Bank : क्या पैसा बैंकों में सुरक्षित है? RBI के इस नियम से खून खोल जायेगा

Admin
0


Is your money safe in banks? क्या आपके Bank Account में 1 लाख से अधिक पैसा रखते है ? खबर आपके लिए है. अगर बैंक दिवालिया हो जाता है, तो आपको कितना पैसा वापस मिलेगा? जानकर आपका खून खोल जायेगा


क्या आपका पैसा बैंकों में सुरक्षित है ? Is your money safe in banks?


भारतीय रिज़र्व बैंक की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी, डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) के अनुसार,  नादार या अगर बैंक बंध हो जाती है तो कस्टमर के अपने खातों में चाहे जितनी भी राशि बैंक उसको सिर्फ 1 लाख रुपये तक का Insurance देते है। जिसका मतलब ये हुआ अगर Bank Closed हो जाता है तो बैंक में आपके कितने भी पैसे हो वो जायदा से ज्यादा १ लाख तक की रकम आपको भुगतान करेगी। Deposit insurance आये देखते है क्या पूरा मामला

पिछले कई वर्षों में, Bank पर Loan के पैसा दिय बिना काफी लोग देश से बहार चले गए और ये बात अब आम हो गयी हैं। यह एक सामान्य घटना बन गई है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अगर कोई बैंक अचानक बंद हो जाता है, तो उसके बारे में चिंता न करें। आज हम आपको बताएंगे, दिवालियापन (Bank Corrupt / Bank Closed) के बाद उसके पैसे का क्या होता है? और आप एक सुरक्षित कदम उठा सकते हैं।


लोग इसे Paisa बचाने के लिए अपना पैसा बैंक में जमा करते हैं। लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के नियम हैं जिन्हें जानना आवश्यक है।

For Example:-
RBI के नियम के अनुसार, बैंक के ग्राहकों को जमा राशि पर बीमा और गारंटी-डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) कवर दिया जाता है। जिसके लिए बैंक प्रीमियम भी चुकाता है। आमतौर पर सभी बैंक बीमा प्रीमियम - bank insurance premium का भुगतान करते हैं। हालांकि, Bank के Loan को उड़ा देने के बाद खाताधारक को 1 लाख रुपये से अधिक नहीं मिलते हैं। इसका मतलब यह है कि यदि आपके पास 1 लाख से अधिक है, तो बैंक के दिवालिया हो जाने के बाद ही आपको 1 लाख वापस मिलेंगे। DICGC को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपके बैंक खाते में कितने पैसे हैं। यह नियम सरकारी, सहकारी बैंकों पर लागू होता है।


यह PTI द्वारा दायर सूचना के अधिकार (RTI) प्रश्न के जवाब में कहा गया है कि बचत, फिक्सड, चालू और आवर्ती खातों को कवर करता है, DICGC, जो सभी Bank Deposit Insurance बैंक डिपोसिट का बीमा करता है।

"DICGS अधिनियम, 1961 की धारा 16 (1) के प्रावधानों के तहत, यदि कोई बैंक दिवालिया हो जाता है / समाप्त हो जाता है, तो DICGC प्रत्येक जमाकर्ता को परिसमापक के माध्यम से भुगतान करने के लिए उत्तरदायी होता है, उसकी जमा राशि चाहे जितनी भी हो DICGC राशि सिर्फ एक लाख रुपये तक ही बिमा राशि होती है। "



यह पूछे जाने पर कि क्या हाल ही में PMC बैंक धोखाधड़ी के बाद बैंक में 1 लाख रुपये की Deposit insurance  amount सीमा बढ़ाने का कोई प्रस्ताव है, DICGC  ने कहा कि "निगम के पास आवश्यक जानकारी नहीं है।"

निगम भारत में कार्यरत विदेशी बैंकों की शाखाओं, स्थानीय क्षेत्र के बैंकों और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों सहित सभी वाणिज्यिक बैंकों को कवर करता है। DICGC अधिनियम की धारा 2 (जीजी) में परिभाषित सभी पात्र सहकारी बैंक भी जमा बीमा योजना द्वारा कवर किए गए हैं।


https://www.barobarche.in/2019/12/rbi-is-your-money-safe-in-a-bank-in-gujarati.html


Note :

किसी भी हेल्थ टिप्स को अपनाने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले. क्योकि आपके शरीर के अनुसार क्या उचित है या कितना उचित है वो आपके डॉक्टर के अलावा कोई बेहतर नहीं जानता


Post a Comment

0Comments
Post a Comment (0)