आप में से अधिकतर लोग स्मार्टफोन इस्तेमाल करते होंगे। इनमें से कई लोगों के पास तो नया फोन होगा, कई लोगों के पास पुराना होगा। ऐसे में व कई लोग स्मार्टफोन की बैटरी लाइफ से परेशान होंगे। कुछ लोगों की शिकायत होगी कि चार्जिंग के दौरान उनका फोन गर्म हो जाता है और कईयों की शिकायत होगी कि फोन की बैटरी बहुत जल्द खत्म हो जाती है। तो आइए आज उन 10 गलतियों के बारे में जानते हैं जो आपको अपने फोन की बैटरी के साथ नहीं करनी चाहिए।


सभी फोन में ऑटो ब्राइटनेस का विकल्प मिलता है लेकिन आपके लिए बेहतर होगा कि आप इसका इस्तेमाल ना करें। आप अपनी जरूरत के हिसाब से ब्राइटनेस के लेवल को सेट करें, क्योंकि ऑटो ब्राइटनेस मोड में फोन रौशनी के हिसाब से ब्राइटनेस तय करता है ऐसे में बैटरी ज्यादा खपत होती है।

फोन को कभी पूरा चार्ज या डिस्चार्ज न करें। आजकल मोबाइल फोन में जो बैटरी लगकर आ रही है उन्हें पूरा चार्ज रखने या डिस्चार्ज कर देने की जरूरत नहीं होती। फोन में कम वोल्टेज होता है इसलिए बेहतर है अगर बैटरी 20% से 90% तक रहे।


टैब
हम में से अधिकतर लोग फोन के ब्राउजर में कई सारे टैब्स खोलकर छोड़ देते हैं और उन्हें बंद करना भूल जाते हैं। ऐसे में  बैकग्राउंड में टैब्स के खुले रहने के कारण बैटरी खपत होती है। बैटरी की लाइफ चाहते हैं तो इस्तेमाल होने के बाद इन टैब को बंद कर दें।

जब जरूरत न हो तो जीपीएस, वाई-फाई और ब्लूटूथ बंद रखें क्योंकि ऐसा करने से आप बहुत बैटरी बचा सकते हैं। साथ ही फोन भी बेहतर काम करेगा क्योंकि इन ऐप्लीकेशन को चलाने में फोन को बहुत जोर लगाना पड़ता है। वाई-फाई ऑन रहने पर फोन आसपास नेटवर्क सर्च करता है जिसमें बैटरी की खपत होती है।

Facebook F8 डेवलपर्स कॉन्फ्रेंस के बड़े अनाउंसमेंट : Whatsapp से कर सकेंगे शॉपिंग

फोन को वाइब्रेट मोड से हटा देंगे तो बैटरी बचेगी। यह बैटरी के साथ साथ सेहत के लिए भी खतरनाक है। इसके अलावा फोन के बटन दबाने पर जो वाइब्रेशन होता है उसे भी बंद कर दें क्योंकि असल में उसका कोई उपयोग नहीं होता लेकिन बैटरी खपती है।

डिस्प्ले टाइम
स्क्रीनटाइम आउट को कम रखें। मतलब फोन इस्तेमाल करने के बाद जब काम खत्म हो जाता है तो फोन एक निश्चित समय के बाद स्क्रीन को बंद कर देता है। उसे अगर '15 सेकेंड' पर सेट कर देंगे तो बैटरी सबसे ज्यादा बचेगी। ज्यादा देर तक स्क्रीन चालू रहने और इस्तेमाल न होने से बेकार में बैटरी खर्च होती है।

अगर आप भी करते है क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल तो रखें इन बातों का ध्यान

अगर आप ऑटो सिंक ऑन कर के रखते हैं तो ऐसा न करें। इसे तभी इस्तेमाल करें अगर आपको फोन में ईमेल फोल्डर हर वक्त अपडेट करने की जरूरत पड़ती है। वरना इसे ऑफ रखें और जब आपको जरूरत हो तो खुद सिंक कर लें।

कॉल तब ही करें जब सिगनल अच्छे आ रहे हों। कमजोर सिगनल में फोन सिग्नल ढूंढने के लिए ज्यादा बैटरी चूसता है और जब कॉल करने या डाटा पैक इस्तेमाल करने की बिलकुल जरूरत नहीं हो तो फोन को एयरप्लेन मोड पर लगा दें।

अगर आप भी करते है देसी गर्ल को डेट तो जान लीजिए ये बात

फोन को चार्जिंग होते वक्त इस्तेमाल न करें। यही वजह है कि ज्यादातर कंपनियां भी चार्जर का तार छोटा रखने लगी हैं। चार्जिंग के समय फोन इस्तेमाल करने से फोन की बैटरी लाइफ कम हो जाती है। एक बैटरी का चार्ज होने का निश्चित चक्र होता है यानि वह निश्चित समय तक के लिए ही चार्ज होगी और चक्र के पूरा हो जाने पर बैटरी बदलना ही बेहतर होता है।

बैटरी या चार्जर खराब हो जाने पर उसी कंपनी का चार्जर/बैटरी खरीदें जिसका फोन है। नकली, लोकल या किसी और कंपनी का खरीदने से बैटरी की लाइफ कम हो जाती है।