मंदिर के शिखर की व्यू गैलरी से पूरे अहमदाबाद शहर का दृश्य
- मंदिर के शिखर पर 82, 90 और 100 मीटर की दूरी पर एक व्यू गैलरी होगी
- मंदिर का गर्भगृह पूरे भारतीय शास्त्रों में वर्णित डिजाइन के अनुसार होगा
- गर्भगृह में 52 फीट ऊंचे स्थान पर विश्व की माता विराजमान होंगी
- मा उमिया मंदिर के साथ महादेव का पारा शिवलिंग स्थापित होगा
- मंदिर को इस तरह से डिजाइन किया जाएगा कि 10,000 लोग माताजी को एक साथ देख सकें
- मंदिर का निर्माण 5-5 वर्षों की अवधि में किया जाएगा
- माताजी की प्रतिमा 10 फीट ऊंची
- बुजुर्गों, रोशनी के लिए एस्केलेटर
- 10 हजार लोगों को रोजगार देंगे

जानें दो दिवसीय समारोह की रूपरेखा:


28 फरवरी

- सुबह 8 से 12 घंटे अयुत अहुति महायज्ञ और वार उम्य की चर जीवन प्रतिष्ठा।
- उमिया के साथ गणपति दादा और बटुक भैरव के विभिन्न जीवन को भी प्रतिष्ठा।
- माँ गंगा के पवित्र जल से भरे 108 कलश का स्वागत और पूजन होगा दोपहर 2 बजे 11 हजार बहनों का जुलूस
- शाम 4 बजे डोनर्स ग्रीटिंग सेरेमनी होगी

29 फरवरी

- सुबह 8 बजे, मुख्य कृमि पत्थर सहित 9 दाता
- शाम 4 बजे मेन इवेंट लाउंज सेरेमनी
- परम पूज्य महंत स्वामी महाराज (BAPS) और श्री श्री रविशंकर (आर्ट ऑफ़ लिविंग फाउंडेशन) शिलान्यास समारोह में आशीर्वाद देंगे
- 21 से अधिक संत, महंत, महामंडलेश्वर और भारत भर के कथाकार शिलान्यास समारोह में शामिल होंगे
https://www.barobarche.in/2020/02/world-tallest-temple-in-world-in-gujarat.html
- मुख्यमंत्री विजय रूपानी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल शिलान्यास समारोह में मौजूद रहेंगे।

Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)